जानें फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों के बारे में, जिनसे खफा हैं मुस्लिम देश, कभी चर्चित थी उनकी लव स्टोरी

फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों, जिनके खिलाफ मुस्लिम देशों ने मोर्चा बांध लिया है. मैक्रों ने हाल में मुस्लिम आतंकवाद के खिलाफ कड़ी टिप्पणियां की थीं.
फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों, जिनके खिलाफ मुस्लिम देशों ने मोर्चा बांध लिया है. मैक्रों ने हाल में मुस्लिम आतंकवाद के खिलाफ कड़ी टिप्पणियां की थीं.

मुस्लिम देशों (Muslim countries) ने इस समय फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों (France President Emmanuel Macron) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. नाराजगी की वजह मैक्रों की वो सख्त टिप्पणियां, जो उन्होंने मुस्लिम आतंकवाद के खिलाफ कीं हैं. मुस्लिम देशों को ये भी लगता है कि मैक्रों जानबूझकर पैगंबर का कार्टून छापने वाली पत्रिका शार्ली एब्दो ( charlie hebdo) के कदम को जायज ठहरा रहे हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 10:29 AM IST
  • Share this:
फ़्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रों की इस्लाम के खिलाफ टिप्पणियों से कई इस्लामी देश नाराज हैं. उन्होंने पैग़ंबर मोहम्मद के विवादित कार्टून दिखाने के फ़ैसले का बचाव भी किया है. इसे लेकर जहां तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान ने मैक्रों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. वहीं अरब देशों ने उनकी खुलकर निंदा की है. पाकिस्तान और ईरान की संसद ने तो प्रस्ताव पारित कर फ्रांसीसी राष्ट्रपति की आलोचना की. वहीं फ्रांस के ज्यादातर लोग अब अपने राष्ट्रपति के समर्थन में आ गए हैं.

मैक्रों अपनी टिप्पणियों पर डटे हुए हैं. पिछले दिनों फ़्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रों ने पैग़ंबर मोहम्मद के कार्टून दिखाने के एक फ़्रांसीसी शिक्षक के फ़ैसले का समर्थन किया था. सैमुएल पैटी नाम के इस शिक्षक की हत्या कर दी गई थी. इसके बाद फ़्रांस में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन भी हुए थे. तब मैक्रों ने इसे 'इस्लामिक आतंकवादी' हमला कहा था. ये भी कहा था कि इस्लाम संकट में है. मैक्रों ने इस्लामिक कट्टरपंथी संगठनों पर कार्रवाई का भी ऐलान किया था.

साहसी और बोल्ड राष्ट्रपति 
अब जानते हैं कि मैक्रो के बारे में. उन्हें साहसी और बोल्ड राष्ट्रपति कहा जाता है. साथ ही सक्षम प्रशासक, जिन्होंने फ्रांस की अर्थव्ववस्था को वापस पटरी पर लाने के साथ मजबूत किया है. वो बेहद समझ बूझ वाले साहसी अर्थशास्त्री भी माने जाते रहे हैं.
समझबूझ का लोहा हर कोई मानता है


मैक्रों अभी महज 42 साल के ही हैं. उन्होंने पेरिस नेंनतेरे यूनिवर्सिटी से फिलास्फी की पढ़ाई की. इसके बाद पब्लिक अफेयर्स में मास्टर्स डिग्री ली. वो फ्रांस के फाइनेंस डिपार्टमेंट में सिविल सर्वेंट के रूप में काम कर चुके हैं. इसके बाद वो बैंकर बन गए. उनकी बुदि्ध और समझबूझ का लोहा हर कोई मानता है.

Emmanuel_et_Brigitte_Macron_(cropped)
फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों और उनकी पत्नी ब्रिगेट, जो उनसे 24 साल बड़ी है. कभी उनकी टीचर थीं


परिवार किसी घर्म में विश्वास नहीं करता था
वो फ्रांस के पिछले राष्ट्रपति ओलांदे की सरकार में मंत्री भी थे. तब मैक्रों ने कई बिजनेस सुधार के काम किये. उन्हें फ्रांस की राजनीति में मध्यमार्गी माना जाता है. उनके पिता डॉक्टर थे. उनकी परिवरिश हालांकि ऐसे परिवार में हुई, जो धर्म में विश्वास नहीं करता था लेकिन मैक्रों ने खुद रोमन कैथोलिक चर्च में 12 साल का होने पर अपना बपतिस्मा कराया.

सबसे कम उम्र में राष्ट्रपति बने
24 साल की उम्र में उन्होंने फ्रांस की सोशलिस्ट पार्टी ज्वाइन की. फिर उन्होंने इसे छोड़ दिया. 2016 में उन्होंने ऑन मार्श नामक केंद्रवादी राजनीतिक आंदोलन की स्थापना की. 2017 में राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीद्वार बने. फिर चुनाव जीता. 39 साल की उम्र में वो फ्रांस के सबसे कम उम्र के राष्ट्रपति बने. दुनियाभर के नेता उनकी साफगोई और काम की तारीफ करते हैं.

ये भी पढ़ें - क्या है पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट का मकसद और क्या यह कामयाब होगा?

24 साल सीनियर टीचर से इश्क हो गया
इमैनुएल मैक्रों की पर्सनल लाइफ और लवस्टोरी खासतौर पर खासी चर्चाओं में रही है. उन्होंने अपने से 24 वर्ष बड़ी ब्रिगिट ट्रॉगनेक्स से शादी की. वो उनकी हाई-स्कूल टीचर थीं, उनसे 24 साल सीनियर.
बताया जाता है कि ब्रिगिट ट्रॉगनेक्स फ्रेंच और ड्रामा टीचर के तौर पर काम करती थीं जब मैक्रों की उनसे मुलाकात हुई. ब्रिगिट एक थियेटर क्लब भी चलाती थीं, जहां मैक्रों एक उभरते हुए एक्टर के तौर पर भी काम करते थे. तब वो 15 साल के थे.

मैक्रों से इस समय मुस्लिम देश बहुत खफा हैं. उन्हें लगता है कि वो पैगंबर का कार्टून छापने वाली मैगजीन का तो नाहक बचाव कर ही रहे हैं. साथ ही मुस्लिमों के खिलाफ कड़ी टिप्पिणां कर रहे हैं.


17 साल की उम्र में टीचर को प्रोपोज किया
एक साल बाद मैक्रों को अपनी 40 वर्षीय टीचर से प्यार हो गया. वो तब 3 बच्चों की मां थीं. 17 साल की उम्र में मैक्रों ने ब्रिगिट को प्रपोज किया. 17 साल की आयु में आगे की पढ़ाई के लिए शहर छोड़कर जाते समय मैक्रों ने अपनी टीचर से कहा, 'आप चाहे जो करें, मैं आपसे शादी करुंगा.

ये भी पढ़ें - कौन है फेसबुक का नया पॉलिसी प्रमुख, टीवी चैनल और सियासत से क्या है रिश्ता?

आखिरकार शादी कर ली
मैक्रों को उनके टीचर के साथ प्रेम की खबर ने उनके माता-पिता को खासी चिंता में डाला था. ब्रिगिट ट्रॉगनेक्स को उनसे दूर रहने के लिए कहा गया था, जब तक वो 18 साल के ना हो जाएं. ब्रिगिट 6 भाई बहनों में सबसे छोटी हैं. मैक्रों से मिलने से पहले उनकी शादी एक बैंकर आंद्रे लुईस अजिएरे से हुई थी, जिससे उन्‍हें तीन बच्‍चे हुए थे. आखिरकार ब्रिगिट ट्रॉगनेक्स और फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रोन साल 2007 में शादी के बंधन में बंध गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज