Home /News /knowledge /

चीनी रॉकेट के अवशेष अटलांटिक महासागर में गिरे, जानिए क्या थी इसमें खास बात

चीनी रॉकेट के अवशेष अटलांटिक महासागर में गिरे, जानिए क्या थी इसमें खास बात

आने वाले सालों में अंतरिक्ष उद्योग में जबर्दस्त होड़ देखने को मिलने वाली है. (प्रतीकात्मक फोटो)

आने वाले सालों में अंतरिक्ष उद्योग में जबर्दस्त होड़ देखने को मिलने वाली है. (प्रतीकात्मक फोटो)

इसी महीने लॉन्च किया गया चीन के लॉन्ग मार्च 5बी (Long march 5 B) रॉकेट के अवशेष अटलांटिक महासागर में गिर गए. यह पिछले 30 सालों में धरती पर गिरने वाले सबसे बड़ा अंतरिक्ष कचरा था.

नई दिल्ली:  इसी महीने चीन (China) ने अपने एक अंतरिक्ष यान प्रक्षेपित किया था. जो कुछ ही दिनों में पृथ्वी की कक्षा में वापस आ गया था. यह विशाल चीनी रॉकेट (Chinese Rocket) अब अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean) में गिर गया है. बताया जा रहा है कि पिछले 30 सालों में यह अनियंत्रित होकर पृथ्वी पर गिरने वाली यह सबसे भारी वस्तु है.

कितना वजन था इस अवशेष का
इस चीनी रॉकेट का लगभग 18000 किलो का था और इसी  सोमवार को ही यह अटलांटिक महासगर में गिरा था. इसके अवशेष 30.48 मीटर के मापे गए हैं.  साइंस अलर्ट की रिपोर्ट के मुताबिक यह पिछले कुछ दशकों में मानव निर्मित अंतरिक्ष अवशेषों में से सबसे अहम अनियंत्रित गिराव है.

इसी महीने प्रक्षेपित किया गया था इसे
ये अवशेष चीन के लॉन्ग मार्च 5बी नाम के रॉकेट का मुख्य भाग के थे.  इसे 5 मई को भेजा गया था. यह दक्षिण चीन स्थित हैनान द्वीप के वेनचांग लॉन्च सेंटर से प्रक्षेपित किया गया था. इसमें चीन का अगली पीढ़ी का एक प्रोटोटाइप क्रू कैप्सूल था जिसे बिना किसी यात्री के टेस्ट फ्लाइट के तौर पर कक्षा में भेजा गया था.

Space
अंतरिक्ष से बहुत से उपग्रहोें के अवशेष भी पृथ्वी के वायुमंडल में आते हैं , लेकिन उनका वजन बहुत कम होता है. (प्रतीकात्मक फोटो)


ये बदलाव कर प्रक्षेपित किया गया था लॉन्ग मार्च 5बी
चीन ने 5 मार्च को ही लॉन्ग मार्च 5 रॉकेट की श्रेणी का पहला रॉकेट अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया था. लॉन्ग मार्च 5 बी पर चीनी डिजाइनरों ने रॉकेट के दूसरे चरण में बदलाव किया था. और उससे बड़े आकर के भार से बदल दिया था. इसने अंतरिक्ष में कई दिन का समय भी बिताया था, लेकिन उसके बाद यह पृथ्वी के वायुमंडल में वापस आ गया और उत्तर पश्चिम अफ्रीका के पश्चिमी तट के पास क्रैश हो गया.



इससे पहले 1991 में गिरा था सबसे भारी अवशेष
माना जा रहा है कि पिछले तीस सालों में अपने कक्षा से अनियंत्रित होकर पृथ्वी के वायुमंडल में गिरने वाली यह सबसे भारी वस्तु है. इससे पहले साल 1991 में 39 टन का सैल्यूट-7 पृथ्वी पर गिरा था. अब तक इससे बड़ी मानव निर्मित वस्तुएं जो  गिरी हैं उनमें 1979 में स्कायलैब , 1975 में स्कायलैब का रॉकेट स्टेज, और 1991 में सेल्यूट शामिल हैं. . इस सूची में 2003 में कोलंबिया स्पेस शटल को भी शामिल किया जा सकता है जो वह भी नीचे आने के दौरान अनियंत्रित हो गया था.

चीन अगले दो साल में इस तरह के तीन और रॉकेट प्रक्षेपित करने वाला है.


होती रहती हैं इस तरह की घटना लेकिन इसमें थी यह खास बात
आमतौर पर मृत सैटेलाइट और पुराने रॉकेट प्रायः पृथ्वी के वायुमंडल में वापस आते रहते हैं. लेकिन वापस आने वाले अवशेष कुछ ही टन के होते हैं और कभी कभी ही गिरते हैं. रिपोर्ट के मुताबिक इस तरह के अनियंत्रित अवशेषों का वायुमंडल में वापस प्रवेश करना पहले से बता पाना मुश्किल होता है.

अमेरिकी सेना ने पहले ही पता लगा लिया था
अमेरिका के सेना के ओर से जारी किए गए पूर्वानुमान  रॉकेट के धरती पर गिरने के कुछ दिन पहले से जानकारी दे देते हैं. बताया जा रहा है कि धरती पर स्थित रेडार ने लॉन्ग मार्च बी रॉकेट को अंतरिक्ष में ट्रैक कर लिया था. इससे अंतरिक्ष अवशेषों पर नियमित तौर पर नजर रखने वाले अमेरिकी सैन्य अधिकारियों को इसके घटती कक्षा की जानाकारी हो गई. बताया गया है कि इसक रॉकेट के अवशेष अंटलांटिक महासागर में गिरने से पहले अमेरिका के लॉस एंजेलिस और न्यूयार्क के सैंट्रल पार्क के ऊपर से गुजरे थे

अब यह है चीन का प्लान
चीन अब अगले दो सालों में कम से कम तीन और लॉन्ग मार्च 5बी का प्रक्षेपण कर रहा है. ये अभियान वह 2021 और 2022 को प्रक्षेपित करेगा. चीन की साल 2022 तक अंतरिक्ष में अपना एक स्वतंत्र स्पेस स्टेशन शुरू करने की योजना है. इस पर वे तेजी से काम भी कर रहा है.

यह भी पढ़ें:

क्या पृथ्वी के बाहर, दूसरे ग्रह से आ सकता है कोई वायरस, जानिए क्या है सच

जानिए क्या है डार्क मैटर और क्यों अपने नाम की तरह है ये रहस्यमय

जानिए क्या है Helium 3 जिसके लिए चांद तक पर जाने को तैयार हैं हम

पहली बार मिला ऐसा जीव जिसे ऑक्सीजन की जरूरत नहीं पड़ती, जानिए इसके मायनेundefined

Tags: China, Research, Science, Space

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर