Coronavirus: अगर घर में हैं पेट्स तो मत हों परेशान बरतें ये सावधानियां

नए कोरोना वायरस यानी कोविड-19 के जानवरों में फैलने के मामले नहीं दिखे हैं लेकिन सीडीसी भी यही कहता है कि अगर आप जानवरों को छू रहे हैं, तो अपने हाथों को साबुन से जरूर धोएं.

स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों के मुताबिक, अगर आप संक्रमित हैं तो अपने पालतू जानवर (Pets) में कोरोना वायरस (Coronavirus) फैला सकते हैं. वहीं, डॉक्‍टरों का कहना है कि संक्रमण से बचने के लिए कच्‍चा या अधपका मांस (Meat) न खाएं. साथ ही दूध (Milk) और सब्जियां (Vegetables) भी पूरी तरह भारतीय अंदाज में पका कर ही खाएं.

  • Share this:
    स्‍कंद शुक्‍ला

    कोरोना वायरस (Coronavirus) का खौफ पूरी दुनिया में फैला हुआ है. दुनिया भर में अब तक 4,71,417 लोग संक्रमित (Infected) हो चुके हैं. इनमें 21,295 लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच 1,14,642 लोग स्‍वस्‍थ होकर घरों को लौट चुके हैं. डर का आलम कुछ ऐसा है कि इस समय लोग हर जानवर और इंसान को शक की नजरों से देख रहे हैं. यहां तक कि लोग वैश्विक महामारी (Pandemic) के इस दौर में अपने पालतू जानवरों (Pets) को लेकर भी सशंकित और चिंतित हैं. भारत में काफी लोग नॉनवेज (Non-Veg) खाते हैं. बहुत से लोगों के घरों में कोई-न-कोई पालतू जीव है. ऐसे में इनसे संबंधित सवाल उनके मन में उठना स्वाभाविक है. आइए जानते हैं कि ऐसे में संक्रमण से बचने के लिए हमें क्‍या करना है और क्‍या नहीं करना है.

    पशु, मांस और जंतु उत्‍पाद मंडियों में जाने से बचना ही होगा ठीक
    वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) इस समय पशु मंडियों, मांस मंडियों और जंतु उत्पाद मंडियों में नहीं जाने की सलाह दे रहा है. वैसे भी लॉकडाउन की स्थिति में यही बेहतर है कि आप इन जगहों पार न ही जाएं. अगर फिर भी अतिविषम परिस्थिति में जाना ही पड़ जाए, तो सभी महत्त्वपूर्ण सावधानियों पर पूरा अमल करें. चेहरे पर मास्क पहनकर जाएं. वहीं, हाथों से चेहरे, आंख, नाक और मुंह को न छुएं. मंडी से लौटने के बाद हाथों को साबुन और पानी से अच्छी तरह धोकर अपनी, अपने परिजनों और पालतू जानवरों की सुरक्षा करें. किसी भी बीमार पशु या सड़े-गले-विकृत पशु उत्पाद या मांस से दूरी बनाए रखें. संक्रमण से बचे रहने के लिए कच्चा या अधपका मांस नहीं खाएं. वहीं, दूध और सब्‍जी भी भारतीय अंदाज में अच्‍छे से पका कर ही खाएं. दूध और मांस को छूने के बाद बिना हाथों को अच्छी तरह धोए दूसरी खाने की चीजों को नहीं छुएं.

    कोरोना वायरस से बचे रहने के लिए कच्चा या अधपका मांस नहीं खाएं. दूध और सब्‍जी भी भारतीय अंदाज में अच्‍छे से पका कर ही खाएं.


    बुजुर्गों पर ज्‍यादा असर, संक्रमण से बचाव को अपनाएं ये उपाय
    दुनिया भर में किए जा रहे शोध का निष्‍कर्ष यही है कि COVID-19 से सबसे ज्‍यादा बुजुर्ग प्रभावित हो रहे हैं. इसलिए पशु बाजारों, आवारा पशुओं और जंगली जानवरों से इन्हें अधिक दूरी बनाए रखनी है. कच्चा मांस, मछली या दूध नहीं पीना है. मांस मंडियों में काम करने वालों और पशु-चिकित्सकों को अपनी पूरी सुरक्षा करनी है. जानवरों को छूने के बाद अच्छी तरह हाथ धोने हैं. काम के दौरान दस्तानों और मास्क का प्रयोग करना है. काम के दौरान इस्तेमाल होने वाली पोशाकों या कपड़ों को नियमित रूप से अच्छी तरह धोना व साफ करना है. इसी तरह अपने औजारों और उपकरणों की भी नियमित सफाई जरूर करनी है. अपने परिवार के संपर्क में आने से पहले खुद को पूरी तरह स्वच्छ कर लेना है.

    बीमार पशु का मांस न खाएं, पशु में लक्षण दिखें तो तुरंत सूचना दें
    वर्तमान परिस्थिति में कोविड-19 के कारण किसी पशु को बीमार पड़ते नहीं पाया गया है. फिर भी ना तो किसी बीमार पशु का मांस खाना है और न ही बेचना है. पशु चिकित्सकों को किसी भी पशु में संदिग्‍ध लक्षण की सूचना तुरंत संबंधित अधिकारियों को देनी है. अमेरिका के सीडीसी के अनुसार, अगर आप कोविड-19 संक्रमित हैं, तो अपने पालतू पशु से दूरी बनाकर रखें. उसकी देखभाल घर के किसी दूसरे व्यक्ति को करने दें. वायरस अभी मनुष्यों में नया है. हम नहीं जानते कि इसका पशुओं के साथ क्या बर्ताव होगा. घर के पालतू पशुओं के बहुत नजदीक रहने, प्रेम दिखाने और खाना साझा करने से बचिए. इस समय पशुओं को बाहर टहलाने न जाना ही बेहतर कदम होगा. अगर पालतू जीव बीमार हो तो तुरंत पशु-चिकित्सक से मिलना पड़ सकता है.

    बाहर से घूमकर आए पालतू जानवर लौटकर घर में वायरस ला सकता है.


    पेट्स को घर पर ही रखें
    कोरोना वायरस कई तरह के होते हैं. इनमें से कुछ पशुओं में भी संक्रमण करते रहे हैं. पशुओं में संक्रमण फैलाने वाले कोरोना वायरस ठीक उसी तरह मनुष्यों को संक्रमित नहीं करते हैं, जैसे इस समय कोविड-19 जानवरों को प्रभावित नहीं कर रहा है. फिर भी बाहर से घूमकर, खाकर और सूंघकर आया पालतू जानवर रोग से ग्रस्त हुए बिना रोग के वायरस को घर में ला सकता है. इसलिए उसे घर के अंदर रखना ही समझदारी होगी. इस समय दुनिया में कहीं भी आवारा या पालतू जानवरों की कोविड-19 टेस्टिंग नहीं की जा रही है.
    (स्कंद शुक्ल की फेसबुक से साभार)

    ये भी देखें:

    Coronavirus: क्‍या यहां-वहां मंडराती मक्खियां भी फैला सकती हैं संक्रमण

    जानें महात्‍मा गांधी ने 102 साल पहले ऐसे दी थी दुनिया की सबसे बड़ी महामारी को मात

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.