'इस बार हारेंगे ट्रंप'- 36 सालों से सारी सटीक भविष्यवाणियां कर रहे शख्स का दावा

'इस बार हारेंगे ट्रंप'- 36 सालों से सारी सटीक भविष्यवाणियां कर रहे शख्स का दावा
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2020 के प्रमुख उम्मीदवार ट्रंप और बिडेन.

US President Election 2020: हार्वर्ड यूनिवर्सिटी (Harvard University) से पीएचडी की डिग्री हासिल करने के बाद 1973 से वॉशिंग्टन स्थित अमेरिकी यूनिवर्सिटी में पढ़ा रहे इस प्रोफेसर का दावा है कि इस बार ट्रंप पिछड़ गए हैं. चार साल पहले हिलेरी क्लिंटन (Hilary Clinton) के मुकाबले जब कोई एक्सपर्ट नहीं मान रहा था कि ट्रंप जीतेंगे, तब इसी प्रोफेसर ने कहा था कि जीतेंगे!

  • News18India
  • Last Updated: August 31, 2020, 6:57 AM IST
  • Share this:
'जो बिडेन (Joe Biden) आगामी चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को हरा देंगे.' जी नहीं, ये हम नहीं कह रहे बल्कि यह भविष्यवाणी उस शख्स ने की है, जो अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव (US President Election 2020) में जीत को लेकर 1984 से जो भविष्यवाणी कर रहा है, सच हो रही है. जी हां, ये हैं एलन लिक्टमैन (Allan Lichtman). एलन एक लेखक हैं और एक अमेरिकी यूनिवर्सिटी में इतिहास के प्रोफेसर भी हैं. पिछली बार ट्रंप की जीत की भविष्यवाणी करने वाले एलन ने इस बार उनकी हार की भविष्यवाणी कर दी है.

एक अमेरिकी टीवी चैनल सीटीवी के साथ बातचीत करते हुए कहा कि इस बार वो 2016 से उलट भविष्यवाणी कर रहे हैं क्योंकि सात की पॉइंट्स ट्रंप के खिलाफ हैं और वो एक की पॉइंट से इस बार हार की तरफ हैं. अमेरिकी चुनाव में कौन जीतेगा, कौन नहीं? यह भविष्यवाणी करने के लिए एलन '13 की पॉइंट्स' की पद्धति अपनाते हैं. एलन की इस अनूठी तकनीक के साथ ही जानिए कि एलन के बारे में और क्या जानने लायक है.

क्या है एलन की '13 पॉइंट्स' पद्धति?
जिस तकनीक के आधार पर एलन राष्ट्रपति पद पर बढ़त लेने वाले उम्मीदवार का विश्लेषण करते हैं और उसके आधार पर भविष्यवाणी, वह पद्धति वास्तव में, 'सही और गलत' सवालों जवाबों पर आधारित है. जो पदस्थ उम्मीदवार है, अगर वो एक सवाल का जवाब 'सही' में दे पाता है तो उसे एक पॉइंट मिलता है और उसके एक 'गलत' जवाब से उसके प्रतिद्वंद्वी को एक पॉइंट.
US presidential race, who is donald trump, donald trump truth, trump election, trump vs biden, अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, डोनाल्ड ट्रंप कौन है, डोनाल्ड ट्रंप एज, ट्रंप चुनाव, अमेरिकी राष्ट्रपति के कार्य
लेखक और प्रोफेसर एलन लिक्टमैन.




अपने इस मॉडल के बारे में 73 वर्षीय एलन बताते हैं कि यह उनका अपनी तरह का मॉडल है. जो पार्टी व्हाइट हाउस में काबिज़ है, उसके उम्मीदवार की ताकत और प्रदर्शन को मापने के इस मॉडल के आधार पर उन्हें एक बारीक समझ और विश्लेषण में मदद मिलती है. अपने इस पैमाने के बारे में एलन 'द कीज़ टू द व्हाइट हाउस' जैसी चर्चित किताब भी लिख चुके हैं.

ट्रंप के महाभियोग की भी भविष्यवाणी!
साल 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव ट्रंप जीतेंगे, यह भविष्यवाणी करने वाले एलन अकेले भविष्यवक्ता थे और इसी कारण वह बेहद चर्चा में रहे. यही नहीं, साल 2017 में एलन ने एक किताब लिखी, जिसका शीर्षक था 'द केस फॉर इम्पीचमेंट'. इस किताब में एलन ने यह चर्चा की थी कि ट्रंप पर महाभियोग चलाए जाने के पीछे कितने कारण हो सकते हैं. इस किताब को काफी अच्छे रिव्यू मिले थे.

ये भी पढ़ें :- कौन है ये 9 साल की एक्टिविस्ट, जो नीट व जेईई एग्ज़ाम के विरोध में डटी है

यह किताब और एलन फिर चर्चा में तब आए जब 2019 में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही चली. एक बार फिर एलन की भविष्यवाणी सच साबित हो रही थी.

एक्टिविज़्म में भी सक्रिय रहे एलन
शिक्षाविद और लेखक होने के साथ ही एलन ने सामाजिक, कानूनी और राजनीतिक मुद्दों पर न केवल अपनी राय रखी, बल्कि सरकारी विभागों के साथ मिलकर कुछ मुद्दों के लिए काम भी किया. मसलन, साल 2000 के चुनाव में फ्लोरिडा में हुई अनियमितताओं के मामले में नागरिक अधिकारों संबंधी जांच में अपनी रिपोर्ट देते हुए कहा था कि 'मतपत्रों के खारिज किए जाने के पीछे कई नस्लभेदी असमानताएं' देखी गईं.

ये भी पढ़ें :-

कोरोना की चपेट में कैसे आए अंडमान की लुप्त हो रही प्रजाति के 20% लोग?

रोहतांग में बेहद खास 'अटल सुरंग' सामरिक तौर पर क्यों अ​हम है?


एक चुनाव भी हार चुके हैं एलन
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों को लेकर पिछले करीब 35 सालों से सही विश्लेषण प्रस्तुत कर रहे एलन खुद एक बार छोटे स्तर पर चुनाव हार चुके हैं. साल 2006 में अमेरिकी सीनेट के लिए मैरीलैंड से एलन ने चुनाव लड़ा था, लेकिन एक टीवी चैनल के डिबेट में उन्हें आमंत्रित नहीं किए जाने से एक विवाद पैदा हुआ. प्रदर्शन करने पर एलन और उनकी पत्नी को गिरफ्तार भी किया गया था, लेकिन बाद में उन्हें आरोपों से बरी किया गया.

कुल मिलाकर इस पूरे विवाद का अंजाम ये हुआ कि एलन चुनाव न केवल हारे बल्कि वोटों की संख्या के आधार पर छठे नंबर के उम्मीदवार रहे. साल 2012 में एक रिपोर्ट में कहा गया था कि छह साल पहले अपने चुनाव अभियान के लिए जो कर्ज लिया था, उसे एलन तब भी चुका रहे थे.

गौरतलब यह है कि इस बार ट्रंप के आक्रामक प्रचार के बावजूद जो बिडेन का दावा काफी मज़बूत माना जा रहा है. ऐसे में, 'Prejudice and the Old Politics' और Repeal the Second Amendment: The Case for a Safer America' जैसी चर्चित किताबों के लेखक एलन के दावों पर सबकी नज़र है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज