लोकसभा चुनाव 2019: कैसे होती है मतों की गिनती, गड़बड़ी होने पर करते हैं ये

लोकसभा चुनाव 2019 के रिजल्ट के लिए 23 मई को मतगणना होनी है. मतों की गिनती सवेरे 8 बजे से शुरू हो जाएगी.

News18Hindi
Updated: May 22, 2019, 2:43 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: कैसे होती है मतों की गिनती, गड़बड़ी होने पर करते हैं ये
23 मई को सवेरे 8 बजे से मतों की गिनती शुरू हो जाएगी (सांकेतिक तस्वीर)
News18Hindi
Updated: May 22, 2019, 2:43 PM IST
चुनावों की गिनती के मामले में 22 विपक्षी पार्टियां इस मामले में मंगलवार को चुनाव आयोग से मिलीं और गुजारिश की कि चुनाव आयोग किसी लोकसभा सीट के अंतर्गत जिन विधानसभा क्षेत्रवार लॉटरी प्रणाली से पहले ही पांच वीपीपैट और ईवीएम के मिलान कर लिए जाएं और इसके बाद ईवीएम के वोटों की गिनती की जाए. लेकिन चुनाव आयोग ने उनकी इस मांग को नकार दिया है.

वहीं मंगलवार की सुबह फिर से सुप्रीम कोर्ट ने 100 फीसदी ईवीएम और वीवीपैट मतों के मिलान की विपक्षी दलों की याचिका को फिर से खारिज कर दिया है.



पढ़िए कैसे होती है मतों की गिनती-

# मतों की गिनती 23 मई को सवेरे 8 बजे से ही शुरू होगी.

# इससे पहले रिटर्निंग ऑफिसर और असिस्टेंट रिटर्निंग ऑफिसर मतों की गोपनीयता बनाए रखने की शपथ लेंगे. वे इस शपथ को वोटों की गिनती शुरू होने से पहले जोर-जोर से बोलकर पढ़ेंगे.

# वोटिंग शुरू होने से पहले सारी EVM मशीनों की जांच की जाएगी. यह जांच भी रिटर्निंग ऑफिसर की उपस्थिति में ही की जाएगी.

# मतों की गिनती के दौरान चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों को अपने काउंटिंग एजेंट या इलेक्शन एजेंट के साथ काउंटिंग सेंटर पर रहने की अनुमति होगी. काउंटिंग एजेंट वोटों की गिनती की पूरी प्रक्रिया की देखरेख करेंगे.
Loading...

# सबसे पहले पोस्टल बैलेट के मतों की गिनती होगी, इसके बाद ईवीएम के मतों की गिनती शुरू होगी. सभी तरह की मतों की गिनती के दौरान रिटर्निंग ऑफिसर मौजूद रहेंगे.

# मतों की गिनती के दौरान ईवीएम के क्षतिग्रस्त होने या वीवीपैट पर्चियों में किसी गड़बड़ी के पाए जाने पर चुनाव की देखरेख कर रहा रिटर्निंग अफसर, तुरंत इस बात की सूचना चुनाव आयोग को देगा.

# फिर परिस्थिति की गंभीरता पर यह निर्भर करेगा कि चुनाव आयोग क्या फैसला करेगा? चुनाव आयोग मामले का अध्ययन करने पर अगर कोई बड़ी गलती या कमी नहीं पाएगा तो इस प्रक्रिया को जारी रखने को कहेगा और अगर कोई गंभीर कमी या गलती पाई जाएगी तो चुनाव आयोग, चुनावों को खारिज कर देगा है और फिर से चुनावों के आदेश देगा.

# अगर मतों की गिनती बिना किसी गड़बड़ी की शिकायत और बिना चुनाव आयोग के किसी निर्देश के समाप्त हो जाएगी तो रिटर्निंग ऑफिसर ही मतों की गिनती के पूरा होने पर नतीजे घोषित कर देगा.

यह भी पढ़ें: इस बार इलेक्शन रिजल्ट में क्यों होगी पांच-छह घंटे की देर? जानें पूरा मामला

अपने WhatsApp पर पाएं लोकसभा चुनाव के लाइव अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...