अपना शहर चुनें

States

कितना खूंखार और कट्टर है आतंकी संगठन Boko Haram का नेता?

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

फिल्मों या काल्पनिक थ्रिलर कहानियों में आपने एक ऐसे खलनायक के बारे में पढ़ा होगा जो मायावी लगता है. ठीक वैसा ही है बोको हराम का आतंकी लीडर (Boko Haram Leader). न उसकी पहचान के बारे में पता है, न नाम के बारे में, न उसकी उम्र कोई जानता है और न ही उसका ठिकाना... आखिर कौन है ये आतंकवादी?

  • News18India
  • Last Updated: December 21, 2020, 12:34 PM IST
  • Share this:
स्कूली बच्चों को अगवा (School Students Kidnapping) कर उनके साथ तमाम तरह की ज़्यादतियां करने को लेकर फिर सुर्खियों में बने हुए आतंकवादी संगठन बोको हराम की शुरूआत 2002 में मोहम्मद यूसुफ (Mohd. Yousuf) ने की थी. 2009 में यूसुफ के मारे जाने के बाद से इस संगठन में आतंक का चेहरा बनकर अबू बाकर शेकावी (Abubakar Shekau/Shekawi) उभरा. नाईजीरियाई आतंकी संगठन बोको हराम को क्रूर और बेहद खतरनाक बनाने वाले शेकावी के बारे में इतनी बातें प्रचलित हैं कि वो किसी किंवदंती बन चुके खूंखार खलनायक से कम नहीं रह गया है. कोई कहता है कि वो ज़िंदा ही नहीं है तो कोई कहता है कि उसकी ताकत किसी चमत्कार से कम नहीं है. आखिर ये शेकावी कौन है, कैसा है और कितना खतरनाक है?

साल 2009 में जब यूसुफ मारा गया था, तब नाईजीरियाई सुरक्षा बलों ने मान लिया था कि मुठभेड़ में शेकावी भी मारा गया. लेकिन जुलाई 2010 में जारी हुए एक वीडियो में शेकावी आतंकी संगठन के नेता के तौर पर नज़र आया. धार्मिक स्काॅलर, आध्यात्मिक नेता कहे जाने वाले शेकावी को उसकी फोटोग्राफिक मेमोरी के लिए जाना जाता है.

ये भी पढ़ें :- नेपाल का सियासी संकट क्या है और भारत के लिए इसके क्या मायने हैं?



अंग्रेज़ी नहीं बोलता मायावी शेकावी!
शेकावी को कई भाषाएं आती हैं. हौसा, फलानी, कनूरी और अरबी भाषाओं को प्रवाह के साथ बोल पाने वाले शेकावी को अंग्रेज़ी नहीं आती. पश्चिमी ताकतों की हर चीज़ का विरोध करने वाले बोको हराम के नेता को अंग्रेज़ी न आना उसकी एक क्वालिटी ही मानी जाती है. शेकावी मायावी क्यों है? इसकी कई वजहें हैं.

what is boko haram, boko haram news, terrorist outfits, global terrorism, बोको हराम क्या है, बोको हराम न्यूज़, आतंकी संगठन, दुनिया में आतंकवाद
बोको हराम के नेता अबूबाकर शेकावी की यह तस्वीर कई बार सामने आ चुकी है.


जैसे उसकी उम्र के बारे में किसी को ठीक ठीक कुछ पता नहीं है. कोई कहता है वह 38 साल का है, तो किसी की नज़र में उसकी 50 साल से ज़्यादा है. शेकावी को आतंकी और बोको हराम को आतंकी संगठन घोषित करने वाले अमेरिका के पास भी शेकावी की पैदाइश के अलग अलग आंकड़े दर्ज हैं. 1965, 1969 और 1975 को उसका जन्मवर्ष बताया जाता है.

ये भी पढ़ें :- केरल में कैसे वर्दी पहने घर चलकर आता है ATM? लाॅकडाउन में हिट हुई स्कीम

फिल्मों में आपने एक मायावी खलनायक देखा होगा, उसी तरह शेकावी को संगठन में कोई सीधे तौर पर न तो जानता है और न ही मिल सकता है. शेकावी किसी से सीधे तौर पर बात नहीं करता बल्कि उसके राइट हैंड और खास लोगों का एक घेरा है, जो उसके आदेशों को संगठन तक पहुंचाता है.

अबू बक्र शकिू, शेकाउ, श्किकवा, अबू बक्र बिन मोहम्मद, अल मुस्लीमी बिशकू जैसे कई नामों से शेकावी को जाना जाता है. दारुल तौहीद भी उसका एक खास नाम है. नामों के साथ ही, शेकावी रूप और भेस बदलने में भी माहिर बताया जाता है. उसकी असली पहचान भी शक के दायरे में है.

यूसफ से ज़्यादा कट्टर है शेकावी?
एक तरफ यूसुफ की इमेज संगठन में किसी आध्यात्मिक नेता की रही तो वहीं, शेकावी की इमेज बेहद कट्टर, बेलगाम और उपद्रवी की रही है. शेकावी को यूसुफ के रहते भी ज़्यादा खतरनाक माना जाने लगा था. जब 2009 में अपने 700 सहयोगियों के साथ यूसुफ मारा गया था, तब बोको हराम के नेता बने शेकावी ने बदला लेने की कसम खाई थी.

what is boko haram, boko haram news, terrorist outfits, global terrorism, बोको हराम क्या है, बोको हराम न्यूज़, आतंकी संगठन, दुनिया में आतंकवाद
बोको हराम और नाईजीरियाई सेना के बीच चल रहे संघर्ष में आम लोग पिसते हैं.


शेकावी ने अपनी कसम पूरी करते हुए सरकारी कर्मचारियों, पत्रकारों, ग्रामीणों, छात्रों, चर्च जाने वालों यानी किसी को भी नहीं बख्शा और कत्ले-आम मचाया. मानवाधिकार संबंधी संस्थाओं का अनुमान है कि पिछले करीब पांच सालों में बोको हराम ने 3000 से ज़्यादा हत्याओं को अंजाम दिया है.

हर बार ज़िंदा हो जाता है शेकावी!
सिर्फ 2009 ही नहीं, कई बार माना गया कि शेकावी मारा जा चुका, लेकिन हर बार यह मानना गलत साबित हुआ. नाईजीरिया की सेना के इस तरह के दावे हर बार गलत साबित हुए. सितंबर 2012 में शेकावी को घेर लिया गया था लेकिन गोली लगने के बावजूद वो जान बचाकर भागने में कामयाब हो गया था. तब उसकी पत्नी और बच्चों को सेना ने पकड़ा था.

ये भी पढ़ें :- गणतंत्र दिवस 2021: अब तक ब्रिटेन से कितने नेता रहे हैं खास मेहमान?

नाईजीरिया को पूरी तरह इस्लामी देश बनाने के लिए कमर कस चुके शेकावी ने धर्म के रास्ते सैकडत्रों हज़ारों युवाओं को आतंकी संगठन में जोड़ा है. वो शरीअत के कानून का वादा कर नाईजीरिया के बड़े हिससे में अपना प्रभाव जमा चुका है. सेना और बोको हराम के बीच लगातार चल रहे संघर्ष के कारण ये इलाके बेहद पिछडत्रे हुए तो हैं ही, यहां मानवाधिकारों का हनन कई तरह से होता है.

फैल रहा है शेकावी का टेरर ब्रांड!
सिर्फ नाईजीयिा तक ही बोको हराम सीमित नहीं रह गया है. अफ्रीका के इस्लामिक स्टेट कहे जाने वाले इस संगठन ने अपने पैर कैमरून के साथ माली और नाइजर में भी पसार लिये हैं. इसे शेकावी की महत्वाकांक्षा बताया जाता है कि वो आतंक की अपनी विचारधारा को और फैलाना चाहता है. इसी का एक तरीका बच्चों और खासकर छात्राओं का अपहरण करने की रणनीति है.

what is boko haram, boko haram news, terrorist outfits, global terrorism, बोको हराम क्या है, बोको हराम न्यूज़, आतंकी संगठन, दुनिया में आतंकवाद
नाईजीरिया के बाहर भी फैल रहा है बोको हराम का आतंक.


शेकावी के एक वीडियो के हवाले से कहा जा चुका है कि बोाके हराम ने लड़कियों को किडनैप करने के कदम सेना के विरोध में शुरू किए थे. कहा गया था चूंकि सेना बोको हराम के सदस्यों की पत्नियों को उठा ले जाती है इसलिए आतंकी संगठन ने भी इसी तरह किडनैपिंग के ज़रिये बदला लेना शुरू किया. लेकिन यह आतंक और व्यभिचार का ही कदम रह गया है.

ये भी पढ़ें :- वंदे मातरम: उस गीत की यात्रा जिसे टैगोर ने शोहरत दिलाई तो अरविंदो ने सम्मान

कहा जाता है कि किडनैप की गई कई लड़कियां कभी नहीं लौटतीं और उनमें से कई गर्भवती हो जाती हैं. शेकावी खुद भी यूसुफ की पत्नियों को अपनी पत्नियों के तौर पर अपना चुका है और उसकी कई बीवियां बताई जाती हैं. मल्लामा फिदासी को शेकावी की एक पत्नी माना जाता रहा, जिसे एक मुठभेड़ में 2017 में सेना द्वारा मार दिए जाने की खबरें रही थीं.

साल 2009 से अफ्रीका के साथ ही अमेरिका की नाक में दम किए हुए बोको हराम के नेता शेकावी पर अमेरिका ने 70 लाख डाॅलर का इनाम रखा है तो नाईजीरियाई सेना ने शेकावी पर 3 लाख डाॅलर का. वैसे एक वर्ग की धारणा यह भी है कि शेकावी सचमुच में है ही नहीं, तो कुछ ये भी मानते हैं कि शेकावी अपने बाॅडी डबल यानी हमशक्लों का इस्तेमाल करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज