...तो इसलिए भारतीय सेना ने नीलम घाटी में किया आतंकियों पर हमला

...तो इसलिए भारतीय सेना ने नीलम घाटी में किया आतंकियों पर हमला
भारत ने नीलम वैली स्थित पाक के आतंकी ठिकाने तबाह किए.

भारतीय सेना (India Army) ने आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर (PoK) में जिस जगह हमले को अंजाम दिया, उसकी सुंदरता पर लगे दाग के बारे में जानें...

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 12:59 PM IST
  • Share this:
भारतीय सेना ने पाकिस्तान (Pakistan) के तंगधार सेक्टर में आतंकी ठिकानों (Terror Base) पर जो सैन्य कार्रवाई की, उसे लेकर भारत और पाकिस्तान (India Pakistan) के बीच आरोपों प्रत्यारोपों का दौर जारी है. भारत की इस कार्रवाई को हालांकि सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) नहीं माना जा रहा लेकिन कहा जा रहा है कि यह कार्रवाई इसी साल की शुरुआत में बालाकोट (Balakote) में आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद (Jaish-E-Mohammad) के ठिकानों पर की गई कार्रवाई जैसी ही है. लेकिन, सवाल ये है कि भारत ने आखिर इस बार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में स्थित नीलम घाटी (Neelum Valley) को निशाने पर क्यों लिया?

ये भी पढ़ें : वो वैज्ञानिक जो कुछ दिनों में हो जाएगा 'आधा इंसान आधा रोबोट'

सूत्रों के हवाले से मीडिया में आ रही खबरों की मानें तो भारत ने नीलम घाटी में लश्कर ए तैयबा (Lashkar-e-Taiba) और जैश के चार आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया जो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (Kashmir) से संचालित हो रहे थे. इस कार्रवाई में पाकिस्तान के छह सैनिकों के मारे जाने की भी खबरें हैं. नीलम घाटी के जूरा, अतमुकाम और कुंडलशाही में आतंकी ठिकानों को भारतीय सेना ने नेस्तनाबूद करने की कार्रवाई की.



इसलिए हमला नीलम घाटी में ही
भारत ने पहले बालाकोट को निशाना इसलिए बनाया था कि वहां जैश का बड़ा आतंकी ठिकाना था. नीलम घाटी में पिछले कुछ सालों में कई टेरर लॉन्चपैड तैयार हो गए थे. मीडिया में सैन्य सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों के मुताबिक पाकिस्तान सेना ने नीलम घाटी में 24 लॉन्च पैड तैयार कर लिए हैं और बर्फबारी से पहले भारतीय सीमा में आतंकियों की घुसपैठ की कोशिशें तेज़ हो रही थीं.

neelam valley neelum valley attack, surgical strike, india pakistan war, india pakistan tension, नीलम घाटी, नीलम घाटी हमला, सर्जिकल स्ट्राइक, भारत पाकिस्तान युद्ध, भारत पाकिस्तान तनाव
नीलम घाटी में ही कश्मीरी पंडितों की आस्था का प्रसिद्ध केंद्र शारदा पीठ स्थित है.


ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

घुसपैठ न हो इसलिए बड़ा एक्शन
पाक सेना ने नीलम घाटी में कथित तौर पर सैन्य चौकियों और पोस्ट के भीतर आतंकियों को पनाह दे रखी थी. सर्दी का मौसम आते ही बर्फबारी के कारण यहां रास्ते बंद होने का खतरा रहता है, इसलिए इन आतंकियों को बॉर्डर क्रॉस करवाकर भारत में घुसपैठ के लिए पाकिस्तानी सैन्य पोस्टों से लगातार फायरिंग की जा रही थी. घुसपैठ रोकने के लिए जवाबी कार्रवाई करते हुए भारतीय सेना ने मुख्य लॉन्चपैड ही नष्ट कर दिए.

किशनगंगा घाटी है नीलम घाटी
नीलम जिले का नाम बंटवारे से पहले किशनगंगा घाटी था, जिसे पाक सेना ने बदलकर नीलम रख दिया था. यह किशनगंगा नदी के किनारे 1981 मीटर की ऊंचाई पर बसी घाटी है. नीलम घाटी मुजफ्फराबाद से 105 किमी दूर रेशियां गली नामक पहाड़ी दर्रे के दूसरी तरफ है. आतंकियों के कैंप व पाक सेना की अधिक सक्रियता के चलते यहां सैलानी आने की हिम्मत नहीं जुटा पाते. खबरों की मानें तो यहां सबसे ज़्यादा आतंकी कैंप हैं.

यहीं है शारदा पीठ
नीलम घाटी में ही कश्मीरी पंडितों की आस्था का प्रसिद्ध केंद्र शारदा पीठ स्थित है, जहां श्रद्धालुओं और पर्यटकों का कभी तांता लगा करता था. लेकिन आतंकी साये के चलते यहां अब आवाजाही कम हो गई है और कई बार प्रतिबंध रहता है. कश्मीर से सटे गुलाम कश्मीर में नीलम घाटी में आकाश छूते पहाड़, हरी-भरी घाटियां, बहती नदियां और खूबसूरत झीलें इसे दुनिया का सर्वात्तम प्राकृतिक पर्यटक स्थल बनाते हैं लेकिन पाकिस्तान में पाक सेना और कट्टरपंथी इस खूबसूरत वादी का इस्तेमाल आतंक के लिए कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- इस शहर के नीचे दफन है 500 साल पुरानी सभ्‍यता
जानिए कौन हैं राम मंदिर का मॉडल बनाने वाले आर्किटेक्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज