लाइव टीवी

अतिथि देवो भव: की भावना पर भारी पड़ रहा है कोरोना का खौफ

News18Hindi
Updated: March 26, 2020, 12:05 PM IST
अतिथि देवो भव: की भावना पर भारी पड़ रहा है कोरोना का खौफ
कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच विदेशी सैलानियों के साथ दुर्व्यवहार की घटनाएं भी सामने आई हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत जैसे देश जहां अतिथि देवो भव: की भावना सदियों से रही है वहां भी विदेशियों से दुर्व्यवहार की घटनाएं सामने आई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2020, 12:05 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस से उपजे खौफ की वजह से लोगों के मूल स्वभाव में परिवर्तन आ रहा है. डर और घबराहट की वजह से भारतीयों द्वारा दूसरे देशों से आए लोगों के साथ दुर्व्यहार के कई मामले सामने आए हैं. अतिथि देवो भव: की भावना को सदियों से अंगीकार करने वाले देश में विदेशियों से लोग लगातार दूरी बना रहे हैं. अल जजीरा में प्रकाशित एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया गया है.

रिपोर्ट में एक इजरायली महिला का जिक्र है जिसे गोवा में उसकी मकान मालकिन ने घर से बाहर निकाल दिया. 35 साल की इजरायली यात्री शेरोन शालेव ने भारत में कई महीने गुजारने के बाद फरवरी में सोचा था कि वो कुछ दिनों तक गोवा में रुकेंगी. लेकिन मार्च में जब कोरोना के मामलों में तेजी आई तो उनकी मकान मालकिन ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया. लेकिन शालेव अकेली नहीं हैं जिनके  ऐसा व्यवहार किया गया है.

गोवा अपने खूबसूरत समुद्र तट के लिए दुनिया भर में मशहूर है.

भारत के सबसे मशहूर और शांतिप्रिय टूरिस्ट स्पॉट्स पर विदेशी सैलानियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. यहां तक कि कई जगह इन्हें कैब भी नहीं मिल रही है. माना जा रहा है कि इस व्यवहार के पीछे कारण ये है कि अभी तक भारत में कोरोना के ज्यादातर मामले विदेशियों के जरिए ही आए हैं. इनमें विदेश के साथ वो भारतीय भी शामिल जो बाहर रहते हैं. भारत सरकार के आंकड़ों के मुताबिक देश में साल 2019 में करीब एक करोड़ सैलानी दूसरे देशों से आए.



विदेशियों के दुर्व्यवहार के पीछे इटली के यात्रियों का कोरोना पॉजिटिव निकलना भी माना जा रहा है. गौरतलब है कि राजस्थान में इटली के 14 यात्रियों का एक दल कोरोना पॉजिटिव निकला था.

ऐसा ही एक किस्सा अमेरिका के माइकल जूल्स का भी है. 33 साल के माइकल अपनी भारतीय पत्नी के साथ फरवरी में लखनऊ आए थे. रिपोर्ट के मुताबिक माइकल ने बताया कि उन्हें ये संशय पहले से था कि लोग उनके साथ कैसा व्यवहार करेंगे. उनका संशय सही साबित हुआ. माइकल के ससुराल वालों ने कहा कि छुपकर रहिए. इसी तरह ब्रिटेन के रहने वाले डैनी स्नोडेन जयपुर में अपना बिजनेस चलाते हैं. हाल के दिनों में उन्हें भी कैब, रेस्टोरेंट सहित अन्य जगहों पर मुश्किलों का सामना करना पड़ा है.



लोगों का व्यवहार बदल देगा कोरोना!
हाल में आई एक रिपोर्ट में विशेषज्ञों ने माना है कि कोरोना वायरस की वजह से दुनियाभर में लोगों के व्यवहार में परिवर्तन आएगा. विशेषज्ञों का मानना है कि ये वायरस खानपान, काम करने के तरीकों, व्यवहार, कारोबार के माध्यमों, यात्रा के तौर तरीकों, घरों के डिजाइन, सुरक्षा का स्तर और निगरानी समेत पूरी दुनिया को ज्यादातर मामलों में स्थायी तौर पर बदल कर रख देगा. उनका यहां तक मानना है कि इससे लोगों की भाषा पर भी असर पड़ेगा.

ये भी पढ़ें:-

Coronavirus का खौफ: वेंटिलेटर खरीद कर घर में रख रहे हैं रूस के रईस लोग
धर्मस्थलों के पास अकूत संपत्ति, क्या कोरोना से लड़ाई में सरकार लेगी उनसे धन
देश के 30 राज्यों में लॉकडाउन, जानिए जनता को इस दौरान क्या करने की आजादी?
इटली और अमेरिका के हालात खतरनाक, महीनेभर में आंकड़ा दहाई से हजारों में

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 12:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर