कर्नाटक में टीपू सुल्तान पर फिर विवाद, जानिए अब क्यों है चर्चा

कर्नाटक में टीपू सुल्तान पर फिर विवाद, जानिए अब क्यों है चर्चा
कर्नाटक में सिलेबस कम करने के लिए टीपू संबंधी अध्याय ​हटाया गया.

दुनिया भर में स्कूली शिक्षा के भविष्य और इस सत्र (Academic Year) को लेकर योजनाएं बन रही हैं. भारत में भी कई राज्यों में सिलेबस (Syllabus) में कटाई छंटाई की जा रही है क्योंकि 220 कार्य दिनों का शैक्षणिक सत्र अब छोटा रह गया है, जैसे कर्नाटक में सिर्फ 120 दिनों का. अब सरकार ने मैसूर के शासक रहे (Tiger of Mysore) टीपू सुल्तान (Tipu Sultan) से जुड़ा अध्याय स्कूली पाठ्यक्रम (School Syllabus) से हटाने का फैसला किया

  • Share this:
कर्नाटक सरकार (Karnataka Government) द्वारा प्रायोजित टीपू जयंती कार्यक्रम को बंद करने के राज्य सरकार के फैसले पर पहले ही विवाद हो चुका है. अब सरकार ने मैसूर के शासक रहे (Tiger of Mysore) टीपू सुल्तान से जुड़ा अध्याय स्कूली पाठ्यक्रम (School Syllabus) से हटाने का फैसला किया. जब विरोध के सुर उठे, तो राज्य की भाजपा सरकार (BJP Government) ने इस फैसले को होल्ड पर रख दिया. कर्नाटक की राजनीति में कई बार चर्चा में आने वाले टीपू सुल्तान इस बार शिक्षा व्यवस्था से जुड़कर चर्चा में हैं.

18वीं सदी के वीर शासक के तौर पर पहचाने जाने वाले टीपू बार-बार कर्नाटक में क्यों विवादों में आ जाते हैं? इससे पहले आपको ये भी जानना चाहिए कि स्कूली पाठ्यक्रम में क्यों इस तरह के बदलाव किए जा रहे हैं और टीपू के अलावा और कौन से अध्याय हटाए जाने पर भी विवाद जैसी स्थितियां हैं.

कोविड के साल में सिलेबस कटौती
कर्नाटक में 7वीं कक्षा के सिलेबस से राज्य ने टीपू सुल्तान और उनके पिता हैदर अली के अध्याय इसलिए हटाए गए हैं ताकि सिलेबस में 30 फीसदी की कटौती की जा सके. असल में, शिक्षा विभाग ने कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के चलते 2020-21 अकादमिक साल में बस्ते का बोझ हल्का करने के लिए ये फैसले लिए हैं. कक्षा 6 से 10वीं तक के सिलेबस में और भी अध्याय कम किए गए हैं.
जिन अध्यायों को हटाए जाने के फैसले लिए गए हैं, उनमें जीसस क्राइस्ट और पैगंबर मोहम्मद के सबक, मुगलों और राजपूतों के इतिहास, संविधान के आधारभूत सिद्धांतों और विजयनगर व राष्ट्रकूट वंश के इतिहास से जुड़े चैप्टर शामिल हैं. हालांकि सरकार इस पर दोबारा सोच रही है क्योंकि कर्नाटक टेक्स्टबुक सोसायटी की वेबसाइट पर लिखा है कि 'पहली से दसवीं कक्षा तक जो पाठ्यक्रम कटौती की गई, उसे फिलहाल वापस लिया गया है.'



ये भी पढ़ें :- भाजपा के जन्म से, अयोध्या राम मंदिर और हिंदुत्व के 40 साल का सियासी इतिहास

Tipu Sultan controversy, Tipu Sultan real pic, Tipu Sultan was ruler of, Tipu Sultan death, Tipu Sultan kaun tha, Tipu Sultan history, टीपू सुल्तान हिस्ट्री हिंदी, टीपू सुल्तान मूवी, टीपू सुल्तान की कहानी, टीपू सुल्तान और दलित
न्यूज18 ग्राफिक्स


वहीं शिक्षा विभाग के अधिकारियों के हवाले से खबरें कह रही हैं कि शिक्षा मंत्री के निर्देशों के बाद सिलेबस से जुड़े नए अपडेट कुछ ही दिनों में जारी किए जाएंगे. साथ ही, ये भी कि ये बदलाव सब्जेक्ट एक्सपर्ट्स की सिफारिशों पर किए गए हैं. टीपू सुल्तान से जुड़े अध्याय कक्षा 6 और 10 में पढ़ाए जा रहे हैं. इसे मुद्दा बनाकर हंगामा करना ठीक नहीं है.

ये भी पढ़ें :-

राफेल तो मिले लेकिन तकनीक नहीं... क्यों घाटे का सौदा है ये?

राफेल विमानों की टेल पर क्यों लिखा होगा RB या BS? क्या है ये कहानी?

टीपू सुल्तान और कर्नाटक में विवाद
राज्य में टीपू सुल्तान दो वर्गों की लड़ाई में घिर चुके हैं. एक कहता है कि टीपू अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़े थे इसलिए देशभक्त थे, तो दूसरा यानी दक्षिणपंथी खेमा टीपू को हज़ारों हिंदुओं की हत्या का ज़िम्मेदार ठहराते हुए उन्हें क्रूर और अत्याचारी शासक बताता है. जब राज्य में 2015 में कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार थी, तब टीपू जयंती के बड़े कार्यक्रम को सरकार प्रायोजित सालाना कार्यक्रम बनाया गया था. लेकिन येदियुरप्पा की भाजपा सरकार ने 2019 में सरकार को इस कार्यक्रम से अलग करने की घोषणा की.

अगर सिलेबस में बदलाव में सावधानियां नहीं बरती गईं तो शायद हम भविष्य में एपीजे अब्दुल कलाम जैसे शिक्षक नहीं देख पाएंगे, जिन्होंने कई युवाओं को प्रेरित किया. केंद्र सरकार को फौरन दखल देना चाहिए क्योंकि राज्य इस तरह की नीतियों से सांप्रदायिक नफरत को बढ़ावा दे रहे हैं.
साहेबज़ादा मंसूर अली


टीपू सुल्तान के वंशज अली के हवाले से द प्रिंट की रिपोर्ट ये भी कहती है कि कोई पार्टी टीपू सुल्तान, हैदर अली या संविधान को मानती है या नहीं, लेकिन ये सब इतिहास के अंग हैं, इसे बदला नहीं जा सकता. रिपोर्ट में बीजेपी सूत्रों के हवाले से ये भी कहा गया कि काफी नेताओं की मांग थी कि टीपू सुल्तान के चैप्टर सिलेबस से हटाए जाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading