वेब सीरीज़ 'बैड बॉय बिलियनेयर्स' के खिलाफ कोर्ट क्यों गया चौकसी?

वेब सीरीज़ 'बैड बॉय बिलियनेयर्स' के खिलाफ कोर्ट क्यों गया चौकसी?
नेटफ्लिक्स की अपकमिंग वेब सीरीज़ देश के उन कारोबारियों पर है, जो भ्रष्टाचार संबंधी केस में फंसे हैं.

पंजाब नेशनल बैंक के हज़ारों करोड़ के घोटाले (PNB Scam) में आरोपी और घोषित भगोड़े मेहुल चौकसी ने दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) की शरण ली है और कहा है कि वो रिलीज़ होने से पहले यह वेब सीरीज़ देखना चाहते हैं. क्यों? जानिए कि क्या है ये वेब सीरीज और किस वजह से चौकसी को इसके खिलाफ जाना पड़ा है.

  • News18India
  • Last Updated: August 27, 2020, 6:33 AM IST
  • Share this:
ओटीटी प्लेटफॉर्म (OTT Platform) पर जल्द ही रिलीज़ होने जा रही एक डॉक्युमेंट्री 'बैड बॉय बिलियनेयर्स' (Bad Boy Billionaires) का ट्रेलर क्या जारी हुआ, काफी दिलचस्पी पैदा हो गई है. एक खबर ये भी आ रही है कि इस वेब सीरीज़ के खिलाफ अपने वकील विजय अग्रवाल के ज़रिये भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी ने हाई कोर्ट की शरण ली है. सवाल यही है कि क्यों? आखिर इस वेब सीरीज़ पर उन्हें क्या आपत्ति हो सकती है?

कुछ तो इस टाइटल से ज़ाहिर हो ही रहा है और आप समझ सकते हैं कि यह वेब सीरीज़ भारत के उन बड़े और नामचीन कारोबारी रहे डिफॉल्टरों पर आधारित होगी. यह सुनते ही आपके दिमाग में विजय माल्या, नीरव मोदी, सुब्रत राय या बीआर राजू जैसे नाम आ सकते हैं. क्या आपके ज़हन में मेहुल चौकसी का भी नाम आता है? ये आप जानें लेकिन इस वेब सीरीज़ का नाम आते ही मेहुल चौकसी के ज़हन में कोर्ट की शरण का खयाल क्यों आया?

क्या है इस डॉक्युमेंट्री में?
ओटीटी प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स की मानें तो इस डॉक्युमेंट्री नुमा वेब सीरीज़ में भारत के सबसे कुख्यात केसों के हवाले से लालच, फ्रॉड और भ्रष्टाचार के मामलों को बेनकाब किया जाएगा. इसका मतलब यह है कि इस वेब सीरीज़ में विजय माल्या, मेहुल चौकसी और नीरव मोदी जैसे आरोपी कारोबारियों के बारे में विशेषज्ञ तथ्यों के साथ अपने मत भी रखेंगे.
ये भी पढ़ें :- जब दिल्ली सल्तनत का हुआ चित्तौड़ और हज़ारों हिंदुओं का हुआ नरसंहार!



क्या इशारा दे रहा है ट्रेलर?
2 सितंबर को रिलीज़ होने जा रही वेब सीरीज़ के ट्रेलर में वीडियो में दिख रहा है कि माल्या, राय, मोदी और राजू जैसे बिज़नेस टाइकून दुनिया के कई अमीर और जाने माने लोगों के साथ बातचीत कर रहे हैं. यही नहीं, इस ट्रेलर में विशेषज्ञों, पत्रकारों और इन कारोबारियों के करीबी रहे लोग इनके बारे में अपने मत बता रहे हैं. उदाहरण के तौर पर ट्रेलर में रघु करनाड कहते हुए दिख रहे हैं कि 'ऐसा कोई आदमी नहीं दिखा, जिसने अपने सपनों को उस तरह जिया हो, जैसे विजय माल्या ने जिया.'

netflix web series, upcoming web series, superhit web series, pnb fraud, where is vijay mallya, नेटफ्लिक्स वेब सीरीज, आगामी वेब सीरीज, सुपरहिट वेब सीरीज, पीएनबी घोटाला, विजय माल्या कहां है
पीएनबी घोटाले में आरोपी मेहुल चौकसी.


इस तरह के कुछ और भी मत और टिप्पणियां ट्रेलर में दिख रहे हैं. साथ ही, इस वेब सीरीज़ की सिनॉप्सिस भी काफी इशारे दे रही है :

टॉप पर पहुंचने के लिए आप क्या कर सकते हैं? अपना साम्राज्य बनाने के लिए? एक छवि बनाए रखने के लिए? बैड बॉय बिलियनेयर्स ये सब जवाब देती है. विजय माल्या, नीरव मोदी, सुब्रत राय, बायराजू रामलिंगा राजू ने अपने उठान और उतार के दौरान कैसे प्लान किए? करीबी लोगों और विशेषज्ञों के मार्फत देखिए कि किन बातों ने इन्हें जीनियस बनाया और कुछ मामलों में ठग.


चौकसी को क्या है ऐतराज़?
जब इस वेब सीरीज़ के बारे में ​प्रेजेंटरों ने मेहुल चौकसी का नाम नहीं​ लिया तो चौकसी हाई कोर्ट क्यों पहुंचे? अस्ल में चौकसी ने अपने वकील के ज़रिये कोर्ट से कहा कि वो रिलीज़ से पहले इस वेब सीरीज़ का प्रीव्यू देखना चाहते हैं. चौकसी का कहना है कि भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर जो जांच चल रही है, उसे यह वेब सीरीज़ प्रभावित कर सकती है.

ये भी पढ़ें :-

तस्वीरों में देखें : कैसे कांग्रेस में भड़कती रही बगावत?

कैसे शकुंतला देवी से भी तेज़ ह्यूमन कैलकुलेटर बने 21 साल के नीलकंठ?

आपको बता दें कि चौकसी और उनके भतीजे नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक के 13,500 करोड़ रुपये के घोटाले में आरोपी हैं. चौकसी अभी एंटिगुआ में रह रहा है, जहां से उसे भारत लाने के लिए जांच एजेंसियों ने प्रत्यर्पण की अर्ज़ी दाखिल की है.

क्या वाकई जांच होगी प्रभावित?
दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले में नेटफ्लिक्स से जवाब तलब किया था. कोर्ट को बताया गया कि पूरी वेब सीरीज़ में सिर्फ दो मिनट के अंतराल में चौकसी की कहानी का ज़िक्र है. अब इस केस की अगली सुनवाई 28 अगस्त को होगी. नेटफ्लिक्स के जवाब के मुताबिक यह वेब सीरीज़ जांच में रुकावट नहीं होगी, लेकिन अभी इस पर कोर्ट की टिप्पणी बाकी है.

इधर, एक मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इसी साल मेहुल चौकसी, झुनझुनवाला भाई और विजय माल्या उन कंपनियों से जुड़े लोगों के साथ दिखाई दिए थे, जिन 50 का नाम रिज़र्व बैंक ने उस लिस्ट में डाला था, जो देश के बैंकों के साथ सोच समझकर डिफॉल्ट करने के आरोपी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज