लाइव टीवी

Coronavirus: जानें वुहान के लोग कैसे 2 महीने से लॉकडाउन में हैं, उनसे सीखें

News18Hindi
Updated: March 25, 2020, 12:36 PM IST
Coronavirus: जानें वुहान के लोग कैसे 2 महीने से लॉकडाउन में हैं, उनसे सीखें
हम वुहान से लीख सकते हैं कि लॉकडाउन में कैसे रहा जाए

कोरोना वायरस (coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ने के कारण देशभर के 30 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 21 दिनों के लिए कंप्लीट लॉकडाउन (complete lock down) हो चुका है. ऐसे में हम वुहान (Wuhan) से लीख सकते हैं कि लॉकडाउन में कैसे रहा जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2020, 12:36 PM IST
  • Share this:
दिसंबर के आखिरी हफ्ते में वुहान में कोविड- 19 (Covid- 19) का पहला मामला आने के बाद से ही सरकार एक्शन में आ गई और 22 जनवरी को प्रांत पूरी तरह से लॉकडाउन हो गया. लोगों को होम क्वेरेंटाइन में रख दिया है. अब पूरे दो महीने बीतने के बाद वुहान में क्वेरेंटाइन में थोड़ी ढील मिली है. सरकार का कहना है कि अगर संक्रमण के मामले पूरी तरह से बंद हो जाएं तो 8 अप्रैल से हुबई प्रांत से सारे प्रतिबंध हटा दिए जाएंगे. वायरस का गढ़ होने के बाद चीनियों ने किस तरह से इतने लंबे प्रतिबंध का पालन किया, ये अब भारत में अपनाए जाने की जरूरत है.

जब वुहान के नागरिकों को समझ आया क्वेरेंटाइन लंबा खिंचने वाला है, वे एक-दूसरे की मदद करने लगे. इसके लिए चीन के स्थानीय सोशल मीडिया ग्रुप xiao qu (小区) की मदद से ग्रुप बने. कॉलोनी में रहने वाले लोग एक-दूसरे से जुड़े और एक-दूसरे की जरूरतें पूरी करने लगे. जैसे 50 से 500 लोगों के ग्रुप बने. ग्रुप में जब कभी दवा, खाना, दूध जैसी जरूरत होती तो 2 लोग मिलकर सामान लेकर आते. ये रोटेशन पर चलता ताकि संक्रमण कम से कम फैले.

ग्रुप के सदस्य ऑनलाइन या सुपरमार्केट से सारी खरीददारी एक ट्रांजेक्शन पर करते रहे


इस ग्रुप में सूचनाएं भी शेयर की जाती थीं. जैसे अगर कहीं से ये सूचना आए कि फलां तरीके से वायरस का इलाज हो सकता है तो xiao qu ग्रुप उसे कंफर्म करता और लोगों को सचेत करता कि अभी तक कोई इलाज नहीं मिला है इसलिए घरेलू तरीके अपनाने की बजाए अस्पताल जाएं. इस xiao qu का मतलब है छोटे जिले. ये इसी ढंग से काम करने की कोशिश करता.



xiao qu ग्रुप के सदस्य ऑनलाइन या सुपरमार्केट से सारी खरीददारी एक ट्रांजेक्शन पर करते रहे ताकि सुपरमार्केट में काम करने वालों का काम भी आसानी से हो सके और वे भी बीमारी से दूर रहें.

सोशल डिस्टेंसिंग के दौरान हफ्तों तक लोग अपने परिवार के अलावा किसी दूसरे का चेहरा भी नहीं देख सके. घूमना-फिरना या कोई भी सामाजिक उत्सव पूरी तरह से बंद रहा. उस पूरे दौरान ग्रुप में लोग एक-दूसरे से कनेक्ट रहे और अपनी तकलीफें बांटते रहे. ऐसे लोग जिनका पेशा मनोविज्ञान रहा हो, वे ग्रुप से जुड़कर अकेलापन महसूस कर रहे लोगों की मदद करते रहे.

लोग एक-दूसरे से कनेक्ट रहे और अपनी तकलीफें बांटते रहे


कई जगहों पर वर्चुअल डांस पार्टी सेलिब्रेट की जाती रही. इस दौरान लोग अपने घरों पर वेब कैम के जरिए कनेक्ट होकर एक साथ डांस करते और एक-दूसरे से जुड़ा महसूस करते. ये भी काफी काम आया.

घरों में कैद रहने के दौरान सबसे जरूरी है शारीरिक सेहत भी बनाए रखना. इसके लिए वुहान के लोगों ने घर ने भीतर भी वर्जिश चालू रखी. जैसे वे अपने घरों के भीतर भी चारों और लगातार दौड़ते और फिर एक-दूसरे से अपनी प्रोग्रेस शेयर करते. इससे दूसरों को भी प्रेरणा मिलती. बहुतों ने इस दौरान एक कमरे के भीतर ही 100 किलोमीटर की दौड़ लगाई और वीडियो भी शेयर किए.

चीन के बाद कोरोना से 3 सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में से एक स्पेन में भी सोशल डिस्टेंसिंग हो रही है


चीन के बाद कोरोना से 3 सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में से एक स्पेन में भी सोशल डिस्टेंसिंग के दौरान संपर्क बना रहे, इसकी कोशिशें हो रही हैं. जैसे एक जिम इंस्ट्रक्टर अपनी छत से लोगों को कसरत करवा रहा है. स्पेन के Seville शहर के इस इंस्ट्रक्टर का नाम है gonzalo Gbroto, जो लॉकडाउन के बाद से लगातार अपनी छत से लोगों को एक्सरसाइज की ट्रेनिंग दे रहे हैं. इसका एक वॉट्सएप ग्रुप भी है जिसमें वे खुद कसरत करते हुए वीडियो शेयर करते हैं. इससे वे social distancing का भी पालन कर पा रहे हैं.

इटली में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित प्रांत Codogno में एक रेडियो स्टेशन बना है. Radio Zona Rossa नाम से इस रेडियो स्टेशन का मकसद ही है लोगों को हमो क्वेरेंटाइन की मुश्किलों के दौरान सकारात्मक रखना. इसमें सकारात्मक संदेशों के साथ लोगों को अस्पताल खुलने या किसी खास डॉक्टर के आने का समय, सड़कों के हाल, बिजली-पानी या जरूरी सुविधाओं की जानकारी भी दी जाती है.

ये भी पढ़ें:

धर्मस्थलों के पास अकूत संपत्ति, क्या कोरोना से लड़ाई में सरकार लेगी उनसे धन

ग्राफिक्स से समझिए कि कैसे शरीर में घुसकर इंसान को बीमार बनाता है कोरोना वायरस!

देश के 30 राज्यों में लॉकडाउन, जानिए जनता को इस दौरान क्या करने की आजादी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 11:08 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर