जन्मतिथि : आजादी के बाद क्या कांग्रेस के सबसे ताकतवर अध्यक्ष थे कामराज

जन्मतिथि : आजादी के बाद क्या कांग्रेस के सबसे ताकतवर अध्यक्ष थे कामराज
कुमारस्वामी कामराज (फाइल फोटो)

आज कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के कामराज (Kumaraswami Kamaraj) का जन्मदिन है. 15 जुलाई 1903 में उनका जन्म हुआ था. आजादी के बाद कांग्रेस (Congress Party) में कई अध्यक्ष बने लेकिन उनका नाम आज तक लिया जाता है. ये भी कहा जाता है कि आजादी के बाद कांग्रेस पार्टी के सबसे ताकतवर अध्यक्षों में थे.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. अगर आजादी के बाद कांग्रेस (Congress Party)  के सबसे ताकतवर अध्यक्ष की बात की जाए तो उसमें यकीनन एक नाम उभरता है, जो कुमारस्वामी कामराज (Kumaraswami Kamaraj) का है. नेहरू (Jawaharlal Nehru) के निधन के बाद वो कांग्रेस में बहुत ताकतवर हो गए थे. पार्टी में उनकी तूती इस कदर बोला करती थी कि बड़े से बड़ा नेता भी उनसे टक्कर लेने की हिम्मत नहीं कर पाता था. हालांकि बाद में इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) ने उनसे टक्कर ली. लेकिन वो भी जब 1966 में प्रधानमंत्री बनीं, उसमें बड़ी भूमिका कामराज की थी. इंदिरा शुरुआत में उनके रूतबे से आतंकित भी रहती थीं.

माना जाता है कि वो आजादी के बाद कांग्रेस के जितने गैर नेहरू-गांधी अध्यक्ष हुए, उसमें सबसे ताकतवर थे. चीन के साथ 1962 में हुए युद्ध के बाद जब कांग्रेस की छवि कमजोर पड़ रही थी, तब के. कामराज तमिलनाडु (Tamil Nadu) के मुख्‍यमंत्री थे. उन्‍होंने कांग्रेस को मजबूत करने के लिए 2 अक्‍टूबर, 1963 को मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया. इसके बाद उन्‍होंने तत्‍कालीन पीएम पंडित जवाहर लाल नेहरू (Pt. Jawaharlal Nehru) से तमिलनाडु का कांग्रेस अध्‍यक्ष बनाने की पेशकश की. पं. नेहरू को उनका विचार पसंद आया.  उन्‍होंने इसे पूरे देश में लागू कर दिया. इसे ही कामराज प्‍लान कहा जाता है.

तब कई दिग्गज मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को देना पड़ा था इस्‍तीफा
तब कामराज प्‍लान के चलते तब छह कैबिनेट मंत्रियों (Cabinet Ministers) और छह मुख्यमंत्रियों (Chief Ministers) को इस्तीफा देना पड़ा था. कैबिनेट मंत्रियों में मोरारजी देसाई, लाल बहादुर शास्त्री, बाबू जगजीवन राम और एसके पाटिल जैसे लोग थे. वहीं, उत्तर प्रदेश (UP) के चंद्रभानु गुप्त, मध्‍य प्रदेश (MP) के मंडलोई, ओडिशा (Odisha) के बीजू पटनायक जैसे मुख्यमंत्रियों को भी इस्तीफा देना पड़ा था. इसके बाद इसी साल कामराज को कांग्रेस का राष्‍ट्रीय अध्यक्ष बना दिया गया.
ये भी पढ़ें - जानिए किस घड़ी के आधार पर चलता है हमारा Universe



उनका मानना था कि पार्टी के बड़े नेता सरकार में अपने पदों से इस्तीफा दें. अपनी ऊर्जा कांग्रेस पार्टी में नई जान फूंकने के लिए लगाएं. हालांकि, कुछ राजनीतिक विश्‍लेषकों का कहना है कि कामराज प्‍लान ने पं. नेहरू को अपनी नई टीम बनाने के लिए आजाद कर दिया था. कहा जाता है कि कामराज प्लान की बदौलत कुमारस्‍वामी केंद्र की राजनीति में इतने मजबूत हो गए कि नेहरू के निधन के बाद शास्त्री और इंदिरा गांधी को पीएम बनवाने में उनकी भूमिका किंगमेकर की रही. वह तीन बार कांग्रेस अध्यक्ष भी रहे.

के. कामराज को अंग्रेजों ने छह बार जेल भेजा. उन्‍होंने करीब 3,000 दिन जेल में बिताए.


आजादी की लड़ाई में शामिल हुए
भारत रत्‍न के. कामराज का जन्म 15 जुलाई 1903 को तमिलनाडु के विरदुनगर में एक व्यवसायी परिवार में हुआ था. उनका मूल नाम कामाक्षी कुमारस्वामी नाडेर था. बाद में वह के. कामराज के नाम से ही जाने गए. कामराज अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाए. वह 15 साल की उम्र में जलियावाला बाग हत्याकांड के चलते स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े. महज 16 साल की उम्र में वह कांग्रेस में शामिल हो गए. वह 18 साल के थे, तब महात्‍मा गांधी ने असहयोग आंदोलन की शुरुआत की थी.

कामराज इस आंदोलन में शामिल हुए. 1930 में कामराज ने नमक आंदोलन में हिस्सा लिया और पहली बार जेल गए. इसके बाद अंग्रेजों ने उन्हें छह बार जेल भेजा. उन्‍होंने करीब 3,000 दिन जेल में बिताए. उन्‍होंने जेल में रहकर ही पढ़ाई पूरी की और जेल में रहते ही म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के चेयरमैन चुने गए. हालांकि, जेल से बाहर आने के 9 महीने बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया. उनका कहना था कि आपको ऐसा कोई भी पद स्वीकार नहीं करना चाहिए, जिसके साथ आप न्याय नहीं कर सकते हैं.

अनिच्छा से बने थे तमिलनाडु के मुख्यमंत्री
दक्षिण भारत की राजनीति में कामराज को शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है. आजादी के बाद 13 अप्रैल, 1954 को कामराज ने अनिच्छा से तमिलनाडु का मुख्यमंत्री पद स्वीकार किया. हालांकि, प्रदेश को एक ऐसा नेता मिल गया, जो उनके लिए कई क्रांतिकारी कदम उठाने वाला था. कामराज लगातार तीन बार तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे.

ये भी पढ़ें - क्या संतरे के आकार का Black Hole है Planet 9? कैसे मिलेगा इस सवाल का जवाब

साक्षरता दर को जबरदस्त तरीके से बढ़ा दिया था
उन्होंने प्रदेश की साक्षरता दर को 7 फीसदी से बढ़ाकर 37 फीसदी तक पहुंचा दिया. कामराज ने आजादी के बाद तमिलनाडु में जन्मी पीढ़ी के लिए बुनियादी संरचना पुख्ता की थी. उन्होंने व्यवस्था दी कि कोई भी गांव बिना प्राथमिक स्कूल के न रहे. उन्होंने निरक्षरता हटाने का प्रण किया और कक्षा 11वीं तक मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा लागू कर दी. वह स्कूलों में गरीब बच्चों के लिए मिड-डे मील योजना लेकर आए. उन्हीं के कार्यकाल के बाद से तमिलनाडु में बच्चे तमिल में शिक्षा हासिल कर सके.

पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्‍त्री के निधन के बाद कामराज ने इंदिरा गांधी के पक्ष में लामबंदी की और वह कांग्रेस संसदीय दल में 355 सांसदों का समर्थन पाकर देश की तीसरी पीएम बन गईं.


उन्हें ना सही तरीके से हिंदी आती थी और ना अंग्रेजी
कामराज को आजाद भारत के पहले किंगमेकर के तौर पर भी माना जाता है. दो बार प्रधानमंत्री बनने का मौका मिलने के बावजूद उन्होंने यह पद नहीं लिया. पं. नेहरू की मौत के बाद 1964 में कांग्रेस नेतृत्व के संकट से जूझ रही थी. ऐसे में बतौर कांग्रेस अध्यक्ष कामराज ने लाल बहादुर शास्त्री को प्रधानमंत्री पद की कुर्सी पर पहुंचाया.

लाल बहादुर शास्त्री की अचानक हुई मौत के बाद फिर से प्रधानमंत्री की कुर्सी खाली हुई. तब भी कामराज के पास प्रधानमंत्री बनने का मौका था. इस बार सिंडीकेट ने भी कामराज के नाम का प्रस्ताव प्रधानमंत्री पद के लिए दिया, लेकिन उन्होंने इसके लिए साफ मना कर दिया. उन्होंने पश्चिम बंगाल के नेता अतुल्य घोष से कहा, 'जिसे ठीक से हिंदी और अंग्रेजी न आती हो, उसे इस देश का पीएम नहीं बनना चाहिए.' ये बात सही है कि उन्हें सही तरीके से ना तो हिंदी आती थी और ना ही अंग्रेजी. जिसे उन्होंने स्वीकार भी किया था.

ये भी पढे़ं - जानिए ऑस्ट्रेलिया के पानी पर कैसे चीन ने जमा लिया कब्जा?

इंदिरा गांधी के पीएम बनने के बाद कामराज से बढ़ने लगे मतभेद
कामराज और उनके सहयोगियों को कांग्रेस के भीतर 'सिंडिकेट' के नाम से जाना जाता था. नेहरू की मौत के बाद पार्टी में 'सिंडिकेट' की ताकत बहुत बढ़ गई थी. इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद कांग्रेस पार्टी में कामराज की पकड़ कमजोर करने का काम शुरू कर दिया. सिंडिकेट पार्टी चला रहा था और इंदिरा सरकार चला रही थीं. पार्टी और सरकार के बीच मतभेद इस स्तर पर पहुंच गए कि 1969 में औपचारिक रूप से पार्टी का विभाजन हो गया.

चुनाव में हार के बाद इस्तीफा देना पड़ा
लोकसभा चुनाव, 1967 में कांग्रेस कई राज्यों में बुरी तरह हारी. लोकसभा में भी उसे महज 285 सीटें मिलीं. खुद कामराज तमिलनाडु में अपनी गृह विधानसभा विरदुनगर से चुनाव हार गए. इस बार इंदिरा गांधी ने कहा कि हारे हुए नेताओं को पद छोड़ना चाहिए. कामराज ने कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ दिया. हालांकि, नए कांग्रेस अध्यक्ष निजा लिंगाप्पा बने, लेकिन अंदरखाने संगठन के फैसले कामराज ही ले रहे थे. ऐसा लंबे समय तक चलने वाला नहीं था. संगठन और सरकार के बीच दूरी बढ़ती जा रही थी. वरिष्ठ नेता अपनी अनदेखी से नाराज़ थे.

गांधीवादी कामराज की 2 अक्टूबर, 1975 को गांधी जयंती के दिन हार्टअटैक से मौत हो गई.


मरणोपरांत भारत रत्न सम्मानित हुए
जाकिर हुसैन के बाद होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में संगठन ने आंध्र प्रदेश के नेता नीलम संजीव रेड्डी को प्रत्याशी घोषित किया तो इंदिरा ने उपराष्ट्रपति वीवी गिरि को पर्चा दाखिल करने को कहा. रेड्डी चुनाव हार गए और गिरि राष्ट्रपति बन गए. संगठन के वरिष्ठ नेताओं ने नवंबर, 1969 में इंदिरा गांधी को पार्टी से निकाल दिया और कांग्रेस संसदीय दल को नया नेता चुनने का आदेश दिया. संसदीय दल की बैठक में इंदिरा को 285 में 229 सांसदों का समर्थन मिला. बचे वोट उन्होंने तमिलनाडु में कामराज की धुर विरोधी डीएमके से जुटा लिए. लेफ्ट पार्टियां भी उनके साथ आ गईं.

फिर ढलने लगा उनका सितारा
हालांकि इस बाद कांग्रेस पार्टी कांग्रेस ओ (ऑर्गनाइजेशन) और इंदिरा की कांग्रेस (रूलिंग) में बंट गई और कामराज ने केंद्र की राजनीति छोड़ तमिलनाडु का रास्ता पकड़ लिया. 1971 में हुए लोकसभा चुनाव में कामराज तो जीत गए लेकिन संगठन के ज्यादातर नेता हार गए. इंदिरा की कांग्रेस को जनादेश मिला और कामराज की राजनीति का सूरज ढलना शुरू हो गया. गांधीवादी कामराज की 2 अक्टूबर, 1975 को गांधी जयंती के दिन हार्टअटैक से मौत हो गई. उन्हें 1976 में मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading