M87 ब्लैकहोल की आई दूसरी तस्वीर, मैग्नेटिक फील्ड ने किए खुलासे

यह किसी भी ब्लैक होल (Black Hole) की दूसरी सीधी तस्वीर है. (तस्वीर: @ehtelescope)

यह किसी भी ब्लैक होल (Black Hole) की दूसरी सीधी तस्वीर है. (तस्वीर: @ehtelescope)

M87 ब्लैकहोल (Black Hole) की दूसरी सीधी तस्वीर में मैग्नेटिक फील्ड (Magnetic Field) का प्रभाव स्पष्ट दिख रहा है. इससे ब्लैकहोल के बारे कुछ नई जानकारियां मिली हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 7:50 PM IST
  • Share this:
ब्लैक होल (Black Hole) ब्रह्माण्ड में सबसे अनोखे पिंडों में से एक हैं. इनके अंदर के हिस्सों के बारे में केवल उनके आसपास हुई  घटनाओं  से पता चला है.  ब्लैक होल की तस्वीर बने ही ज्यादा समय नहीं हैं.  उसे विकसित करने वाले खगोलविदों ने ही ब्लैकहोल की एक और तस्वीर बनाई है जिसमें उसी ब्लैकहोल की मैग्नेटिक फील्ड (Magnetic Field) के आसपास घूमता प्रकाश (Polarized Light) दिखाई दे रहा है.

नई तस्वीर में एक खास बात

यह केवल एक खूबसूरत तस्वीर ही नहीं है. इससे पहले कभी ध्रवीकरण का मापन नहीं हुआ था जिसमें ब्लैकहोल के बहुत ही किनारे पर एक ही तल में प्रकाश की तरंगों का कंपन हुआ हो. इवेंट होराइजन टेलीस्कोप से 2017 के आंकड़ों के आधार पर किए गए ये अवलोकन  गैलेक्सी के केंद्र से निकलने वाली ऊर्जा धारा  के कारणों को समझने में मददगार हो सकते हैं.

ब्लैक होल के मैग्निटिक फील्ड को समझने की ओर
इस अध्ययन की सहलेखिका और नीदरलैंड की रैडबाउड यूनिवर्सिटी की एसिस्टेंट प्रोफेसर मोनिका मोसिब्रद्ज्का  ने बताया कि उनकी टीम अब ब्लैकहोल के मैग्नेटिक फील्ड के बर्ताव को समझने के प्रमाण हासिल करने की ओर है. इस जटिल इलाके में शक्तिशाली जेट्स गैलेक्सी से बहुत ही दूर तक जाते हैं.

ध्रुवीकृत प्रकाश का घेराव

गैलेक्सी M87 के केंद्र में  स्थित सुपरमासिव ब्लैकहोल की ऐतिहासिक तस्वीर बनाने के बाद शोधकर्ताओं ने यह खोजा कि इस ब्लैकहोल के आसपास का पर्याप्त हिस्सा ध्रवीकृत प्रकाश से घिरा हुआ है. वैलेन्सिया यूनिवर्सटी के शोधकर्ता और इस शोध के सहलेखक इवान मार्ति-विदालने बताया कि प्रकाश के ध्रवीकरण से ऐसे जानकारी मिली है जिससे हमें अप्रैल 2019 में ली गई तस्वीर को बेहतर समझ सकते हैं.



Black Hole, M87 Galaxy, Magnetic Field, SMBH, Accretion, Polarised light,
पहली बार किसी ब्लैक होल (Black Hole) के किनारे पर मैग्नेटिक फील्ड इतना स्पष्ट दिखाई दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


कैसे होता है प्रकाश का ध्रुवीकरण

मार्ति-विदालने बताते हैं कि इस तस्वीर को बनाने के ले सालों की प्रक्रिया और आंकड़ों का विश्लेषण लगा जिसके बाद यह बड़ी उपलब्धि हासिल हो सकी. जब प्रकाश अंतरिक्ष में ग्रह इलाकों में उत्सर्जित होता है जहां मैग्नेटिक फील्ड मौजूद हों तो प्रकाश का ध्रुवीकरण हो जाता है.

वैज्ञानिकों ने पहले बार देखा रहस्यमयी तरह से गतिमान ब्लैक होल

मैग्नेटिक फील्ड की रेखाओं का नक्शा

जिस तरह से सनग्लासेस प्रतिबिम्ब रोक लेते हैं और चमकीली सतहों से चमक रोक लेते हैं. खगोलविद भी ब्लैकहोल के आसपास के इलाके को बेहतर तरह से जान सकते हैं जब वे यह देखते हैं कि प्रकाश का ध्रुवीकरण कैसे हुआ. इसस ब्लैकहोल के अंदरूनी किनारे की मैग्नेटिक फील्ड की रेखाओं का नक्शा बनाना संभव हो जाता है.

Space, Black Hole, M87 Galaxy, Magnetic Field, SMBH, Accretion, Polarised light
ब्लैक होल (Black Hole) से निकलने वाले और उसमें जाने वाले पदार्थों की अंतरक्रिया पहली बार पता चला. (प्रतीकात्मक तस्वीर: NASA_JPL-Caltec)


एक्रीशन से पता चलता है सब

ब्लैक होल में पदार्थ इतना घना होता है कि वहां गुरुत्व फील्ड इतनी शक्तिशाली बन जाती है कि प्रकाश वहां से बाहर नहीं निकल सकता है. इस वजह से ब्लैक होल को देखा नहीं जा सकता. उन्हें प्रायः उन विकिरिणों के जरिए देखा जाता है जब वे आसपास की गैसों के गुरुत्व खिंचाव की वजह से पैदा होती हैं. इस प्रक्रिया को एक्रीशन कहते हैं.

नासा के हबल टेलीस्कोप ने शनि के विशाल वायुमंडल में देखे बड़े बदलाव

पहली बार दिखी यह बात

इस शोध के नतीजे एस्ट्रोफिजकल जर्नल लैटर्स में प्रकाशित हुए हैं. एम87 गैलेक्सी के केंद्र से ऊर्जा और पदार्थ के चकमीले जेट्स पांच हजार प्रकाशवर्ष तक जा रहे हैं. बहुत सारा पदार्थ  ब्लैक होल के किनारे पर ही गिर जाता है, लेकिन कुछ कण अंतरिक्ष में उड़ जाते हैं. इस तस्वीर से खगलोविदों ने पहली बार किसी ब्लैक के अंदर जाने वाले और बाहर निकलने वाले पदार्थ के बीच अंतरक्रिया देखी  है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज