लाइव टीवी

दुनियाभर के ये मुल्क लागू कर चुके हैं लॉकडाउन, बताई ये बड़ी वजह

News18Hindi
Updated: March 22, 2020, 5:51 PM IST
दुनियाभर के ये मुल्क लागू कर चुके हैं लॉकडाउन, बताई ये बड़ी वजह
वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए कई देश लॉकडाउन की घोषणा कर चुके हैं

लॉकडाउन (lockdown) के एलान के बाद उसका सख्ती से पालन हो सके, इसके लिए 1 लाख पुलिस अफसर चेक पॉइंट्स पर तैनात किए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2020, 5:51 PM IST
  • Share this:
दुनियाभर में कोरोना के दर्ज आंकड़े 3 लाख पार कर चुके हैं. WHO की मानें तो 188 देश इसकी चपेट में हैं. ऐसे में बार-बार जो शब्द सुना जा रहा है, वो है लॉकडाउन. कई सारे देश अपने-आप को लॉकडाउन घोषित कर रहे हैं. 2 महीने पहले जब चीन ने अपने 2 शहरों वुहान और हुबई को लॉकडाउन करने की घोषणा की तो पूरी दुनिया में हैरत की लहर दौड़ गई थी. यहां तक कि आर्थिक मामलों के कई सलाहकारों ने कहा कि चीन का ये निर्णय भारी साबित हो सकता है. दो हफ्तों के भीतर ही महामारी के धड़ाधड़ आते मामलों में कमी आनी शुरू हुई और अब दुनिया के कई सारे देश चीन के रास्ते पर हैं.

इटली
8 मार्च को इटली के उत्तरी इलाके को बंद किया गया जो कि आउटब्रेक का केंद्र माना जा रहा था. दो ही दिनों बाद पूरे देश को बंद करने की घोषणा हो गई. 10 मार्च से पूरे देश की लगभग 60 मिलियन आबादी घरों में बंद हो गई. केवल इमरजेंसी सेवाओं के लिए बाहर निकला जा सकता है. ये लॉकडाउन 3 अप्रैल तक चलेगा. इटली में हालात वैसे अभी भी नहीं बदले हैं और मौतों का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है लेकिन तब भी ये माना जा रहा है कि लॉकडाउन से जल्दी ही वायरस पर नियंत्रण मिल सकेगा.

फ्रांस



यहां पर 17 मार्च से लॉकडाउन हो चुका है. इससे पहली ही शाम प्रेसिडेंट Emmanuel Macron ने कहा कि देश के लिए ये सबसे मुश्किल वक्त है लेकिन संक्रमण फैलने से रोकने के लिए हमें ये स्टेप लेना होगा. इसके साथ ही लॉकडाउन जारी हो गया. बता दें कि कोरोना के कोहराम से ये देश भी नहीं बच सका है. यहां अब तक 14,459 मामले आ चुके हैं और 500 से ज्यादा मौतें दर्ज हो चुकी हैं. ऐसे में लॉकडाउन लगाने के बाद उसका सख्ती से पालन हो सके, इसके लिए 1 लाख पुलिस अफसरों को चेक पॉइंट्स पर तैनात किया गया है.

बेल्जियम
यहां पर 5 अप्रैल तक पूरे देश में सेल्फ आइसोलेशन लगा हुआ है. ये 15 दिन के लॉकडाउन से कहीं ज्यादा है. यहां अबतक 2,815 मामले रिपोर्टेड हैं, जिनमें से केवल 263 मरीज ही पूरी तरह से रिकवर हुए हैं. ऐसे में ये देश पूरी कड़ाई से लॉकडाउन का पालन कर रहा है.

आयरलैंड
माना जा रहा है कि यहां पर अगले एकाध दिन में देशभर में लॉकडाउन की घोषणा हो सकती है. यहां 785 मामले दर्ज हो चुके हैं और रिकवरी रेट बहुत कम मानी जा रही है.

यूनाइटेड किंगडम
यहां कोरोना का संक्रमण 5 हजार पार कर चुका है, वहीं 233 मौतें दर्ज की जा चुकी हैं. अकेले लंदन में ही 21 मार्च को कोरोना की वजह से 53 मौतें रिकॉर्ड हुईं. यही वजह है कि लंदन की लाइफलाइन माने जाने वाली अंडरग्राउंड सेवाएं बंद कर दी गईं. लॉकडाउन को ढंग से लागू करने के लिए British Ministry of Defence ने अतिरिक्त पुलिस बल की व्यवस्था की है.

जर्मनी
इस देश में कोरोना का कहर बुरी तरह से बरपा, जहां 22,364 लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं. अब तक बर्लिन ने ऑफिशियल लॉकडाउन की घोषणा नहीं की है लेकिन लोगों से अपील की जा रही है कि वे होम क्वेरेंटाइन का पालन करें. इसी बीच देश के 16 राज्यों में Bavaria पहला शहर बन गया जिसने सरकारी स्तर पर लॉकडाउन घोषित कर दिया.

कैलीफोर्निया
अमेरिका में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. 26,900 दर्ज मामलों के बीच साढ़े 3 सौ मौतें हो चुकी हैं. ऐसे में अमेरिका के कई स्टेट लॉकडाउन हो रहे हैं. इनमें कैलीफोर्निया सबसे ऊपर है. अमेरिका में ये अपनी तरह का पहला लॉकडाउन है, जो फिलहाल 7 अप्रैल तक के लिए लागू हुआ है 40 मिलियन की आबादी इसके दायरे में है.

कोरोना वायरस (coronavirus) के बढ़ते खतरे को देखते हुए कई देश लॉकडाउन की घोषणा कर चुके हैं. वैक्सीन (vaccine) की खोज में जुटे वैज्ञानिकों का मानना है कि फिलहाल हमारे पास वायरस को बढ़ने से रोकने (prevention of virus) के लिए इससे बेहतर कोई रास्ता नहीं. वहीं भारत की बात करें तो  देश के 75 जिलों में लॉकडाउन लागू हो रहा है. राजस्थान, पंजाब, ओडिशा को पूरी तरह से लॉकडाउन हैं तो महाराष्ट्र में भी चार और मध्यप्रदेश के करीब आठ शहरों को लॉकडाउन किया गया है. लॉकडाउन की इस व्यवस्था के पीछे संक्रामक बीमारियों के विशेषज्ञों की ये राय है कि इससे महामारी की रफ्तार कम की जा सकती है. इसे विज्ञान की भाषा में flattening the curve कहते हैं. यानी हम बीमारी को रोक नहीं सकेंगे लेकिन उसकी गति को कम कर सकेंगे. इस बीच वैक्सीन खोजने का वक्त मिल सकेगा.

ये भी देखें:

जानें लॉकडाउन में आप क्या कर सकते हैं और क्या नहीं

कोरोना वायरस से जंग में दक्षिण कोरिया सबसे आगे, काम कर रहा ये तरीका

Coronavirus: पीएम मोदी ने घंटा, ताली, शंख बजाकर आभार जताने को ही क्‍यों कहा ? जानें वैज्ञानिकता और फायदे

पहले ही कोरोना की भविष्यवाणी कर चुके वैज्ञानिक ने बताया, मारे जाएंगे 16 करोड़ से ज्यादा

Coronavirus: दुनिया के सबसे तेज सुपर कंप्यूटर ने खोज निकाली कोरोना वायरस की काट!

ये टेस्ट सिर्फ 30 मिनट में बता देगा कि कोरोना है या नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 22, 2020, 5:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर