ऐतिहासिक ब्लैकआउट के दिन फिर क्यों अंधेरे में डूब गया ये शहर?

कई घंटों के लिए बिजली चली गई, तो शहर में हंगामा मच गया. अंडरग्राउंड रेलवे स्टेशन अंधेरे में डूब गए तो सड़कों पर सैकड़ों हज़ारों लोगों की भीड़ जमा हो गई. जानें बत्ती गुल होने की ये घटना इतिहास से कैसे जुड़ गई.

News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 5:37 PM IST
ऐतिहासिक ब्लैकआउट के दिन फिर क्यों अंधेरे में डूब गया ये शहर?
घंटों तक अंधेरे में डूबा रहा मैनहटन.
News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 5:37 PM IST
भारत में बिजली कटौती या अचानक बिजली गुल हो जाने की घटनाएं आम हैं, लेकिन अमेरिका में ऐसा सालों में कभी एकाध बार होता है इसलिए जब न्यूयॉर्क का दिल कहे जाने वाले मैनहटन में बत्ती गुल हो गई और घंटों तक गायब रही, तो हंगामा मच गया. हज़ारों लोग सड़कों पर फंस गए, कई शो कैंसल हो गए और कई लोगों के लिफ्ट में फंस जाने की खबर भी आई. सोशल मीडिया पर अंधेरे में डूबे मैनहटन की कई तस्वीरें और वीडियो धड़ाधड़ पोस्ट किए जाने लगे. जानें कि मैनहटन में बत्ती क्यों गुल हुई और इतिहास से ये घटना कैसे जुड़ गई.

पढ़ें- मिशन चंद्रयान 2 के पीछे हैं दो महिलाएं, जानें कौन हैं 'रॉकेट वूमन' और 'डेटा क्वीन'



गत शनिवार की शाम रोज़मर्रा की तरह न्यूयॉर्क के बीचों बीच बसे मैनहटन में आवाजाही बनी हुई थी. ब्रॉडवे और कुछ और थिएटरों के शो के लिए बड़ी तादाद में लोग थिएटरों के बाहर जमा थे. इसी बीच, देर शाम अचानक अंधेरा हो गया. कुछ देर तक जब रोशनी बहाल न हुई, तो लोगों में बेचैनी और शोर शराबा शुरू हो गया. ब्रॉडवे समेत तमाम थिएटरों के शो टाल दिए गए या कैंसल कर दिए गए, तो सड़कों पर भारी भीड़ जमा हो गई.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

क्या थे ब्लैकआउट के कारण?
मीडिया में आई शुरूआती खबरों में कहा गया कि एक मैनहोल में आग लग जाने के कारण बत्ती गुल हुई. फिर सीएनएन की खबर ने कहा कि कारणों की जांच की जा रही है. एक अमेरिकी वेबसाइट ने एक जानकार के हवाले से कहा कि वेस्ट एंड एवेन्यू और वेस्ट 64वीं गली में ट्रांसफॉर्मर में आग लगने के कारण पूरे मैनहटन में लाइट चली गई. इन तमाम खबरों के बीच ये भी कहा जाता रहा कि प्रशासन ने अपील जारी की कि लोग उस खास इलाके के अंडरग्राउंड मेट्रो व सबवे रेलवे स्टेशनों में न जाएं.



इसके बाद प्रशासन के हवाले खबरें आईं कि ट्रांसमिशन लाइन में खराबी के कारण बत्ती गुल हुई. साथ ही, प्रशासन के राहत कार्यों के बीच टाइम्स स्क्वायर सहित सबवे स्टेशन अंधेरे में डूबे रहे और अपर वेस्ट साइड इलाके में हंगामा जारी रहा. इन कुछ घंटों के दौरान सोशल मीडिया पर तस्वीरें और वीडियो लगातार पोस्ट किए जाते रहे, जो वायरल हुए. कोई अंधेरे में ट्रैफिक संभालता नज़र आया तो कहीं भारी भीड़ से पटी गलियां और एक वीडियो में बत्ती गुल होने के समय से बिजली बहाल होने की तस्वीरें भी कैद की गईं.



क्यों इतिहास से जुड़ गई ये घटना?
मैनहटन में घंटों के ब्लैकआउट की ये घटना इतिहास के साथ एक इत्तेफाक के कारण जुड़ गई. अस्ल में इसी दिन यानी 13 जुलाई को ही 1977 में न्यूयॉर्क शहर में एक ऐतिहासिक ब्लैकआउट हुआ था. उसी ब्लैकआउट को शनिवार को 42 साल पूरे हो रहे थे और तभी मैनहटन में ये घटना हुई. 42 साल पहले जब न्यूयॉर्क आर्थिक संकट से गुज़र रहा था, तब 25 घंटों के लिए शहर में ब्लैकआउट हो गया था. तब दुकानों और व्यापारियों को लूटे जाने की कई घटनाएं हुई थीं और बाद में इस ब्लैकआउट के दौरान हुए अपराधों के सिलसिले में सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

यह भी पढ़ें-
चंद्रयान 2 बजट: हॉलीवुड फिल्म से बहुत कम, देश की सबसे महंगी फिल्म से दोगुना
मिशन चंद्रयान 2 के पीछे हैं दो महिलाएं, जानें कौन हैं 'रॉकेट वूमन' और 'डेटा क्वीन'
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...