• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • कोरोना के लिए तो खारिज हुआ, लेकिन क्या लाइजॉल कभी बर्थ कंट्रोल के लिए इस्तेमाल होता था?

कोरोना के लिए तो खारिज हुआ, लेकिन क्या लाइजॉल कभी बर्थ कंट्रोल के लिए इस्तेमाल होता था?

कीटनाशक लाइज़ॉल का एक पुराना विज्ञापन.

कीटनाशक लाइज़ॉल का एक पुराना विज्ञापन.

ट्रंप के बयान के बावजूद कीटनाशकों का प्रयोग कोरोना वायरस के खिलाफ प्रामाणिक दवा के रूप में न किए जाने की हिदायत स्वास्थ्य विशेषज्ञ दे रहे हैं. इसी बीच जानें कि मार्केटिंग के ज़रिये कैसे किसी ब्रांड को भ्रामक बनाकर मुनाफा कमाया जा सकता है, इसकी मिसाल है एक कीटनाशक ब्रांड की कहानी.

  • Share this:
    मलेरिया के लिए प्रमाणित दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxichloroquin) को कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण के खिलाफ कारगर दवा बताने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप (Donald Trump) ने हाल में कहा कि कीटनाशकों को इंजेक्शन के तौर पर लिया जाए तो कोविड 19 (Covid 19) से बचा जा सकता है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों (Health Experts) और कीटनाशक निर्माताओं ने साफ किया कि लोग ऐसा न करें. इस बीच, कहानी याद आई कि कैसे दशकों पहले एक कीटनाशक को गर्भनिरोधक (Contraceptive) के तौर पर प्रचारित किया गया था.

    ये कहानी 20वीं सदी की शुरूआत की है, जब अमेरिका (USA) में गर्भनिरोधक दवाओं का प्रचार कम था, इनके बारे में आम लोगों की जानकारी कम थी और कॉंडोम (Condom) जैसे अन्य उपाय काफी महंगे और शर्म का विषय हुआ करते थे. तब वास्तव में, कीटनाशक ब्रांड लाइज़ॉल (Lysol) की इस तरह मार्केटिंग की गई कि यह महिलाओं के गुप्तांग की सफाई का बहुत बड़ा ब्रांड बन गया था.

    लाइज़ॉल कैसे बना गर्भनिरोध का ब्रांड?
    एक बार फिर याद दिला दें कि लाइज़ॉल कोई दवाई नहीं है इसलिए इसका सेवन मुंह, नाक या इंजेक्शन से न करें. लेकिन, 1920 के दशक में इस कीटनाशक के निर्माताओं अखबारों में बड़े बड़े विज्ञापनों के ज़रिये इसकी ब्रांडिंग औरतों की साफ सफाई के उत्पाद के तौर पर की.

    चूंकि उस समय गर्भनिरोध को लेकर विशेष सुविधाएं और मेडिकल सलाहें उपलब्ध नहीं थीं, इसलिए इन विज्ञापनों ने कुछ भ्रम भी फैलाए. अमेरिका पर गर्भनिरोध के इतिहास पर किताब लिखने वाली एंड्रिया टोन ने लिखा कि 1940 के दशक के दौरान अमेरिकी महिलाओं के बीच लाइज़ॉल गर्भनिरोधक का ब्रांड समझा जाने लगा था.

    corona virus update, covid 19 update, corona virus medicine, donald trump news, anti infection idea, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, कोरोना वायरस दवा, डोनाल्ड ट्रंप, कीटनाशक प्रयोग
    लाइज़ॉल के उन पुराने विज्ञापनों को विशेषज्ञ स्त्रीविरोधी मानसिकता भी मानते रहे.


    फिर गलत साबित हुए दावे
    'रोज़ लाइज़ॉल के एक वॉश से आप शिशु को दूर रख सकते हैं.' मीडिया की कई रिपोर्ट्स बताती हैं कि विज्ञापनों में इस तरह के दावे गलत साबित होने लगे थे. 1933 के एक अध्ययन में पाया गया कि लाइज़ॉल के इस्तेमाल के बाद भी महिलाएं गर्भवती हुईं.

    मौतें भी दर्ज हुईं!
    1911 तक लाइज़ॉल के इस्तेमाल के कारण डॉक्टरों ने ज़हरबादी के 193 मामले दर्ज किए थे और गुप्तांग में जलन के कारण पांच मौतों का आंकड़ा भी सामने आया था. टोन ने अपनी किताब में लिखा कि इन आंकड़ों में 21 मामले खुदकुशी के भी थे. 1956 की एक और स्टडी में लाइज़ॉल पर आपराधिक गर्भपात के आरोप लगाकर ऐसे ही नतीजे पाए गए.

    और आक्रामक मार्केटिंग
    मौतों, इन्फेक्शनों संबंधी रिपोर्ट्स आने के बाद लाइज़ॉल ने और आक्रामक ढंग से मार्केटिंग की और इस उत्पाद को महिलाओं के लिए सुरक्षित बताया. यह भी प्रचार किया गया कि इसमें शामिल क्रेज़ॉल तत्व को हटकार ऑर्थो-हाइड्रॉक्सीफिनाइल फॉर्मूला अपनाया गया ताकि जलन की समस्या न हो. लेन एंड फिंक कंपनी ने उन दिनों लाइज़ॉल को टॉयलेट क्लीनर के साथ ही महिलाओं की सफाई के लिए उपयोगी बताया.

    क्यों गर्भनिरोधक माना गया लाइज़ॉल?
    टोन के मुताबिक इन विज्ञापनों ने महिलाओं में एक हीनभावना भी विकसित करना शुरू किया कि उनके जननांगों से बदबू आती है. 'फेमिनिन हाईजीन' तक तो शिष्टता थी लेकिन इस तरह की मार्केटिंग ​महिलाओं के प्रति द्वेषभावना को भी उकसाया. दूसरी तरफ, अमेरिका में 1965 और 1972 तक जन्म नियंत्रण यानी गर्भनिरोध गैर कानूनी था. इसी कारण गर्भनिरोधकों को लेकर कोई जनजागरूकता नहीं थी. और ग्रेट डिप्रेशन के समय में, लाइज़ॉल के आक्रामक विज्ञापन अभियान ने लोगों में यह भ्रांति फैलाने का काम किया.

    corona virus update, covid 19 update, corona virus medicine, donald trump news, anti infection idea, कोरोना वायरस अपडेट, कोविड 19 अपडेट, कोरोना वायरस दवा, डोनाल्ड ट्रंप, कीटनाशक प्रयोग
    1960 के दशक के बाद लाइज़ॉल सिर्फ कीटनाशक ब्रांड के तौर पर समझा जाने लगा.


    40 साल बाद खत्म होने लगा प्रभाव
    1965 में शादीशुदा और 1972 में एकल वयस्कों के लिए गर्भनिरोध को कानूनी बना दिए जाने के बाद कई तरह की वैधानिक और मान्यता प्राप्त दवाएं, उपकरण व पद्धतियां भी विकसित हुईं, जो गर्भनिरोध में सहायक थीं. इसलिए 1960 के दशक से लाइज़ॉल की गर्भनिरोध के तौर पर समझ धीरे धीरे खत्म होने लगी. और फिर लाइज़ॉल सिर्फ कीटनाशक या टॉयलेट क्लीनर का ही ब्रांड रह गया.

    अंतत: ट्रंप के कीटनाशक संबंधी बयान के बाद लाइज़ॉल ने यह तो साफ किया कि कोरोना वायरस के लिए दवा के तौर पर कीटनाशक का इस्तेमाल न किया जाए, लेकिन फोर्ब्स ने लिखा है कि गर्भनिरोध के विज्ञापन ​अभियान के दिनों के बारे में लाइज़ॉल के वर्तमान निर्माताओं रेकिट बेकिंसर ने कोई टिप्पणी नहीं दी.

    ये भी पढें:-

    ट्रंप क्यों नहीं चाहते कि आप उनकी पढ़ाई के दौरान उनके नंबर्स के बारे में जानें?

    कोरोना वायरस त्रासदी में क्या सच में मसीहा है माफिया?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज