अपना शहर चुनें

States

कोरोना वायरस के हैं तीन रूप, जानिए किसने कहां मचाई तबाही

कोरोना वायरस के तीन विभिन्न रूप सामने आए हैं.  (प्रतीकात्मक तस्वीर)
कोरोना वायरस के तीन विभिन्न रूप सामने आए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस (Corona virus) के वर्तमान रूप सार्स कोव-2 (SARS CoV-2) के तीन प्रारूप खोजे हैं. ये अलग रूप दुनिया में अलग-अलग जगह पर फैले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2020, 4:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona virus) ने दुनिया के 210 देशों में पहुंच चुका है. साल की शुरुआत में चीन के वुहान शहर से दुनिया में फैलने वाला यह वायरस अब भी वैज्ञानिकों के लिए पहेली बना हुआ है. कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अब इसके विभिन्न प्रकार ढूंढे हैं. उन्होंने यह भी पता लगाया है कि कौन सा प्रकार कहां फैल रहा है.

तीन तरह के सार्स कोव-2 फैल रहे हैं
वैज्ञानिकों ने कोविड-19 फैलाने वायरस सार्स कोव-2 के तीन स्ट्रेंस का पता लगाया है. इन्हें टाइप ए, बी और सी कहा गया है. शोधकर्ताओं ने दिसंबर 2019 के बाद से अब तक कोरोना वायरस के जीनोम इतिहास की अध्ययन किया और उन्हें इस वायरस के तीन बहुत ही  मिलते-जुलते प्रारूप मिले.

क्या है टाइप ए
पहले प्रकार को टाइप ए स्ट्रेंस कहा गया जो पहले पेंगोलिन से चमगादड़ में और उनसे इंसानों में आया.  यही कोरोना वायरस का मूल रूप कहा गया है. वास्तव में यह वह रूप नहीं है जो दुनिया और चीन में फैला.



corona Virus, Corona
कोरोना वायरस का मूल रूप टाइप ए है जो अमेरिका में ज्यादा फैल रहा है.


कहां व्यापक है टाइप ए
शोध बताता है कि टाइप ए ही ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में पहुंचा है जिसकी वजह से चार लाख से ज्यादा संक्रमित मामले सामने आए हैं. दो तिहाई अमेरिकियों में टाइप ए का संक्रमण पाया गया. इसमें ज्यादातर न्यूयार्क नहीं बल्कि पश्चिमी तट की ओर से आए थे.

कहां फैला टाइप बी
इस शोध में पीटर फेर्सटर और उनकी टीम ने पाया कि ब्रिटेन में टाइप बी का कहर छाया था. चीन में यही टाइप बी फैला था. यहां दो तिहाई  से ज्यादा ऐसे मामले पाए गए.  स्विट्जरलैंड, जर्मनी फ्रांस, बेल्जियम और नीदरलैंड में भी टाइप बी की बहुलता पाई गई. इसके अलावा तीसरे प्रकार का कोरोना वायरस टाइप सी यूरोप में सिंगापुर से फैला.

लगातार म्यूटेट होता रहा वायरस
वैज्ञानिकों का मानना है कोरोना वायरस  जिसे सार्स कोव-2 कहा जाता है, लगातार बदल रहा है म्यूटेट (Mutate) हो रहा है और बार बार मनुष्यों के इम्यून सिस्टम पर हावी होने में कामयाब रहा है. वहीं पहले के आंकड़ों के आधार पर कहा गया था कि यूरोप में टाइप सी ज्यादा फैला था. लेकिन ताजा आंकड़ों के आधार पर किया गया अध्ययन कहता है कि टाइप बी यूरोप ज्यादा व्यापक है.

Corona virus, Corona
करोना वायरस का टाइप बी यूरोप में ज्यादा फैला है.


न्यूयार्क में तबाही मचाने वायरस कहां से आया
शोध में कई रोचक जानकारियां सामने आईं. न्यूयार्क में कहर ढाने वाला कोरोना वायरस यूरोप से आया था. लेकिन वाशिंगटन राज्य में आने वाला कोरोना वायरस चीन से आया था. वहीं डायमंड क्रूज से फैलना वाला कोरोना वायरस टाइप बी था.

कैसे बदले इसके रूप
डॉ फोर्सटर के मुतबिक कोरोना का मूल रूप टाइप ए सने खुद को म्यूटेट कर चीन में ही टाइप बी तक बदल दिया. लेकिन टाइप सी जो टाइप बी से बना चीन के बाहर अपने रूप में आया.   शोधकर्ताओं ने माना कि उन्हें यह पता नहीं चल सका कि टाइप बी टाइप ए पर कैसे हावी होकर चीन में छा गया. उसके लिए चीन के लोगों के इम्यून सिस्टम में  खुद को ढालने के लिए परेशानी नहीं हुई.

टाइप बी पहले ही आ चुका था अपने रूप में
शोधकर्ताओं का यह भी कहना है की चीन में क्रिसमस के फौरन बाद कोरोना वायरस वुहान में फैलने से पहले ही टाइप बी में म्यूटेट हो चुका था जबकि टाइप ए सितंबर में ही इंसानों में आ चुका होगा. जबकि वुहान से बाहर के लोगों में ज्यादा तेजी से म्यूटेट हुआ.

कोराना वायरस परिवार के ज्यादातर वायरस खतरनाक नहीं होते लेकिन सार्स कोव 2 बहुत खतरनाक पाया गया है.


टाइप नहीं हो रहा है म्यूटेट
वायरस टाइप बी से टाइप सी में बदलकर सिंगापुर से दुनिया भर में फैला. शोधकर्ताओं का यह भी कहना है कि टाइप सी के म्यूटेट होने की संभावना कम ही दिखी है. लेकिन अभी तक इतने व्यापक पैमाने पर अध्ययन नहीं हुआ कि यह दावे के तौर से कहा जा सके.

वैज्ञानिकों का मानना है कि यह शोध वैश्विक नतीजे भले ही नहीं दे सकता लेकिन दुनिया में शोधों को दिशा देने में बहुत मददगार साबित हो सकता है.

यह भी पढ़ें:

ट्रंप की फेवरिट दवा को क्यों डॉक्टर नहीं मानते कोरोना में असरदार

Coronavirus: जानें महाराष्‍ट्र में यहां हुई चूक और बदतर होते चले गए हालात

क्या भारत में कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड होने लगा है?

पाकिस्तान पर भड़के थे पूर्व PM मोरारजी, कहा था-बर्बाद कर देंगे, जानें वजह

भारत में बिना संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आए भी फैल रहा है कोरोना वायरस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज