जानें क्‍याें विटामिन-डी की कमी वालों के लिए जानलेवा है कोरोना वायरस

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पाया कि इटली, स्‍पेन और अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण मरने वाले ज्‍यादातर लोगों में विटामिन-डी की कमी थी.
अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पाया कि इटली, स्‍पेन और अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण मरने वाले ज्‍यादातर लोगों में विटामिन-डी की कमी थी.

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने कई देशों के डाटा का अध्‍ययन करने के बाद कहा है कि विटामिन-डी (Vitamin-D) की कमी से जूझ रहे लोगों के कोरोना वायरस (Coronavirus) से मरने की आशंका ज्यादा है. शोध में पता चला कि इटली, स्पेन और ब्रिटेन में संक्रमण से मरने वाले ज्यादातर में विटामिन-डी की कमी थी.

  • Share this:
कोरोना वायरस को लेकर वैज्ञानिक लगातार नई-नई चीजों के साथ सामने आ रहे हैं. अब अमेरिका की नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के एक शोध (New Study) में पता चला है कि इटली, स्पेन और ब्रिटेन में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण मरने वाले ज्यादातर लोगों में विटामिन-डी (Vitamin-D) की कमी थी. शोधकर्ताओं ने चीन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, ईरान, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्विट्जरलैंड, ब्रिटेन और अमेरिका के अस्पतालों के आंकड़े लिए थे. शोध टीम के प्रमुख प्रोफेसर वी. बैकमैन को कोरोना वायरस के दौरान दुनियाभर के हेल्थकेयर सिस्टम की तुलना करने वाले शोधों से शिकायत थी. वह इस बात पर भी सहमत नहीं थे कि संक्रमण के कारण होने वाली मौतों को किए जा रहे कोरोना टेस्टों की संख्या और देश की औसत उम्र से जोड़ा जाए.

हेल्‍थकेयर सिस्‍टम, उम्र या टेस्‍ट का मृत्‍युदर से संबंध नहीं
बैकमैन का कहना है कि कोरोना वायरस के कारण मौतों के मामले में हेल्‍थकेयर सिस्‍टम की लाचारी या मजबूती, टेस्‍ट (Corona Test) की संख्‍या या लोगों की औसत उम्र का कोई लेनादेना नजर नहीं आ रहा है. उत्तरी इटली का हेल्थकेयर सिस्टम दुनिया के सबसे अच्छे सिस्टम में एक है. एक ही उम्र के लोगों को भी लीजिए तो भी मृत्यु दर (Mortality Rate) काफी अलग-अलग है. हमने समान टेस्ट दर वाले देशों में भी मृत्यु दर की तुलना की.

बैकमैन का कहना है कि इससे अलग हमें संक्रमण के कारण होने वाली मौतों और विटामिन-डी की कमी के बीच अहम संबंध दिखाई पड़ा. उनके मुताबिक, रिसर्च में पता चला कि इटली, स्पेन और ब्रिटेन में कोरोना से जान गंवाने वाले ज्यादातर लोगों में विटामिन-डी की कमी थी. कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित कई दूसरे देशों में मृतकों की संख्या तुलनात्मक रूप से कम है.
शोध में पाया गया कि कोरोना वायरस के मामले में इम्‍यून सिस्‍टम के ओवर रिएक्‍शन के कारण भी काफी लोगों की मौत हुई है.




इम्यून सिस्टम के ओवर रिएक्शन से ज्‍यादा हुईं मौतें
शोध का नेतृत्‍व करने वाले बैकमैन के मुताबिक, लोगों का यह जानना जरूरी है कि विटामिन-डी की कमी मृत्युदर में भूमिका निभा सकती है. बावजूद इसके हम इस पर जोर नहीं देंगे कि हर किसी को विटामिन-डी की दवा लेनी चाहिए. न्‍यूरोसाइंस न्‍यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, विटामिन-डी के स्तर और बहुत ज्यादा साइटोकाइन में सीधा संबंध देखने को मिला.

साइटोकाइन सूक्ष्म प्रोटींस का ऐसा बड़ा ग्रुप है, जिसे कोशिकाएं संकेत देने के लिए इस्तेमाल करती हैं. इंसान के इम्यून सिस्टम को नियंत्रित या अनियंत्रित करने में साइटोकाइन सिग्‍नल की अहम भूमिका होती है. अगर साइटोकाइन के चलते इम्यून सिस्टम ओवर रिएक्ट करने लगे तो स्थिति जानलेवा हो जाती है. कोरोना वायरस के काफी मामलों में पीड़ितों की जान इम्यून सिस्टम के ओवर रिएक्शन से ही हुई है.

शोधकर्ताओं के मुताबिक, कोरोना वायरस ने खुद फेफड़ों को उतना ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाया, जितना साइटोकाइन की वजह से हुआ.


वायरस के मुकाबले साइटोकाइन से ज्‍यादा नुकसान
नॉर्थ-वेस्टर्न यूनिवर्सिटी के शोध के मुताबिक विटामिन-डी की कमी के कारण बहुत ज्यादा साइटोकाइन बनने लगता है. शोध से जुड़े एक और शोधकर्ता ने कहा कि ज्‍यादा मात्रा में साइटोकाइन का बनना फेफड़ों को बुरी तरह नुकसान पहुंचा सकता है. इससे मरीज की मौत हो सकती है. ऐसा लगता है कि कोविड-19 के ज्यादातर मरीजों की मौत इसी वजह से हुई है.

वायरस ने खुद फेफड़ों को उतना ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाया, जितना साइटोकाइन की वजह से हुआ. बैकमैन कहते हैं कि विटामिन-डी सिर्फ इम्यून सिस्टम को दुरुस्त ही नहीं रखता है, बल्कि ये उसे ओवर रिएक्ट करने से भी रोकता है. विटामिन-डी का सबसे अच्छा स्रोत सूरज की धूप है. धूप के साथ ही दूध से बने उत्पादों और मछली में भी इसकी अच्छी मात्रा रहती है. वैज्ञानिकों ने उम्मीद जताई है कि उनके शोध के बाद अब विटामिन-डी और मृत्युदर के संबंध के बीच नए शोध होंगे.

ये भी देखें:

14 मिनट तक हवा में रह सकते हैं जोर से बोलने पर निकलने वाले ड्रॉपलेट्स

Fact Check: क्या वाकई मच्छरों के काटने से फैलता है कोरोना वायरस

जानें कैसे इम्यूनिटी बूस्‍ट करने के साथ ही संक्रमण से भी बचाता है विटामिन-सी

जानें ऐसे ड्रग री-पोजिशनिंग कर पुरानी दवाओं से किया जा रहा कोरोना मरीजों का इलाज

लॉकडाउन के दौरान खतरे में काजीरंगा के वन्‍य जीव, बढ़ीं अवैध शिकार की कोशिशें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज