• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • नफरत नहीं, मोहब्बत की वजह से हुई थी महाराणा प्रताप और अकबर में जंग, ये है कहानी...

नफरत नहीं, मोहब्बत की वजह से हुई थी महाराणा प्रताप और अकबर में जंग, ये है कहानी...

अकबर और महाराणा प्रताप के बीच हुई थी हल्दीघाटी की जंग.

अकबर और महाराणा प्रताप के बीच हुई थी हल्दीघाटी की जंग.

आज महाराणा प्रताप (Maharana Pratap) की जन्मतिथि (Birth Anniversary) है. उनका जिक्र आते ही सबसे हल्दीघाटी के युद्ध पर चर्चा की जाती है. महाराणा प्रताप और अकबर के बीच दुश्मनी भारतीय इतिहास में दो बड़े शासकों के बीच युद्ध की गाथा है. लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस युद्ध के पीछे की असली वजह एक प्रेम कहानी थी.

  • Share this:
    आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अकबर की आंखों में महाराणा प्रताप से भी पहले चित्तौड़ आंख में किरकिरी की तरह चुभ रहा था. मेवाड़ पर अधिकार से ज्यादा अकबर को महाराणा प्रताप के पिता उदय सिंह की यह बात बेहद अखरी थी कि उन्होंने मांडू (वर्तमान पश्चिमी मध्य प्रदेश का इलाका) के सुल्तान बाज़ बहादुर को शरण दी थी. बाज़ बहादुर मुसलमान और उसे शरण मेवाड़ के हिंदू राजा उदय सिंह ने दी. यह भी हैरानी देखिए कि मुसलमान सुल्तान पर हमला मुसलमान अकबर ने किया.

    ये थी प्रेम कहानी
    इस प्रेम कहानी में बाज बहादुर प्रेमी नायक और उसकी अनूठी प्रेमिका रानी रूपमती थी तो खलनायक अकबर था. अकबर बाज़ बहादुर के पीछे बुरी तरह पड़ा था और उसने उसपर हमला तक किया. ऐसे में इस प्रेमी नायक को शरण मिली मेवाड़ के महाराणा के यहां. समय बदला, महाराणा बदले लेकिन बाज बहादुर को शरण देने वाले मेवाड़ के महाराणाओं के प्रति बैर-भाव अकबर कभी नहीं भूला. महाराणा प्रताप और अकबर की सेना के बीच लड़े गए हल्दीघाटी युद्ध के पीछे कहीं न कहीं इस प्रेम कहानी के बीज भी रहे हैं.

    बाज़ बहादुर और रूपमती के मधुर प्रेम की गाथा 500 सालों से सुनी और सुनाई जाती है.


    सौंदर्य की सम्राज्ञी रूपमती
    बाज़ बहादुर एक दिन मांडू से शिकार के लिए बीहड़ भरे रास्ते से जा रहा था, जब रास्ते में उसे एक युवती दिखी, जो भेड़-बकरियां चरा रही थी. युवती के कंठ से सुंदर गीत फूट रहे थे. बाज़ बहादुर ने घोड़े से पीछे मुड़कर देखा तो वह हतप्रभ रह गया. एक गड़ेरिया लड़की और ऐसा कमाल का कंठ. वह लड़की कंठ की ही नहीं, सौंदर्य की भी सम्राज्ञी थी.

    बाज़ बहादुर शिकार भूल गया और खुद ही शिकार हो गया. उसने वहीं युवती के सामने प्रस्ताव रखा कि वह उसके साथ राजधानी के महलों में चले. युवती भी कम नहीं थी. निर्भीकता से वो बोली: मैं ठहरी नर्मदा की नूर, तेरे महलों में इससे सुंदर तो कुछ हो नहीं सकता. प्रेमातुर सुल्तान ने प्रस्ताव दिया: महल ही नर्मदा के किनारे बनवा दूंगा!

    यह लड़की कोई और नहीं, वही रानी रूपमती थी, जिनके किस्से-कहानियां हम सुनते, पढ़ते और देखते आए हैं. इसपर फिल्में बन चुकी हैं, नाटक लिखे जा चुके हैं और देश-विदेश में इसकी गाथाएं पांच सौ साल से सुनी जा रही हैं.

    न धर्म बदला, न संस्कार
    बाज़ बहादुर का चरित्र देखिए कि उसने रानी रूपमती का न धर्म बदला और न ही संस्कार. न वेशभूषा और न भाषा. शादी भी की तो इस्लामिक विधि से और हिंदू रीति-रिवाजों का भी पालन किया. बाज़ बहादुर ने उस युग में अकबर के समय में, अकबर से पहले, अकबर से बड़ी लाइन धार्मिक सहिष्णुता की ऐसी खींची कि अकबर यह सब सुनकर अकबका गया. अकबर ने दो सेनापतियों के साथ सेना रवाना की और बाज़ बहादुर को हरा दिया.

    मालवा के शासक बाज़ बहादुर की इस बहादुर पत्नी रानी रूपमती को जब अपने पति और सेना के पराजय की खबर मिली तो उसने अकबर के सेनापतियों के हाथ पड़ने से पहले विष खाकर अपने प्राण त्याग दिए. इसके साथ ही गीत-संगीत, सौंदर्य, कविता, प्रेम, रति, युद्ध, शिकार और साहस से सराबोर एक अनूठी कहानी का अंत हो गया.

    अकबर के सेनापतियों ने बाज़ बहादुर को सारंगपुर में 29 मार्च 1561 को हराया तो वह जान बचाकर भाग निकला. पहले सतपुड़ा के आसपास छुपा, फिर बुरहानपुर और बेरड़ में आकर रहने लगा. उसे एक शासक के तौर पर शरण महाराणा उदयसिंह ने दी. बाज़ बहादुर को समस्त सुविधाएं दीं और उसने पूरी तैयारियां की.

    महाराणा के सहयोग से बाज़ बहादुर एक बार फिर पराजय से उठ खड़ा हुआ और उसने अकबर से मांडू को छीन लिया. लेकिन कुछ समय बाद उसने फिर इसे खो दिया और अंतत: कई साल भटकने के बाद बाज़ बहादुर ने नागौर में अकबर के आगे आत्मसमर्पण कर दिया और उसके सेवकों में शामिल हो गया. लेकिन अकबर मेवाड़ के इस व्यवहार को भूल नहीं सका.

    दुश्मनी का बर्ताव
    अकबरनामा में अबुल फ़ज़ल लिखता है: महाराणा ने बाज़ बहादुर को शरण देकर दुश्मनी का बर्ताव किया. लेकिन महाराणा के खिलाफ तब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई जब तक 1567 में मालवा में मुहम्मद सुलतान मिर्ज़ा के बेटों की बगावत के कारण मौका नहीं मिला. इसी बगावत के कारण अकबर को खुद मालवा कूच करना पड़ा.

    अबुल फ़जल लिखता है: बादशाह का खेमा मालवा की मुहिम के लिए बंदोबस्त करने की खातिर गागरौन के पास गड़ा हुआ था. पास ही आसफ़ ख़ान और वज़ीर ख़ान की जागीरें थीं. उन्हें अकबर ने हुक्म दिया कि वे मांडलगढ़ की गढ़ी पर हमला कर दें.

    यह उदयपुर के महाराणाओं का ऐसा सुदूर इलाका था, जहां रावत बल्लो सोलंकी को कमान दी हुई थी. बल्लो सोलंकी आसफ़ ख़ान और वज़ीर ख़ान के आगे टिक नहीं पाया. आप स्थिति देखिए, अकबर मालवा पर हमला तो करने जा रहा था पर बीच में ही शिकार हो गया मेवाड़. मांडलगढ़ विजय की इस छोटी सी घटना ने चित्तौड़ विजय और फिर महाराणाओं के साथ एक लंबे संघर्ष का सूत्रपात किया.



    नैतिक लड़ाई भी लड़ रहे थे महाराणा प्रताप
    इसलिए महाराणा प्रताप दरअसल जब हल्दीघाटी का युद्ध लड़ रहे थे तो ये सिर्फ उनकी लड़ाई नहीं थी. अकबर की आंखों में लंबे समय से किरकिरी बने मेवाड़ की तरफ महाराणा प्रताप एक नैतिक जंग भी लड़ रहे थे. हालांकि हल्दीघाटी के युद्ध में मुगल सेना और जयपुर के राजा मानसिंह की जीत हुई.

    हल्दीघाटी की युद्ध में जीत अकबर के लिए कुछ खास साबित नहीं हुई थी. क्योंकि न तो महाराणा प्रताप उसके हाथ आए थे और न ही कोई सहयोगी. इस युद्ध के बाद महाराणा प्रताप पूरी जिंदगी ताकतवर मुगल साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई लड़ते रहे.

    ये भी देखें:

    यहां स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने ही सार्वजनिक कर डाले पहले दो कोरोना संक्रमितों के नाम

    दो महामारियों से बचाने वाले इस वैज्ञानिक का भारत में पहले हुआ विरोध, फिर लगाया गले

    कोरोना की रोकथाम के लिए मनमाने नियम नहीं थोप सकतीं हाउसिंग सोसायटी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज