US में अश्‍वेत अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाले मार्टिन लूथर किंग जूनियर की थीं 45 गर्लफ्रेंड

US में अश्‍वेत अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाले मार्टिन लूथर किंग जूनियर की थीं 45 गर्लफ्रेंड
अमेरिका में अश्‍वेतों को बराबरी का अधिकार दिलाने के लिए मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने लंबा संघर्ष किया था.

नोबेल पुरस्‍कार से सम्‍मानित मार्टिन लूथर किंग जूनियर (Martin Luther King Jr.) ने अमेरिका में अश्‍वेतों के सामाजिक अधिकारों के लिए लंबा संघर्ष किया था. उनकी महज 39 साल की उम्र में 4 अप्रैल 1968 को गोली मारकर हत्या (Murdered) कर दी गई थी.

  • Share this:
नोबेल पुरस्‍कार से सम्‍मानित मार्टिन लूथर किंग जूनियर (Martin Luther King Jr.) को अमेरिका में सामाजिक अधिकारों को लेकर किए गए संघर्ष के लिए पहचाना जाता है. अमेरिका की जांच एजेंसी एफबीआई (FBI) ने मार्टिन की गतिविधियों पर करीब 12 साल तक नजर रखी थी. इंटेलिजेंस को मार्टिन के कम्युनिस्ट पार्टियों के साथ संपर्क होने का शक था. उनकी गतिविधियों को लेकर इंटेलिजेंस एजेंसीज के पास फाइलों का पुलिंदा बन गया था. हालांकि, इन फाइलों को 2027 तक जारी नहीं जा सकता है. एफबीआई ने उनके खिलाफ सबूत इकट्ठा करने के लिए टेप रिकॉर्ड किए थे.

महात्‍मा गांधी को अपना आदर्श मानने वाले मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने अमेरिका में रंगभेद और वर्गभेद के खिलाफ लंबा संघर्ष किया था. आज भी उनकी गिनती दुनिया के बड़े नेताओं में होती है. अमेरिका के अटलांटा में 1929 में अट्लांटा जन्‍मे मार्टिन की बायोग्राफी लिखने वाले डेविड गैरो ने कुछ साल पहले एक खुलासा कर सभी को चौंका दिया था. उन्‍होंने बताया था कि शादीशुदा मार्टिन लूथर किंग की 45 से ज्‍यादा गर्लफ्रेंड थीं.

महज 39 साल की उम्र में गोली मारकर कर दी गई थी हत्‍या
अमेरिका (America) में सामाजिक अधिकारों के संघर्ष के कारण 1950 और 60 के दशक में मार्टिन बेहद पसंद किए जाते थे. गैरो के मुताबिक, तत्कालीन इंटेलिजेंस चीफ जे. एडगर हूवर के पास मार्टिन लूथर किंग जूनियर से संबंधित कई गोपनीय फाइलें (Secret Files) थीं. गैरो कहते हैं, 'एफबीआई के टेप रिकॉर्डिंग को सुनकर लगता है कि मार्टिन का अफेयर कई महिलाओं के साथ था. कहा जा सकता है कि मार्टिन के 45 महिलाओं के साथ अफेयर और शारीरिक संबंध थे.' उन्होंने अपनी जिंदगी का एक तिहाई हिस्सा एफबीआई की नजरों में ही बिताया था. तत्कालीन इंटेलिजेंस चीफ हूवर का मानना था कि मार्टिन की वजह से देश की स्थिरता को खतरा हो सकता है. मार्टिन की महज 39 साल की उम्र में 4 अप्रैल 1968 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.



एफबीआई के टेप रिकॉर्डिंग को सुनकर लगता है कि मार्टिन के 45 महिलाओं के साथ अफेयर और शारीरिक संबंध थे.




अश्‍वेत लोगों ने 381 दिन तक किया था बसों का बहिष्‍कार
अमेरिका के अलाबामा राज्य के मॉन्‍टगोमरी शहर की बसों में श्वेत (White) और अश्वेत (Black) लोगों के लिए अलग-अलग सीटें होती थीं. एक अश्वेत महिला रोजा पार्क्स ने एक दिन एक श्वेत व्यक्ति को उनके लिए आरक्षित सीट छोड़ने से इनकार कर दिया. रोजा पार्क्स को गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद अश्वेतों ने अमेरिका के बस परिवहन का बहिष्कार कर दिया. अमेरिका के लोगों ने महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के असहयोग और सत्याग्रह जैसे विचारों से प्रेरणा ले‍कर 381 दिनों तक बहिष्कार किया. मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने इसमें अहम भूमिका निभाई थी. इस आंदोलन के बाद अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अलग-अलग सीटों की इस व्यवस्था को असंवैधानिक (Unconstitutional) घोषित कर दिया था.

मार्टिन लूथर किंग जूनियर के जीवन का एक तिहाई हिस्‍सा एफबीआई की निगरानी में बीता था.


लिंकन स्‍मारक की सीढ़ियों से कहा, 'आई हैव ए ड्रीम'
मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने 28 अगस्त, 1963 को अमरीका के लिंकन स्मारक पर करीब दो लाख लोगों के सामने अपना ऐतिहासिक भाषण 'मेरा एक सपना है' (I have a dream) दिया था. इस भाषण से पहले अमेरिकी सरकार में खलबली मची हुई थी. अमरीकी प्रशासन डरा हुआ था कि इस भाषण के बाद अमरीका में गोरों और कालों के बीच नस्ली हिंसा फैल सकती है. मार्टिन ने यह भाषण काले लोगों के अधिकारों के लिए संघर्षरत विभिन्न संगठनों के संयुक्त रूप से बुलाए गए 'मार्च ऑन वॉशिंगटन फ़ॉर जाब्स एंड फ़्रीडम' में दिया था. काले लोग काफी समय से अमेरिकी समाज में बराबरी के अधिकार के लिए संघर्ष कर रहे थे. मई से अगस्त़ 1963 के बीच 200 शहरों में 1,350 से ज्‍यादा प्रदर्शन हुए. कई जगह नस्ली होने लगा था. हालांकि, कई जगह कोई तनाव नहीं था. किंग ने अपना ऐतिहासिक भाषण लिकंन स्मारक की सीढ़ियों पर दिया था. इस भाषण और मार्च के बाद किंग उसी साल टाइम्स पर्सन ऑफ द इयर बने. वह 1964 में सबसे छोटी उम्र में नोबेल पुरस्‍कार जीतने वाले इंसान भी बने.

ये भी देखें:

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में हथियार बना ये इस्‍लामी कानून

Coronavirus: आईआईटी रुड़की ने बनाया कम कीमत वाला पोर्टेबल वेंटिलेटर, जानें खासियत

जानें अब तबलीगी जमात के विदेशी नुमाइंदों को दी जा सकती है ये सजा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading