Home /News /knowledge /

Kushinagar International Airport: पूर्वांचल के लिए गेम चेंजर है ये प्रोजेक्ट, जानिए कैसे?

Kushinagar International Airport: पूर्वांचल के लिए गेम चेंजर है ये प्रोजेक्ट, जानिए कैसे?

बौद्ध धर्म के प्रवर्तक भगवान गौतम बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थली में आज इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन होगा.

बौद्ध धर्म के प्रवर्तक भगवान गौतम बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थली में आज इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन होगा.

Kushinagar International Airport, a game changer for east up: बिहार की सीमा से लगे पूर्वांचल के इस पर्यटन स्थल के विकास से पूरे इलाके की आर्थिक सेहत पर असर पड़ने की संभावना है.

    Kushinagar International Airport: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन कर रहे हैं. इस एयरपोर्ट को पूर्वांचल के लिए एक गेम चेंजर माना जा रहा है. यह भगवान बुद्ध की परिनिर्माण स्थली है. इस एयरपोर्ट के बनने के बाद बिहार से सटे इसे पूरे इलाके में पर्यटन उद्योग के विकास की संभावना जताई जा रही है. श्रीलंका का एक प्रतिनिधिमंडल पहली अंतरराष्ट्रीय उड़ान से सबसे पहले कुशीनगर आ रहा है. इसमें सरकारी 25 प्रतिनिधि और 100 बौद्ध श्रद्धालु भी यहां आएंगे.

    क्यों गेम चेंजर साबित होगा यह एयरपोर्ट
    कुशीनगर दुनिया के बौद्ध पर्यटकों के लिए एक पवित्र स्थल है. इस एयरपोर्ट के बनने से श्रीलंका, जापान, ताइवान, दक्षिण कोरिया, चीन, थाइलैंड, वियतनाम और सिंगापुर सहित तमाम देशों से पर्यटक सीधे कुशीनगर पहुंच सकेंगे. अभी तक ऐसे पर्यटकों को कुशीनगर पहुंचने में बहुत परेशानी होती थी. एक रिपोर्ट के मुताबिक बीते पांच साल में 18 देशों से 42.17 लाख पर्यटक कुशीनगर आए. माना जा रहा है कि इस एयरपोर्ट के बनने ने इनकी संख्या में 20 फीसदी का इजाफा होगा.

    बुद्धिस्ट सर्किट की यात्रा कम समय में पूरी होगी
    इस एयरपोर्ट के बनने से पर्यटक कम समय में बुद्धिस्ट सर्किट की यात्रा पूरी कर पाएंगे. बौद्ध सर्किट के तहत लुंबिनी, बोध गया, सारनाथ, कुशीनगर, श्रावस्ती, राजगीर, संकिसा और वैशाली आते हैं. यहां से वे आसानी से इन जगहों की यात्रा कर पाएंगे. ये सभी बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए बेहद पवित्र स्थल हैं.

    इलाके में पर्यटन उद्योग बढ़ने की संभावना
    इस एयरपोर्ट के बनने के बाद इलाके में पर्यटन उद्योग के 20 फीसदी तक बढ़ने की संभावना है. माना जा रहा है कि इस एयरपोर्ट के बनने से यहां आने वाले पर्यटकों की संख्या में 20 फीसदी तक की बढ़ोतरी हो सकती है. इससे इलाके में रोजगार के अवसर पैदा होंगे और इलाके का विकास होगा.

    इंफ्रास्ट्रक्चर विकास
    इलाके में इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास पर जोर दिया जा रहा है. यहां बने रनवे की लंबाई 3200 मीटर और चौड़ाई 45 मीटर है. यह राज्य का सबसे बड़ा रनवे है और यहां से हर घंटे चार विमान उतर और चार विमान उड़ान भर सकते हैं. यहां पर 3600 वर्ग मीटर का अंतरिम पैसेंजर बिल्डिंग भी बनाया गया है.

    स्थानीय उत्पादों को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय पहचान
    कुशीनगर में एयरपोर्ट बनने के बाद पड़ोसी बिहार और आसपास के इलाकों को काफी फायदा होगा. यहां होटल, रेस्टोरेंट्स, ट्रेवल एजेंसी, गाइड और अन्य सेवाओं की मांग बढ़ेगी. वहीं स्थानीय उत्पादों को भी अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलेगी. यहां के स्थानीय उत्पाद जैसे टेराकोटा (Terracotta), कालानमक चावल, केले बहुत प्रसिद्ध हैं.

    गोरखपुर है प्रमुख नजदीकी शहर
    कुशीनगर पहुंचने के लिए गोरखपुर नजदीकी प्रमुख शहर है. गोरखपुर भारतीय रेल नेटवर्क का एक प्रमुख स्टेशन है. यहां से देश के लगभग सभी प्रमुख शहरों के लिए ट्रेनें हैं. यहां पर पहले से ही एयरपोर्ट भी है लेकिन वह घरेलू एयरपोर्ट है और वहां से प्रमुख भारतीय शहरों के लिए उड़ान सेवाएं हैं.

    Tags: Kushinagar Airport, Kushinagar International Airport, Kushinagar news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर