Home /News /knowledge /

मणिपुर में क्यों अचानक खतरे में आ गई बीजेपी सरकार?

मणिपुर में क्यों अचानक खतरे में आ गई बीजेपी सरकार?

 मणिपुर सीएम बीरेन सिंह ( फाइल फोटो.)

मणिपुर सीएम बीरेन सिंह ( फाइल फोटो.)

एक साल पहले BJP के ही नेताओं ने Manipur CM का इस्तीफा मांगा था और अब डिप्टी सीएम ने सरकार गिराने की ही नौबत खड़ी कर दी है. Manipur कैसे यह कहानी पहले भी देख चुका है? इसके साथ ही जानिए कि क्या सीएम N. Biren Singh के खिलाफ पनप रहे ​गुस्से को अनदेखा करना भाजपा के लिए महंगा पड़ा.

अधिक पढ़ें ...
    North East में 59 विधानसभा सीटों वाले राज्य मणिपुर में भाजपानीत NDA Government मुश्किल में घिर गई है क्योंकि राज्य के डिप्टी सीएम Joykumar Singh समेत कुल नौ विधायकों ने इस्तीफे दे दिए. इनमें से 3 बीजेपी विधायकों ने Resignation देकर कांग्रेस (Congress) पार्टी जॉइन की. राज्यसभा चुनावों (Rajya Sabha Elections) से ऐन पहले मणिपुर में भाजपा के लिए संकट की स्थिति बन गई है और कांग्रेस सरकार बनाने की दिशा में तत्पर है. अब सवाल यह है कि राज्य में भाजपा इस संकट में घिर कैसे गई.

    ये भी पढ़ें :- भारत-चीन युद्ध की स्थिति में कौन-सा देश किसका देगा साथ..?

    मणिपुर में एन बीरेन सिंह की सरकार को राज्य की इकलौती राज्यसभा सीट से भाजपा के जीतने की पूरी उम्मीद थी लेकिन अचानक हुए इस घटनाक्रम के बाद ये उम्मीदें भी धुंधली हुई हैं. दूसरी तरफ, ये भी कहा जा रहा है कि सीएम को भनक थी कि जॉयकुमार कुछ उठापटक करने वाले थे, लेकिन सीएम ने राज्यसभा चुनाव निपट जाने तक इंतज़ार करना ही मुनासिब समझा, जो महंगा पड़ गया.

    सीएम ने छीने थे पोर्टफोलियो!
    यह जो संकट सामने आया है, अस्ल में इसकी शुरूआत ठीक एक साल पहले यानी जून 2019 में हुई थी. द प्रिंट की रिपोर्ट की मानें तो सीएम बीरेन सिंह ने जॉयकुमार से वित्त विभाग छीना था और भाजपा के मंत्री थोनगम बिस्वजीत सिंह के हाथ से पावर और पीडब्ल्यूडी पोर्टफोलियो ले लिया था. कारण यह बताया था कि 250 करोड़ रुपए की ओडी की वजह से रिज़र्व बैंक ने एसबीआई को राज्य के भुगतान रोकन को कहा था.

    सीएम बीरेन के खिलाफ पली नाराज़गी
    पोर्टफोलियो लिये जाने के बाद बिस्वजीत और अन्य कुछ नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तब भाजपा अध्यक्ष रहे अमित शाह से भी सीएम बीरेन सिंह का इस्तीफा लिये जाने की मांग की थी. यही नहीं, रिपोर्ट के मुताबिक इन नेताओं ने उत्तर पूर्व के भाजपा प्रभारी राम माधव के साथ ही उत्तर पूर्व के प्रमुख नेता हिमंता बिस्व सर्मा से भी सीएम की शिकायत की थी.

    एक और खबर में कहा गया ​है कि भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने माना कि एनडीए के भीतर समस्याएं हैं. इस नेता के हवाले से कहा गया है कि भाजपा संगठन राज्य में भाजपा और एनपीपी के नाराज़ विधायकों से बातचीत कर समस्याएं सुलझाने की कोशिश कर रहा है.

    कारगर नहीं रहा केंद्र का दखल!
    केंद्र ने जब समझाइशें और हिदायतें दीं तब फुटबॉलर से राजनेता बने सीएम बीरेन ने बिस्वजीत का पोर्टफोलियो तो बहाल किया लेकिन जॉयकुमार का नहीं. सिविल एविएशन विभाग जॉयकुमार को थमाया गया था. इस साल 4 अप्रैल को जॉयकुमार को फिर वित्त पोर्टफोलिया दिया गया लेकिन सिर्फ चार दिन बाद फिर उनसे ले लिया गया.

    पुरानी नाराज़गी भी रही वजह?
    साल 2017 में भी ऐसा ही कुछ हुआ था. भाजपा की तरफ से सीएम का चेहरा के जॉयकिशन थे, जो कांग्रेस में जा मिले. फिर बिस्वजीत भाजपा का सीएम चेहरा बने लेकिन ऐन वक्त पर भाजपा बीरेन सिंह के पक्ष में चली गई, जो उस वक्त कांग्रेस के इबोबी सिंह के साथ डिप्टी सीएम थे. अब बीरेन सिंह के डिप्टी सीएम ने उनकी कुर्सी के नीचे से ज़मीन खींचकर साबित किया है कि राजनीति में बिसात वही रहती है, सिर्फ मोहरे बदलते हैं.

    अब स्थिति यह है कि अगर मणिपुर में 28 विधायकों वाली कांग्रेस पार्टी की सरकार बन जाती है, तो एक रिकॉर्ड होगा. 2014 में जबसे नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने हैं, उसके बाद से उत्तर पूर्व के तकरीबन सभी राज्यों में भाजपा या उसके समर्थक ही सत्ता में हैं. अब कांग्रेस के सत्ता में आने से मणिपुर बदलाव का सूत्रधार बनेगा.

    ये भी पढें:-

    क्या होगा अगर सारे वायरस दुनिया से गायब हो जाएं तो?

    'विरोध ज़रूरी है चाहे संक्रमण फैले'... क्या वाकई प्रदर्शनों से बढ़ा कोरोना संक्रमण?undefined

    Tags: BJP, Congress, Manipur, Manipur Election, N Biren Singh, NDA, North East, Politics, Rajya sabha, Rajyasabha

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर