#Mumbai Rains: हर साल पानी-पानी क्यों हो जाती है मुंबई- 10 बिन्दुओं में जानें वजह

हर साल बारिश के मौसम में देश की व्यावसायिक राजधानी मुंबई डूब जाती है. करोड़ों रुपये का नुकसान होता है. लेकिन साल दर साल बीतने के बावजूद समस्या अभी तक बनी हुई है.

Vivek Anand | News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 10:44 AM IST
#Mumbai Rains: हर साल पानी-पानी क्यों हो जाती है मुंबई- 10 बिन्दुओं में जानें वजह
हर साल बारिश के पानी में डूब जाती है मुंबई
Vivek Anand | News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 10:44 AM IST
बारिश के मौसम में हर साल मुंबई पानी में डूब जाती है. सड़कों पर घुटनों और उससे भी ऊपर तक पानी जमा हो जाती है. गाड़ियां पानी में फंस जाती हैं. ट्रैफिक की भीषण समस्या पैदा हो जाती है. रेलवे ट्रैक पर पानी भर जाने की वजह से लोकल ट्रेनों की आवाजाही पर असर पड़ता है. दौड़ने-भागने वाली मुंबई की रफ्तार बारिश की कुछ बूंदों की वजह से थम जाती है. हर साल ऐसा क्यों होता है? इसके पीछे वजहें कई हैं और साल दर साल बीतने के बाद भी बीएमसी के पास समाधान नहीं हैं. आइए जानते हैं हर साल बारिश में क्यों पानी-पानी हो जाती है मुंबई.

हर साल पानी में क्यों डूब जाती है मुंबई?

-मुंबई में ड्रेनेज की समस्या है. हाई टाईड की वजह से लगातार बारिश होती है और बारिश का पानी शहर से बाहर नहीं निकल पाता. शहर के निचले इलाकों में पानी जमा हो जाता है.

-मुंबई के कई निचले इलाकों में लोकल ट्रेन की पटरियां समुद्र लेवल से भी नीचे हैं. इसलिए बारिश के पानी में वो डूब जाती है. इससे लोकल ट्रेनों की आवाजाही पर असर पड़ता है.

-मुंबई का ड्रेनेज सिस्टम बरसों पुराना है. इसे पूरी तरह से बदला नहीं गया है. कई जगहों पर मरम्मत हुई है लेकिन वो काफी नहीं है. जिस गति से ड्रेनेज सिस्टम को सुधारने के लिए काम होना चाहिए, वो नहीं हो रहा.

mumbai heavy rainfall why mumbai sink every year in rainy season know 10 reasons
बारिश में मुंबई की रफ्तार थम जाती है


-नालियों की नियमित रूप से सफाई होनी चाहिए. नालियों से कूड़ा बाहर निकाला भी जाता है तो तुरंत उसे ठिकाने नहीं लगाया जाता. बारिश में बहकर वो फिर नालियों में चला जाता है. नालियां जाम हो जाती हैं.
Loading...

-ड्रेनेज सिस्टम को ठीक करने के लिए जिन कॉन्ट्रैक्टर को लगाया जाता है, वो ठीक से काम ना भी करें तो उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं होती. ठीक से काम नहीं करने वालों को भी कॉन्ट्रैक्ट मिल जाता है. हर साल बारिश के मौसम में शहर को करोड़ों का नुकसान होता है. लेकिन इसकी कहीं सुनवाई नहीं है.

-नगर पार्षदों की भी जिम्मेदारी बनती है. लेकिन वो ध्यान नहीं देते. सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट का अभी तक समाधान नहीं निकाला जा सका है. जल निकासी की समस्या को ऊपरी तौर पर देखा जाता है. हर साल समस्या बनी रहती है.

-सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट सिर्फ मानसून से पहले नहीं होना चाहिए. इसे रूटीन के तौर पर किया जाना चाहिए. लेकिन मानसून खत्म होते ही इस तरफ ध्यान नहीं दिया जाता.

 mumbai heavy rainfall why mumbai sink every year in rainy season know 10 reasons
बारिश में ट्रैफिक की सबसे ज्यादा समस्या पैदा हो जाती है


-शहर से इकट्ठा हुए कुल कूड़े में 10 फीसदी प्लास्टिक होता है. हर दिन करीब 650 मिट्रिक टन कूड़ा निकलता है. प्लास्टिक की थैलियां और बोतल की वजह से नालियां जाम होती हैं. प्लास्टिक के अलावा कंस्ट्रक्शन मैटेरियल और थर्मोकोल की वजह से भी समस्या पैदा होती है.

-बीएमसी की अफसरशाही भी इसकी जिम्मेदार है. कॉन्ट्रैक्टर के खराब काम को भी अफसरों की मंजूरी मिल जाती है. नालियों की साफ सफाई, ड्रेनेज समस्या को दुरुस्त करने के कॉन्ट्रैक्ट देने में भी देरी की जाती है.

mission pani of news18

-मुंबई वालों की भी जिम्मेदारी बनती है. लोग कूड़ा कहीं भी फेंक देते हैं. प्लास्टिक की थैलियों का इस्तेमाल नहीं रोकते. हर जगह बीएमसी के कूड़ेदान भी नहीं मिलते. छोटे दुकानों में प्लास्टिक की थैलियों का इस्तेमाल ज्यादा होता है. झुग्गी-झोपड़ियों वाले इलाकों में हालात और भी खराब होते हैं. यहां कूड़े का अंबार पसरा होता है. उनके निस्तारण की कोई व्यवस्था नहीं होती.

यह भी पढ़ेंः मोहन भागवत की ट्विटर पर एंट्री, बस एक हैंडल को करते हैं फॉलो

भारी बारिश से बेहाल हुई मुंबई, सड़कों पर भरा पानी, ट्रेनें रुकीं
First published: July 2, 2019, 9:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...