Home /News /knowledge /

कौन हैं मेग्डेलेना एंडरसन, जो बनते बनते रह गईं स्वीडन की पहली महिला पीएम

कौन हैं मेग्डेलेना एंडरसन, जो बनते बनते रह गईं स्वीडन की पहली महिला पीएम

मेग्डेलेना एंडरसन (Magdalena Andersson) शुक्रवार को स्वीडन का प्रधानमंत्री पद संभालने वाली थीं (तस्वीर: Wikimedia Commons)

मेग्डेलेना एंडरसन (Magdalena Andersson) शुक्रवार को स्वीडन का प्रधानमंत्री पद संभालने वाली थीं (तस्वीर: Wikimedia Commons)

यूरोप (Europe) का एक प्रमुख देश स्वीडन इतिहास बनाने से चूक गया. देश की संसंद ने अपने लिए मेग्डेलेना एंडरसन (Magdalena Andersson) को पहली महिला प्रधानमंत्री के रूप में चुना था, लेकिन इससे पहले ही वह हकीकत का रूप लेता, कुछ ही घंटों में एंडरसन ने इस्तीफा दे दिया. लेकिन महिलाओं के अधिकारों की समानता के मुद्दे पर एंडरसन पहले ही चर्चा में आ गईं.

अधिक पढ़ें ...

    स्वीडन (Sweden) की राजनीति में एक बड़ा बदलाव होते होते रह गया. देश की संसद ने मेग्डेलेना एंडरसन (Magdalena Andersson) को प्रधानमंत्री पद के लिए चुना लेकिन कुछ घंटों बाद ही उन्होंने इस पद को अपनाने से पहले ही इस्तीफा दे दिया है. वे स्वीडन की पहली महिला प्रधानमंत्री (First Women Prime Minister of Sweden) होने जा रही थीं. इस वजह से वे सुर्खियों में आईं थीं.  एंडरसन की सहयोगी पार्टी जूनियर ग्रीन पार्टी के पीछे हटने से उनकी गठबंधन सरकार का बजट पास नहीं हो सका था जिसकी वजह से उन्होंने औपचारिक तौर पर पद संभालने से पहले ही इस्तीफा दे दिया था.

    लैंगिक समानता के कारण चर्चा में
    एंडरसन की पहली महिला प्रधानमंत्री के रूप में चुनाव स्कैंडिनेवियाई देशों के लिए यह एक बहुत बड़ा कदम माना जा रहा था जहां लैंगिक समानता को बहुत महत्व दिया जाता है. एंडरसन पहले से ही देश की वित्त मंत्री थीं और सोशल सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता हैं. उन्हें इसी महीने की शुरुआत में ही पार्टी की नेता के रूप में चुना गया था जिससे उनके प्रधानमंत्री बनने के रास्ता साफ हुआ था.

    अर्थशास्त्र में पढ़ाई
    इवा मेग्डेलेना एंडरसन का जन्म 23 जनवरी 1967 को स्वीडन के उपसाला में हुआ था. उनके पिता उपसाला यूनिवर्सिटी में सांख्यकीय के व्याख्याता हैं और उनकी मां शिक्षिका हैं. अपनी युवावस्था में एक कुशल तैराक रहीं मेग्डेलेना ने सामाजिक विज्ञान से स्नातक की पढ़ाई शीर्ष अंकों  में पूरी की थी. इसके बाद उन्होंने स्टॉकहोम स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में अर्थशास्त्र में मास्टर्स की डिग्री हासिल की थी.

    शुरू से ही राजनीति से संबंध
    अर्थशास्त्र की पढ़ाई के बाद एंडरसन प्रधानमंत्री ऑफस में राजनैतिक सलाहकार के तौर पर नियुक्त हुई. वे इस पर 1996 से लेकर 1998 तक तत्कालीन प्रधानमंत्री गोरैन परसन की सलाहकार रहीं. इसके बाद उन्होंने 1998 से लेकर 2004 तक डायरेक्टर ऑफ प्लानिंग का पद संभाला और वित्त विभाग में सेक्रेटरी ऑफ स्टेट के तौर पर 2004 से 2006 तक काम किया.

    Europe, Sweden, Magdalena Andersson, Prime Minister of Sweden, first Prime Minister of Europe, Gender Equality,

    मेग्डेलेना एंडरसन (Magdalena Andersson) एक आर्थिक विशेषज्ञ हैं (तस्वीर: Wikimedia Commons)

    2014 में लड़ा पहला चुनाव
    एंडरसन सल 2007 से लेकर 2009 तक विपक्षी नेता मोना साहलिन की राजनैतिक सलाहकार भी रहीं. इसके बाद सरकार ने उन्हें स्वीडिश टैक्स एजेंसी का चीफ डायरेक्टर बनाया जिस पर वे 2012 तक रहीं. इसके बाद उन्होंने 2014 के आम चुनाव में सोशल डेमोक्रेटिक उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा.

    वायु प्रदूषण की वजह से कैसे मिला दुनिया का पहला मृत्यु का सर्टीफिकेट

    अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में भी
    2014 में ही एंडरसन को प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवन ने अपनी सरकार में वित्त मंत्री बनाया. और 2018 के चुनाव में लोफवन ने फिर से प्रधानमंत्री बनने पर एंडरसन को दोबारा वित्त मंत्रालय का प्रभाव सौंपा. इतना ही नहीं उन्हें साल 2020 में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की प्राइमरी पॉलिसी एडवाइजरी कमेटी का प्रमुख तीन साल के लिए चुना. वे इस पद पर पुहंचने वाली पहली महिला हैं.

    Europe, Sweden, Magdalena Andersson, Prime Minister of Sweden, first Prime Minister of Europe, Gender Equality,

    मेग्डेलेना एंडरसन (Magdalena Andersson) दो बार स्वीडन की वित्त मंत्री रही हैं. (तस्वीर: Wikimedia Commons)

    प्रधानमंत्री पद के लिए रास्ता
    इस साल अगस्त में ही प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवन ने सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी कांग्रेस के प्रमुख के पद से इस्तीफा दे दिया था. तभी से वे कार्यवाहक प्रधानमंत्री के तौर पर काम कर रहे थे. तभी से एंडरसन को प्रधानमंत्री पद के लिए एक ताकतवर उम्मीदवार के तौर पर देखा जाने लगा था. और इस महीने की शुरुआत में उन्हें पार्टी की नेता चुन भी लिया गया था.  इसके बाद  बुधावार को संसद ने उन्हें प्रधानमंत्री के तौर पर औपचारिक रूप से चुन लिया था.

    आखिर क्यों उत्तर कोरिया में है जबरदस्त भ्रष्टाचार

    स्वीडन की संसद रिक्सडैग में कुल सदस्यों की संक्या 349 है. इससे एंडरसन के विरोध में 174 सांसदों ने मतदान किया था, लेकिन स्वीडन के संविधान के मुतिबक कम से कम 175 सांसद किसी उम्मीदवार के खिलाफ नहीं होने पर भी उसे प्रधानमंत्री नियुक्त किया जा सकता है. लेकिन वे बजट पास नहीं करवा सकीं जिससे उन्हें इस्तीफा देना पड़ा.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर