Black Hole के पास Light ने दिखाया बूमरैंग सा करतब, वैज्ञानिक हुए हैरान

Black Hole के पास Light ने दिखाया बूमरैंग सा करतब, वैज्ञानिक हुए हैरान
तारे का ब्लैक बोल से बच निकलना पहली बार देखा गया है.

एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया है कि ब्लैकहोल (Black Hole) के बाहर डिस्क से टकराकर प्रकाश (light) बाहर की ओर जाने के बजाए ब्लैकहोल में वापस खिंचा चला गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2020, 3:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: पिछले कुछ सालों में वैज्ञानिकों को ब्लैकहोल (Black Hole) के बारे में नई जानकारियां मिल रही हैं. ब्लैकहोल शोधकर्ताओं के लिए हमेशा से ही कौतूहल का विषय रहे हैं. उतनी ही कठिन इनके बारे में जानकारी हासिल करना भी रहा है. हाल ही में ब्लैकहोल के ठीक बाहर प्रकाश का असामान्य बर्ताव देखा गया है जिससे ब्लैकहोल के बारे में नई जानकारी मिलने की संभावना है.

हमारे सूर्य से 10 गुना बड़ा ब्लैकहोल
शोधकर्ताओं ने एक्स रे तस्वीरों के अध्ययन के आधार पाया है कि ब्लैकहोल से बाहर निकलने वाली प्रकाश की किरणें  बूमरैंग कीतरह वापस भी जा सकता है. शोधकर्ताओं को यह असमान्य बर्ताव लग रहा है. उन्होंने यह बर्ताव पुराने एक्स रे अवलोकन के आंकड़ों का अध्ययन करते समय पाया. ये आकड़े पृथ्वी से 10 गुना ज्यादा भार वाले ब्लैकहोल के हैं.

कितनी दूर है यह ब्लैकहोल
यह ब्लैकहोल अपने पास के तारे को अपनी ओर खींच रहा था. XTE J1550-564 नाम का ब्लैकहोल हमसे करीब 17000 प्रकाश वर्ष दूर स्थित है. ब्लैक होल के आसपास की चीजें अजीब सा बर्ताव करती हैं.ब्लैक होल बहुत ही ज्यादा घनत्व वाले पिण्ड होते हैं और इतना अधिक गुरुत्वाकर्षण खिचांव पैदा कर देते हैं कि प्रकाश भी इनकी ओर जाने से बच नहीं पाते हैं.



Black holeव
ब्लैकहोल में प्रकाश भी खिंचा चला जाता है, लेकिन उसकी सतह से कई बार प्रकाश बाहर आ जाता है.


बलैकहोल के पास अजब व्यवहार
ताजा  अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया है कि प्रकाश ब्लैकहोल के आसपास, अब तक जितना समझा रहा रहा था, उससे ज्यादा अजीब व्यवहार करते हैं. ब्लैकहोल के आसपास एक डिस्क बनती है जो वास्तव में सर्पिल आकार का, सपाट धूल और गैस का बादल होता है. यह ब्लैकहोल के किनारे पर उसका चक्कर लगाता है. कई बार इस डिस्क से प्रकाश अंतरिक्ष में बाहर आ जाता है.

बूमरैंग की तरह प्रकाश का बर्ताव
अध्ययन के मुताबिक शोधकर्ताओं ने बताया कि XTE J1550-564 ब्लैकहोल से जो प्रकाश निकला उसने वह अनुमानित रास्ता नहीं पकड़ा, लेकिन डिस्क से बाहर निकलने के बजाय प्रकाश ब्लैकहोल की ओर खिंचा चला गया और फिर डिस्क से प्रतिबिंबित होकर ब्लैक होल से दूर चला गया. बिलकुल एक बूमरैंग की तरह.

कैसे किया गया यह अध्ययन
नासा  के एक निष्क्रिय हो चुके सैटेलाइट, रोसी एक्स रे टाइमिंग एक्सप्लोरर के 1995 से 2012 तक के आंकड़ों के अध्ययन के आधार पर शोधकर्ताओं ने ब्लैकहोल की उस बढ़ती डिस्क और कोरोना अध्ययन किया. कोरोना ब्लैकहोल के बहुत ही करीब एक कम घवत्व वाला गैस क्षेत्र है.

Black hole
सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर की थ्योरी की वजह से ब्लैक होल के खोज में मदद मिली


क्या दिखी नई बात
कैलीफोर्निया के पैसाडेना स्थित कैलीफोर्निया इंस्टीट्यूट के एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स कैहिल सेंटर के शोधकर्ता रीले कोनर्स ने बताया कि उनकी टीम उस कोरोना से आने वाले प्रकाश का अध्ययन कर रहे थे. वह प्रकाश जैसे उछल कर स्पाइरल (Spiral) आकार में ब्लैकहोल की ओर वापस जाने लगा. आमतौर पर कोरोना से आने वाला प्रकाश डिस्क से टकराता है और फिर हमारी ओर आता है. ऐसा हम लंबे समय से देख रहे हैं.”

बदल गया रास्ता
इस बार डिस्क की ओर से आने वाला कुछ प्रकाश कोरोना से न निकल कर खुद डिस्क से निकलता दिखाई दिया. इसके बाद वह टकराकर दूर जाने के बजाए ब्लैकहोल में ही वापस चला गया. कोनर्स ने कहा, “हमने जो पाया उसका अंदेशा 1970 में लगाया गया था. कि ऐसा प्रकाश देखा जा सकता है जो डिस्क से मुड़ कर वापस ब्लैकहोल में चला जाएगा.”.

कैसे पता चला कि प्रकाश ने अलग रास्ता पकड़ा
ब्लैकहोल के आसपास से आने वाले प्रकाश अलग-अलग तरह के एक्सरे संकेत होते हैं जिससे वैज्ञानिकों को पता चलता है कि प्रकाश कहां से आ रहा है. XTE J1550-564 के आंकड़े देखने पर शोधकर्ताओं ने पाया कि जो प्रकाश ब्लैकहोल से परावर्तित होकर आ रहा है उसके संकेत उस प्रकाश से मेल नहीं खाते जो कोरोना से आता है इस अंतर को समझने के लिए शोधकर्ताओं ने कंप्यूटर की मदद ली.

क्या नई जानकारी मिलेगी इससे
इस नए अनुभवों से वैज्ञानिकों को कुछ नई जानकारियां भी मिलेंगी.वे इस तरह की डिस्क के बारे में तो जानते हैं जो ब्लैकहोल का चक्कर लगाती है. लेकिन अब वे ब्लैकहोल के घुमाव (Spin) गति के बारे में भी जान सकेंगे. माना जा रहा है कि केवल इसी ब्लैकहोल में ही इस तरह का बर्ताव हो ऐसा नहीं होगा. शोधकर्ताओं का मानना है कि ऐसा वे अन्य ब्लैकहोल में भी जल्दी ही देख सकते हैं.

यह भी पढ़ें:

वैज्ञानिकों को मिला एक Hot Jupiter, दूसरी पृथ्वी खोजने में होगा सहायक

कब से खिसक रही हैं टेक्टोनिक प्लेट, शोधकर्ताओं को मिला इस अहम सवाल का जवाब

USCG ने बनाया चांद का नक्शा, जानिए क्यों माना जा रहा है यह अहम

कब से खिसक रही हैं टेक्टोनिक प्लेट, शोधकर्ताओं को मिला इस अहम सवाल का जवाब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज