लाइव टीवी

#LOVESTORY: वो ताकतवर और सुंदर महारानी जो अपनी रियासत के दीवान पर ही थीं फिदा

News18Hindi
Updated: February 14, 2020, 12:19 PM IST
#LOVESTORY: वो ताकतवर और सुंदर महारानी जो अपनी रियासत के दीवान पर ही थीं फिदा
त्रावनकोर की महारानी सेथु लक्ष्मीबाई

भारत की कई महारानियां अपने प्रेम संबंधों के लिए चर्चित हुईं. इसी में एक थीं त्रावनकोर की महारानी सेथु लक्ष्मीबाई. वो फैशनेबल भी थीं. उन्होंने अपने समय में रियासत की तरक्की और महिलाओं के लिए बहुत काम किया. महारानी किताब कहती है कि वो अपने रियासत के ताकतवर मंत्री पर फिदा थीं

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 14, 2020, 12:19 PM IST
  • Share this:
देश की आजादी से पहले दक्षिण में त्रावनकोर एक ऐसी रियासत थी, जो विकास के मामले में देश के दूसरे हिस्से से कहीं आगे थी. आजादी के बाद जब भारत में इस बड़ी रियासत के विलय की बात आई तो इसने विलय से  इंकार कर दिया. यहां का राजा अपने जाने-माने मंत्री सर सीपी रामास्वामी की बात मानता था. रामास्वामी के बारे में कहा जाता है कि उन पर वहां की महारानी फिदा थीं.

दीवान जर्मनीदास ने अपनी किताब "महारानी" में इसका विस्तार से जिक्र किया है. सर रामास्वामी के एक- दो फैसले बहुत विवादास्पद भी रहे थे, जिसे लेकर उनकी शिकायत ब्रिटेन तक पहुंची थी. बाद में ब्रिटिश राज के एतराज के बाद इसे खत्म किया गया.

जर्मनीदास लिखते हैं कि एक समय था जब त्रावनकोर रियासत का राजा नाबालिग था. तब महारानी सेथु लक्ष्मीबाई उनकी ओर से सत्ता संभालती थीं. जिसे उस जमाने में रिजेंट कहा जाता था.

राज्य के मंत्री सर सीपी रामास्वामी प्रभावशाली व्यक्ति थे. यहां तक कि ये भी चर्चाएं थीं कि वो फोन से वायसराय विलिंगटन की पत्नी से भी लंबी-लंबी प्रेम वार्ताएं करते हैं. रामास्वामी पेशे से वकील थे लेकिन उन्होंने कई असरदार स्थितियों में काम किया था. वो सुदर्शन शख्सियत के स्वामी थे.

महारानी लक्ष्मीबाई के प्यार के किस्से दिल्ली में वायसराय हाउस तक भी पहुंचे लेकिन उन्होंने उसकी कोई परवाह नहीं की


महारानी की सुंदरता के थे चर्चे
महारानी सेथु लक्ष्मीबाई की सुंदरता के चर्चे थे. जब सीपी रामास्वामी पहली बार त्रावनकोर आए तो वो महारानी से मिले. वो महारानी पर मोहित हो गए. चूंकि अंग्रेज अधिकारियों से सीपी रामास्वामी के रिश्ते बहुत अच्छे थे, लिहाजा उन्होंने ऐसा प्रबंध कराया कि वो राज्य में दीवान बनकर आ गए. उन दिनों महत्वपूर्ण रियासतों में दीवान की नियुक्ति के लिए वायसराय से मंजूरी लेनी होती थी.हर किसी की जुबान पर थी ये प्रेम कहानी
मंत्री बनकर आने के बाद रामास्वामी ने विधवा रानी से नजदीकियां बढ़ानी शुरू कीं. महारानी ने भी प्यार का जवाब उसी अंदाज में दिया. दोनों के बीच बहुत जल्दी प्रगाढ़ प्रेम संबंध बन गए. यहां तक कि उनके प्रेम की कहानी रियासत में हर किसी की जुबां पर थी.

धीरे धीरे ये लव स्टोरी राजनीतिक क्षेत्रों में फैली. फिर वायसराय हाउस तक पहुंची. लेकिन रामास्वामी और सेथु लक्ष्मीबाई का असर काफी बड़े हलके में था. लिहाजा इन चर्चाओं से ना तो उनका कुछ बिगड़ा और ना ही उनके प्रेम संबंधों पर कोई आंच आई. हालांकि रामस्वामी के फैसले और कार्यशैली से त्रावनकोर की जनता बहुत खुश नहीं थी.

अगर एक ओर महारानी का अफेयर राज्य के ताकतवर दीवान सीपी रामास्वामी के साथ जगजाहिर थे तो उन्होंने रियासत के विकास के लिए भी काफी काम किया


एक साथ जहाज से गए थे लंदन 
लंदन में हुई गोलमेज कांफ्रेंस में रामास्वामी और महारानी एकसाथ पानी के जहाज से वहां गए थे. जहाज का एक पूरा कोना दोनों के लिए आरक्षित था. किताब में लिखा है कि जहाज पर महारानी और रामस्वामी खुले तौर पर प्रेम का इजहार करते दिखते थे. जहाज के मुसाफिर ये सब देखते रहे. रामास्वामी का महल में भी महारानी के पास अबाध आना-जाना होता था.

त्रावनकोर के दीवान सर सीपी रामास्वामी ऊंची पहुंच वाले शख्स थे. अंग्रेज अफसरों से उनकी खूब बनती थी.


आजादी के दौरान जब सीपी रामास्वामी ने युवा महाराजा को अपने असर में लेकर त्रावनकोर को स्वतंत्र घोषित कर दिया तो वहां की जनता क्षुब्ध हो गई, क्योंकि वो भारत में विवय चाहती थी. इस दौरान रामास्वामी पर एक व्यक्ति ने चाकू से जानलेवा हमला किया. जिससे उन्हें गहरे घाव आए. इसके तुरंत बाद त्रावनकोर ने भारत में मिलना मान लिया.

बाद में महारानी का जीवन
त्रावनकोर के विलय के बाद महारानी मद्रास चली गईं. इसके बाद वो बेंगलुरु में शिफ्ट हो गईं. वहां उन्होंने अपना बंगला बनवाया. करीब 25 सालों तक महारानी वहीं रही. 1985 में वहीं उनका निधन हो गया. हालांकि ये भी कहा जाता है कि त्रावनकोर ने महारानी के राज के दौरान काफी तरक्की की, जिसमें रामास्वामी का भी हाथ था. हालांकि भारत की आजादी के बाद सीपी रामास्वामी लंदन चले गए. वहीं वो बस गए. कई देशों के राष्ट्रप्रमुखों से उनके अच्छे रिश्ते थे. लंदन में ही 1966 में उनका निधन हो गया.

ये भी पढ़ें :-

‘क्रिमिनल’ नेताओं को क्यों टिकट देती हैं पॉलिटिकल पार्टियां
इस कांग्रेसी सांसद पर हैं 204 क्रिमिनल केस, स्मृति ईरानी को 'धमकाने' के लगे थे आरोप
वो महिला जो गांधीजी को लिटिलमैन, जुलाहा या मिकी माउस कहती थी
तब ऋषि चार्वाक आयोजित करते थे वेलेंटाइन जैसा प्यार का पर्व, होता था खूब विरोध
जब 22 साल की एक लड़की ने खुफिया रेडियो सेवा शुरू कर अंग्रेजों को दिया था चकमा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 4:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर