जानिए क्यों आता है पसीना और क्या इसका बीमारियों से है कोई संबंध

आमतौर पर पसीना (Sweat) अच्छा नहीं माना जाता है, लेकिन यह शरीर (Body) के लिए बहुत जरूरी होने वाली प्रक्रिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
आमतौर पर पसीना (Sweat) अच्छा नहीं माना जाता है, लेकिन यह शरीर (Body) के लिए बहुत जरूरी होने वाली प्रक्रिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

पसीना (Sweating)एक सामान्य शारीरिक क्रिया है इसके लिए दो तरह की ग्रंथियां (Glands) जिम्मेदार होती है, लेकिन असामान्य स्थितियों में पसीना बीमारी (Disease) का संकेत भी होती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 9:31 PM IST
  • Share this:
आमतौर पर पसीना (Sweat) आने का संबंध गर्मी के मौसम (Hot Weather) से लगाया जाता है. इसे कई बार घबराहट (Anxiety), मेहनत (hard work) और बहुत मश्किल हालात (Difficult situation) से भी जोड़कर देखा जाता है. आपने कई लोगों को कहते सुना होगा कि फलां व्यक्ति को फलां काम करने में पसीना आ गया. लेकिन अगर हमसे पूछा जाए कि आखिर यह पसीना आता क्यों है तो शायद कम लोग ही इस सवाल का जवाब दे पाएं. तो आइए आज इस सवाल की पड़ताल करते हैं कि लोगों को पसीना क्यों आता है. इसके अलावा हम इससे जुड़े कुछ सवाल भी देखेंगे.

कैसे आता है पसीना
जब हमारा शरीर किसी वजह से उसके सामान्य तापमान के मुकाबले गर्म होता है तो हमारा दिमाग उसे सामान्य तापमान में लाने के लिए जो करता है उसकी वजह से हमें पसीना आता है. हमारे अंदर यह गर्मी कसरत, ज्यादा काम या बाहर की गर्मी की वजह से हो सकती है. ऐसी स्थिति में हमारा दिमाग प्रतिक्रिया करता है और लाखों एक्रीन ग्रंथियों (Eccrine glands) के जरिए पूरे शरीर में पानी छूटता है जिससे हमारे शरीर का तापमान कम हो सके, सामान्य हो सके.

कुछ खास अंगो में पसीने की अलग ग्रंथियां
वहीं अगर गर्मी का प्रभाव बना रहता है तो बजाए शरीर के गर्म होने के पसीना गर्म होता है और भाप बनकर उड़ता है जिससे शरीर को गर्मी कम लगती है. लेकिन पसीना आमतौर हमारे कुछ खास अंगों में ज्यादा आता है जैसे की कांख (Armpit) आदि. यहां एपोग्रीन ग्रंथियां (apocrine glands) पसीना पैदा करती है और यहां एक बैक्टीरिया भी बनता है जिसके पसीने से अंतरक्रिया करने के कारण पसीने की बदबू पैदा होती है.



Sweat, Sweating, disease,
कई बार पसीना (Sweating) बेचैनी (Anxiety), घबराहट के कारण आता है जो कि बीमारी (Disease) के संकेत भी हो सकते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


हमेशा पसीने से बदबू नहीं आती
एक्रीन ग्रंथियां की तरह एपोग्रीन ग्रंथियां भी कसरत के दौरान सक्रिय होती हैं. लेकिन एपोक्रीन ग्रंथियां तब भी सक्रिय होती हैं जब हमें भावुक, बेचैन या उत्तेजित मानसिक अवस्था में आ जाते हैं. इसका मतलब यह है कि शारीरिक मेहनत से आने वाला पसीने से बदबू उतनी नहीं आती है जितनी की बेचैनी या उत्तेजना के कारण आने वाले पसीने से.

जानिए कैसे होती है बारिश और क्यों होता इसका अलग-अलग समय

बीमारी से पसीने का संबंध
कई बार पसीने का संबंध किसी बीमारी से भी होता है कहा जाता है कि दिल की समस्या होने पर पसीना बहुत आता है, लेकिन इसके अन्य कारण भी हो सकते हैं. असामान्य रूप से पसीना आना एक संकेत हो सकता है कि अब आपको डॉक्टर को दिखाने की जरूरत है. इसके साथ ही अन्य लक्षण भी डॉक्टर को आपकी सही समस्या समझने में मदद करेंगे.

क्या अलग अलग लोगों को आता है अलग तरह से पसीना
यह कई कारकों पर निर्भर करता है. लेकिन यह बिलकुल सच है कि अलग अलग लोगों को अगल तरह से या अलग मात्रा में पसीना आता है. जैसे ज्यादा  वजन वाले और मोटे लोगों को पसीना ज्यादा आता है. इसके अलावा उम्र, शरीर में मांसपेशियों की मात्रा, स्वास्थ्य संबंधी कारण और फिटनेस स्तर जैसे कई कारक हैं जिनकी वजह से पसीना आने की मात्रा लोगों में अलग अलग पाई जाती है.

चांद रोज गोल क्यों नहीं दिखता, जानिए क्या है इसका कारण

बहराल पसीना आना अच्छी बात है और पसीने की वजह से जो बदबू आती है उसका कारण पसीना नहीं पसीने से अंतरक्रिया करने वाले बैक्टीरिया होते हैं और यह बदबू आर्मपिट जैसी जगहों पर खास तौर पर पैदा होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज