• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • MARS NASA INGENUITY HELICOPTER WILD FLIGHT NAVIGATION ERROR CONFUSING RIDE VIKS

नासा के इंजेन्युटी की उड़ान में हुई गड़बड़ी, क्या आगे के अभियान पर होगा असर?

नासा के इंजेन्युटी हैलीकॉप्टर (ingenuity helicopter) को मंगल पर नेविगेशन गड़बड़ी का विश्लेषण नासा के इंजीनियर कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

नासा (NASA) इंजेन्युटी हेलीकॉप्टर (ingenuity helicopter) की उड़ान के दौरान आई नेविगेशन गड़बड़ी (Navigation error) के अध्ययन के बाद ही आगे का फैसला लेगा.

  • Share this:
    मंगल ग्रह (Mars) पर नासा (NASA) के इंजेन्युटी हेलीकॉप्टर (Ingenuity Helicopter) को नेविगेशन में गड़बड़ी का सामना करना पड़ा. इस वजह से इंजेन्युटी को कुछ समय के लिए अनियंत्रित उड़ान भरनी पड़ी, लेकिन बाद में सब सामान्य हो गया और हेलीकॉप्टर सुरक्षित जमीन पर आ गया. हाल ही में नासा ने इंजेन्युटी की सफल उड़ानों को देखते हुए उसका अभियान एक महीने के लिए और बढ़ा दिया था. देखने वाली बात यह है कि नासा इस घटना को किस तरह से लेता है.

    पूरी तरह सफल थीं पिछली पांच उड़ान
    इंजेन्युटी की यह छठी उड़ान थी और इससे पहले की पांचों उड़ान उसने पूरी तरह से सफलता और उम्मीदों के मुताबिक भरी थीं. जबकि हर उड़ान के साथ उसका समय और ऊंचाई दोनों बढ़ते गए थे जिससे हर नई उड़ान और ज्यादा मुश्किल और चुनौतीपूर्ण होती जा रही थी. लेकिन पिछले एक महीने में पहली बार इंजेन्युटी को इस तरह की समस्या का सामना करना पड़ा है.

    एक मिनट के लिए आई समस्या
    नासा के जेट प्रपल्शन लैबोरेटरी के अधिकारियों ने बताया कि इंजेन्युटी अंततः सफलता पूर्वक लैंड कर सका. जब पिछले शनिवार को हेलीकॉप्टर जब अपनी छठी परीक्षण उड़ान करीब 10 मीटर की ऊंचाई पर भर रहा था तब करीब एक मिनट के लिए उसमें समस्या आ गई थी.

    तस्वीरें भी ली इंजेन्युटी ने इस दौरान
    इंजेन्युटी ने इस दौरान काफी तस्वीरें तो लीं, लेकिन उनमें से एक तस्वीर नेविगेशन सिस्टम तक नहीं पहुंच सकीं या दर्ज नहीं हो सकीं. इससे पूरी टाइमिंग सीक्वेंस गड़बड़ा गई और इस रोबोक्राफ्ट की स्थिति को लेकर भ्रम पैदा हो गया. वहीं गड़बडी ज्यादा देर तक नहीं रही.

    Space, Mars, NASA, ingenuity helicopter, wild flight, Navigation error, confusing ride, Perseverance Rover,
    इंजेन्युटी हैलीकॉप्टर (ingenuity helicopter) की यह गड़बड़ी केवल एक ही मिनट के लिए रही थी. (तस्वीर: NASA/JPL-Caltech)


    और ये समस्याएं भी आईं
    हेलीकॉप्टर के प्रमुख पायलट हार्वर्ड ग्रिप ने बताया कि इस एक मिनट के दौरान इंजेन्युटी करीब 20 डिग्री तक आगे पीछे झुका और इस दौरान ऊर्जा की खपत में भी उतार चढ़ाव आए. ग्रिप ने ऑनलाइन स्टेटस अपडेट में लिखा कि इंजेन्युटी में एक बिल्ट-इन सिस्टम है जो अतिरिक्त स्थायित्व प्रदान करने का काम करता है जिसने उसे बचाया और हेलीकॉप्टर अपने निर्धारत लैंडिंग स्थान से 5 मीटर दूर लेकिन सुरक्षित उतर सका.

    चांद पर बर्फ और अन्य संसाधन खोजने के लिए मोबाइल रोबोट भेजेगा नासा

    करोड़ो डॉलर का है ये प्रोजेक्ट
    इंजेन्युटी मंगल पर नासा के पर्सिवियरेंस के साथ इस साल फरवरी में उतरा था जिसके दो महीने बाद वह पृथ्वी से बाहर दूसरे ग्रह पर उड़ान भरने वाले पहला विमान बना. 1.8 किलो के इस रोबोक्राफ्ट के तकनीकी प्रदर्शन पर नासा ने 8.5 करोड़ डॉलर खर्च किए हैं. इस समस्या का विश्लेषण नासा के इंजीनियर कर रहे हैं.

    Space, Mars, NASA, ingenuity helicopter, wild flight, Navigation error, confusing ride, Perseverance Rover,
    मंगल (Mars) पर उड़ान भरे के लिए हालात बहुत ही मुश्किल हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


    आसान नहीं है मंगल पर इंजेन्युटी का काम
    इंजेन्युटी का यह प्रोजेक्ट मंगल के हालात के मुताबिक बहुत ही मुश्किल काम है. इसके ऊर्जा तंत्र को काम करने लायक बनाए रखने के लिए एक निश्चित तापमान से ऊपर कायम रखना होता है जबकि मंगल पर -90 और उससे भी कम तापमान तक पहुंच जाता है. वहीं इंजेन्युटी को  दिन के समय सूर्य की रोशनी से अपनी बैटरी चार्ज करने के साथ थर्मोस्टैट हीटर का भी लगातरा उपयोग करना पड़ता है.

    पृथ्वी पर हुए अनोखे शोध ने बताया, क्या हुआ था बिगबैंग के फौरन बाद पदार्थ का?

    आगे के बारे में फिलहाल नासा ने कुछ नहीं कहा है और ना ही यह जानकारी दी है कि यह गड़बड़ी कैसे हुई और यह कैसे सुनिश्चित किया जाएगा कि आगे इस तरह की गड़बड़ी नहीं होगी. अब इंजेन्युटी को पर्सिवियरेंस रोवर के साथ उसके आगे के रास्तों की जानकारी देनी है जिसके लिए उसे रोवर के आगे उड़ना होगा. इससे रोवर को उसके रास्ते में आने वाली बाधाओं ने से बचने में सहायता मिलेगी.