लाइव टीवी

जब राममंदिर आंदोलन के प्रमुख चेहरा रहे लालकृष्ण आडवाणी लिखा करते थे फिल्मों की समीक्षा

News18Hindi
Updated: November 8, 2019, 7:08 PM IST
जब राममंदिर आंदोलन के प्रमुख चेहरा रहे लालकृष्ण आडवाणी लिखा करते थे फिल्मों की समीक्षा
आडवाणी ने संघ की पत्रिका के लिए मूवी रिव्यू भी लिखे हैं

हिंदुत्व की राजनीति के शिखरपुरुष आडवाणी (Lal Krishna Advani) आज 92 साल के हो गए. आडवाणी कभी संघ (RSS) की पत्रिका में फिल्मों के रिव्यू (movie review) भी लिखा करते थे. फिल्मों के शौक का उनका एक किस्सा बड़ा मशहूर है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2019, 7:08 PM IST
  • Share this:
राममंदिर आंदोलन (Ram Mandir movement) से देश की राजनीति बदल देने वाले लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) आज 92 साल के हो गए. बीजेपी (BJP) के वरिष्ठ नेता आडवाणी ने 1990 में राममंदिर आंदोलन की शुरुआत की थी. उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर सोमनाथ से अयोध्या तक रथयात्रा की थी. उनकी रथयात्रा ने देश की राजनीति बदलकर रख दी.

1992 के अयोध्या राममंदिर आंदोलन उनके नेतृत्व में हुई. जिस वक्त पूरा देश अयोध्या में राममंदिर निर्माण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतजार कर रहा है. आडवाणी राजनीतिक पृष्ठभूमि में चले गए हैं.



जनसंघ से की राजनीति की शुरुआत

लालकृष्ण आडवाणी का जन्म पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हुआ था. उनकी शुरुआती पढ़ाई कराची में हुई. उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के साथ सेंट पैट्रिक हाईस्कूल में पढ़ाई की है. उसके बाद उन्होंने सिंध कॉलेज से पढ़ाई की. बाद में उनका परिवार मुंबई आ गया. लालकृष्ण आडवाणी जब 14 साल के थे तब वो संघ से जुड़ गए.

1951 में वो जनसंघ से जुड़े. उसके बाद 1977 में जनता पार्टी का साथ निभाया. 1980 में बीजेपी का उदय हुआ. इसके साथ ही भारत की राजनीति में अटल आडवाणी युग की शुरुआत हुई. अटल आडवाणी की जोड़ी ने देश की राजनीति की दिशा बदल दी.

आडवाणी अपने सियासी सफर में कई अहम पदों पर रहे. 1977 में सूचना प्रसारण मंत्री बने तो साल 2002 में उप-प्रधानमंत्री. 2009 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार उनके लिए बड़ा झटका साबित हुई. उसके बाद बीजेपी में नई पीढ़ी के आगमन के लिए उन्होंने रास्ता छोड़ दिया. उनकी राजनीतिक सक्रियता कम हो गई.
Loading...

lal krishna advani birth anniversary When hero of the ram mandir movement used to write film review in rss magzine
लाल कृष्ण आडवाणी


जब फिल्मों की समीक्षा लिखा करते थे आडवाणी
कम ही लोगों को पता है कि लालकृष्ण आडवाणी कभी हिंदी फिल्मों की समीक्षा भी किया करते थे. आडवाणी संघ की पत्रिका आर्गेनाइजर और मदरलैंड में फिल्मों के रिव्यू भी किया करते थे. उन्हें गंभीर फिल्म समीक्षक माना जाता था. उनकी फिल्म समीक्षा में संघ के नजरिए की झलक दिखा करती थी. उनके रिव्यू को छापने के लिए एक कॉलम बनाया गया था. उस कॉलम का नाम था- Cine Notes by Netra

आडवाणी को उन दिनों फिल्में देखने का शौक था. अटल बिहारी वाजपेयी और आडवाणी का एक किस्सा बड़ा मशहूर है. ये 1958 का वाकया है. उनदिनों अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी जनसंघ में हुआ करते थे. जनसंघ की दिल्ली लोकल बॉडी के चुनावों में हार का मुंह देखना पड़ा था.

जब चुनाव हारने पर अटल-आडवाणी ने फिल्म देखी
अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी ने उस चुनाव के लिए बड़ी मेहनत की थी. हार से दोनों दुखी थे. उनदिनों अजमेरी गेट में जनसंघ का दफ्तर हुआ करता था और पास ही में पहाड़गंज में थिएटर. आडवाणी को उदास देखकर अटलजी ने कहा कि चलो कहीं फिल्म देखने चलते हैं. उसके बाद दोनों ने मिलकर राजकपूर की फिल्म फिर सुबह होगी देखी थी.

आडवाणी ने उनदिनों को याद करते हुए एक इंटरव्यू में कहा था- ‘जनसंघ के दिनों में हम एक उपचुनाव हार गए थे. इससे हम सब बहुत दुखी थे. निराशा में शांत चुपचाप बैठे थे. अचानक अटलजी ने कहा कि चलो कोई फिल्म देखने चलते हैं. पहले तो मैं चौंका लेकिन फिर झट से तैयार हो गया. हम दोनों दिल्ली में इंपीरियल सिनेमा गए. वहां फिर देखा तो राजकपूर की फिल्म फिर सुबह होगी लगी थी. हमने टिकट लिया और फिल्म देखने चले गए.’

lal krishna advani birth anniversary When hero of the ram mandir movement used to write film review in rss magzine
लालकृष्ण आडवाणी


आडवाणी ने फिल्म देखने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी से कहा था कि आज हम हारे हैं, लेकिन आप देखिएगा सुबह जरूर होगी. उनकी बात सच साबित हुई.

आडवाणी अक्सर फिल्में देखा करते थे. लेकिन राजनीति में सक्रिय होने के बाद उनके पास वक्त कम रहने लगा. उन्हें आमिर खान की फिल्में पसंद आती हैं. आमिर खान ने अपनी फिल्म सीक्रेट सुपरस्टार उन्हें खासतौर पर दिखाई थी. आडवाणी उनकी 3 इडियट्स और पीके जैसे फिल्में भी देख चुके हैं.

ये भी पढ़ें: 25 हजार करोड़ से कैसे पूरे होंगे अधूरे पड़े लाखों हाउसिंग प्रोजेक्ट

हर साल इसी सीजन में क्यों महंगा होता है प्याज

परिवार का कर्ज उतारने के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता सीवी रमन ने की थी अकाउंटेंट की नौकरी

बीजेपी-शिवसेना का साथ रहकर भी लड़ने का इतिहास पुराना है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 10:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...