महिला होगी पाकिस्तानी की पहली अंतरिक्ष यात्री, कौन हैं वो नामिरा सलीम?

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 5:38 PM IST
महिला होगी पाकिस्तानी की पहली अंतरिक्ष यात्री, कौन हैं वो नामिरा सलीम?
अंतरिक्ष यात्री बनने वाली नामिरा सलीम.

नामिरा सलीम (Namira Salim) के बारे में आप क्या जानते हैं? जानिए अंतरिक्ष यात्रा (Space Travel) पर जाने वाली नामिरा कैसे इस मिशन के लिए चुनी गईं और उनके नाम और कितनी कामयाबियां दर्ज हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 5:38 PM IST
  • Share this:
अंतरिक्ष की दुनिया (Space) में एक नया अध्याय लिखा जाने वाला है. वर्जिन गैलेक्टिक (Virgin Galactic) नाम की एक कंपनी अंतरिक्ष में पहली ऐसी कमर्शियल स्पेसफ्लाइट (Spaceflight) भेजने वाली है, जिसमें कुछ लोग भी होंगे. अगले साल जाने वाली इस फ्लाइट को लेकर पाकिस्तान (Pakistan) अचानक सुर्खियों में आ गया है क्योंकि इस फ्लाइट में अंतरिक्ष के पर्यटन या सैर पर जाने वालों में एक पाकिस्तानी महिला (Pakistan Woman) नामिरा सलीम शामिल हैं. नामिरा पहली पाकिस्तानी महिला ही नहीं बल्कि पहली पाकिस्तानी अंतरिक्ष यात्री बनने की तरफ हैं. जानिए कौन हैं नामिरा सलीम और कैसे वो पहली पाकिस्तानी अंतरिक्ष यात्री के तौर पर पहचानी जाने वाली हैं.

ये भी पढ़ें : मुस्लिम कवियों को कृष्ण से इतना ज़बरदस्त प्रेम क्यों रहा?

स्पेस टूरिज़्म (Space Tourism) यानी अंतरिक्ष पर्यटन को आने वाले समय में हकीकत बताने वाली अंतरिक्ष कूटनीति (Space Diplomacy) को दुनिया में शांति की तरफ बड़ा कदम मानने वाली नामिरा सलीम पाकिस्तानी महिलाओं के सशक्तिकरण (Women Empowerment) का चेहरा बन चुकी हैं. भारत की कल्पना चावला (Kalpana Chawla) और सुनीता विलियमसन (Sunita Williamson) जैसे नामों के बाद दक्षिण एशिया (South Asia) की अंतरिक्ष यात्री महिलाओं की सूची में भी उनका नाम जुड़ रहा है. इससे पहले भी नामिरा के जीवन में उपलब्धियां इतनी रही हैं कि आप हैरान हो सकते हैं.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

space traveler, woman space traveler, pakistani woman record, pakistani women, pakistan space mission, अंतरिक्ष यात्री, महिला अंतरिक्ष यात्री, पाकिस्तानी महिला रिकॉर्ड, पाकिस्तानी महिलाएं, पाकिस्तान अंतरिक्ष मिशन
वर्जिन गैलेक्टिक के सर रिचर्ड ब्रैंसन के साथ नामिरा. तस्वीर डॉन से साभार.


अव्वल होना नामिरा को पसंद है
अप्रैल 2007 में जब नामिरा पृथ्वी के उत्तरी ध्रुव पर पहुंची थीं तब वह ऐसा कारनामा करने वाली पहली पाकिस्तानी होने के साथ ही मोनाको और दुबई की भी पहली महिला थीं. यही अगले साल तब कहा गया जब नामिरा ने जनवरी 2008 में दक्षिणी ध्रुव पर कदम रखा. फिर 2008 में ही नामिरा ने एक कदम और आगे की उपलब्धि अपने नाम की. माउंट एवरेस्ट से स्काइ डाइविंग करने वाली वह पहली एशियाई महिला बनीं.
Loading...

स्पेस मिशन का हिस्सा कैसे बनीं नामिरा?
सर रिचर्ड ब्रैंसन की कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक की कमर्शियल स्पेस लाइनर के साथ नामिरा बहुत शुरू से जुड़ गई थीं. इस कंपनी अंतरिक्ष में पहला मानवयुक्त कमर्शियल यान भेजने का प्रोजेक्ट तैयार किया तो 2005 में 44 हज़ार लोगों के बीच में से जो 100 लोग अंतरिक्ष पर्यटक के तौर पर चुने गए, उनमें नामिरा भी शामिल हैं. अगले साल इस फ्लाइट को अंतरिक्ष रवाना किया जाना तय है और नामिरा इस फ्लाइट में उड़ान भरते ही पाकिस्तान ही नहीं बल्कि मोनाको और दुबई की भी पहली अंतरिक्ष यात्री बन जाएंगी.

space traveler, woman space traveler, pakistani woman record, pakistani women, pakistan space mission, अंतरिक्ष यात्री, महिला अंतरिक्ष यात्री, पाकिस्तानी महिला रिकॉर्ड, पाकिस्तानी महिलाएं, पाकिस्तान अंतरिक्ष मिशन
नॉर्थ पोल और साउथ पोल पर पहुंचने का कीर्तिमान रच चुकी हैं नामिरा. तस्वीर डॉन से साभार.


क्यों पाकिस्तान ने कहा 'हमारी पहली एस्ट्रोनॉट'?
वर्जिन गैलेक्टिक मिशन में शामिल होने के बाद 2007 में नामिरा ने यूएस के NASTAR से सबऑर्बिटल स्पेसफ्लाइट की ट्रेनिंग ली और क्वालिफाई किया. 2008 में नामिरा ने ये सर्टिफिकेट तत्कालीन राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ के सामने प्रस्तुत किया था. पाकिस्तान ने नामिरा को इस उपलब्धि के लिए सम्मानित भी किया और इसके पहले ही पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने नामिरा को 'पहला पाकिस्तानी एस्ट्रोनॉट' घोषित कर दिया था. हालांकि नामिरा स्पेस ट्रैवलर होंगी, एस्ट्रोनॉट नहीं.

मानद राजनयिक हैं नामिरा
1997 से नामिरा सलीम सैद्धांतिक रूप से मोनाको की निवासी रही हैं, हालांकि उनका जन्म पाकिस्तान में हुआ था. नामिरा ने कोलंबिया यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल अफेयर्स में मास्टर्स की डिग्री हासिल की थी और फिर उन्होंने मोनाको व पाकिस्तान के बीच कूटनीतिक संबंध बनाने की कोशिशें की थीं. उनकी कोशिशों के चलते ही मोनाको के प्रिंस ने 2011 में नामिरा को मोनाको में पाकिस्तान के पहले मानद राजदूत या राजनयिक के रूप में मान्यता दी थी.

space traveler, woman space traveler, pakistani woman record, pakistani women, pakistan space mission, अंतरिक्ष यात्री, महिला अंतरिक्ष यात्री, पाकिस्तानी महिला रिकॉर्ड, पाकिस्तानी महिलाएं, पाकिस्तान अंतरिक्ष मिशन
पाकिस्तान ने 2011 में तमगा ए इम्तियाज़ से नामिरा को नवाज़ा था. तस्वीर डॉन से साभार.


बचपन का सपना सच हुआ
पाकिस्तान के मीडिया समूह डॉन ने नामिरा का एक इंटरव्यू प्रकाशित किया है, जिसमें नामिरा ने बताया कि बचपन में जब उनके पिता उन्हें आसमान में तारे दिखाया करते थे, तबसे उनके मन में इच्छा थी कि एक दिन वह उन सितारों की दुनिया में पहुंच सकें. अपने स्पेस मिशन को लेकर उत्साहित नामिरा ने कहा कि ये बचपन के सपने का पूरा होना है. इसके साथ ही, स्पेसट्रस्ट नाम की एक गैर लाभकारी संस्था स्थापित कर चुकी हैं और उनका मानना है कि स्पेस टूरिज़्म और स्पेस डिप्लोमेसी के चलते दुनिया में शांति को लेकर बड़े और कारगर कदम उठाए जा सकते हैं.

ये भी पढ़ें:
सारी मक्खियां मर गईं तो कब तक ज़िंदा रहेंगे इंसान? 
रिकॉर्ड बारिश के बावजूद यहां क्यों बूंद-बूंद को तरसते हैं लोग?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 5:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...