दुनिया के सबसे बड़े ड्रग माफिया में खूनी जंग, ये शख्स बनेगा डॉन

मैक्सिको में ड्रग माफिया गैंग पर कब्जे की खूनी जंग शुरू हो गई है. दुनिया के सबसे खतरनाक ड्रग माफिया गैंग पर कब्जे के लिए अल मायो अपने ही बॉस के बेटों की हत्या की प्लानिंग करने में जुटा है.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 5:37 PM IST
दुनिया के सबसे बड़े ड्रग माफिया में खूनी जंग, ये शख्स बनेगा डॉन
अल चापो को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद ड्रग माफिया गैंग में शुरू हो चुकी है कब्जे की जंग
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 5:37 PM IST
मैक्सिको के कुख्यात ड्रग माफिया गैंग को हथियाने की नई खतरनाक जंग शुरू हो गई है. ड्रग माफिया गैंग के भीतर चल रही वर्चस्व की ये लड़ाई रोमांचक मोड़ पर पहुंच गई है. मैक्सिको के ड्रग लॉर्ड (ड्रग माफिया डॉन) बनने के लिए अल मायो अपने ही बॉस के बेटों को ठिकाने लगाने की तैयारी कर रहा है.
ड्रग लॉर्ड बनने की खतरनाक लड़ाई की शुरुआत उस वक्त हुई, जब मैक्सिको का सबसे खूंखार ड्रग माफिया डॉन अल चापो को अमेरिका प्रत्यर्पित किया गया.

अल चापो को ताउम्र जेल में कैद की सजा सुनाई गई है. अल चापो को सजा सुनाए जाने के बाद ये सवाल उठ खड़ा हुआ कि दुनिया के सबसे बड़े ड्रग्स कार्टेल यानी ड्रग्स गैंग सिनालोवा का अगला प्रमुख कौन होगा. ड्रग्स के अरबों के साम्राज्य को लेकर गैंग में अदरुनी लड़ाई शुरू हो चुकी है.

बताया जा रहा है कि अल चापो का वफादार रह चुका अल मायो ड्रग्स लॉर्ड बनने के लिए खूनी जंग पर आमादा हो चुका है. वो किसी भी तरह से सिनालोवा पर कब्जा चाहता है. अल चापो के दो बेटे हैं. लोगों को लग रहा था कि अल चापो के बाद उसके बेटे की गैंग की कमान संभालेंगे. लेकिन अल मायो किसी भी सूरत में गैंग पर कब्जे की फिराक में है.

अल चापो की विरासत  संभालने के लिए खूनी जंग

अल चापो और उसके गैंग की किस्से पूरी दुनिया में मशहूर हैं. उस पर कई फिल्में बन चुकी हैं, किताबें लिखी जा चुकी हैं. अल चापो ने ड्रग्स की स्मगलिंग से अरबों की संपत्ति कमाई है. मैक्सिकों में उसके साम्राज्य का रुतबा ऐसा है कि वहां कि जेल भी उसे रोक नहीं पाई. वो दो बार जेल से फरार हो चुका है. इसलिए इस बार मैक्सिको की पुलिस ने उसे गिरफ्तार करते ही अमेरिका भेज दिया. अल चापो के सजा सुनाए जाने के बाद अब उसके गैंग के सरदार को लेकर नई जंग शुरू हो गई.

mexican drug mafia gangwar story el mayo want to take over el chapo drug lord legacy after killing his sons
अल मायो

Loading...

कभी अल चापो का सबसे विश्वस्त रहने वाला अल मायो गैंग पर कब्जे के लिए खूनी जंग की शुरुआत करने वाला है. अल मायो का असली नाम इस्माइल जमबाडा गर्सिया है. 71 साल का अल मायो ड्रग कार्टेल में बचा आखिरी ताकतवर शख्स है. अब वो गैंग को अपने नाम से चलाना चाहता है.

इस बारे में द सन से बात करते हुए साइराकूज यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ग्लैडी मैक कॉर्मिक, जो मैक्सिको में हिंसा के मामलो पर गहरी नजर रखते हैं, बताते हैं कि अल मायो को कभी कभार ही देखा गया है. वो कभी जेल में नहीं रहा है. अल मायो ने हमेशा अपना लोअर प्रोफाइल बनाए रखा है. अल चापो बाहर निकलता रहता था, क्योंकि उसे लाइम लाइट पसंद आता था. अल मायो अलग है. वो शांत रहकर खतरनाक काम करता है.

अल चापो के बेटों की हत्या की फिराक में है अल मायो

अल मायो की राह में बस एक ही रोड़ा है और वो हैं अल चापो के दो बेटे. इनके नाम हैं इवान अर्किवाल्डो और जीसस अलफ्रेडो. अल मायो इनका सफाया कर गैंग पर कब्जे की फिराक में है. हालांकि मैक्सिको के गैंग्स को जानने वाले कहते हैं कि शायद अल मायो को ऐसा करने की जरूरत भी न पड़े. क्योंकि अल चापो के बेटे काबिल नहीं है. जितना चालाक और शातिर अल मायो है, अल चापो के बेटे उतने ही बेवकूफ हैं. इसलिए अल मायो को गैंग पर अपनी पकड़ बनाने में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी.

mexican drug mafia gangwar story el mayo want to take over el chapo drug lord legacy after killing his sons
अल चापो के दोनों बेटे


कहा जाता है कि 2016 में अल चापो के दोनों बेटों को दुश्मन गैंग ने किडनैप कर लिया था. उस वक्त अल मायो ने ही दोनों को छुड़ाया था. इवान और जीसस ड्रग कार्टेल में अपनी पहचान नहीं बना पाए.

अल चापो से किसी भी मायने में कम नहीं है अल मायो. मैक्सिको ड्रग माफिया के जानकार कहते हैं कि वो सबसे ताकतवर ड्रग ट्रैफिकर है. अमेरिका के ड्रग्स मार्केट में उसका रसूख है. हालांकि जब तक अल चापो था, उसकी क्षमता को कम करके आंका गया. लेकिन अल चापो के पुलिस में गिरफ्त में आने के बाद अब अल मायो को खुलकर खेलने का मौका मिल गया है.

mexican drug mafia gangwar story el mayo want to take over el chapo drug lord legacy after killing his sons
पुलिस की गिरफ्त में अल चापो


बहुत ही शातिर और चालाक है अल मायो

अल मायो अफीम के खेत में काम करने वाला मजदूर था. धीरे-धीरे उसने इतनी तरक्की की कि वो मैक्सिको के सबसे बड़े ड्रग माफिया गैंग के प्रमुख का दाहिना हाथ बन गया. अल मायो दुनिया के सबसे खतरनाक वांटेड क्रिमिनल्स में से एक है. उसके सिर पर 4 मिलियन पाउंड का इनाम रखा गया है. अल चापो तो कई बार पकड़ा गया है लेकिन अल मायो पुलिस की गिरफ्त में एक बार भी नहीं आ पाया है.

अल मायो इतना शातिर और चालाक है कि एक जगह पर वो एक रात से ज्यादा नहीं रुकता है. उसके ठिकाने के बारे में किसी को जानकारी नहीं होती है. वो छिपे रहकर ही अपने ड्रग्स के धंधे को चलाता है.
अल चापो इससे अलग था. वो स्विटजरलैंड जैसी जगहों पर छुट्टियां बिताने जाया करता था. आलीशान जिंदगी जीता था. अपनी उम्र कम दिखाने के लिए वो करोड़ों रुपए खर्च कर डालता था. उसके इतना बड़ा शौकीन था कि उसने अपना बीच हाउस और अपना जू (चिड़िंयाघर) बना रखा था.

ये भी पढ़ें: अरबपति ड्रग माफिया डॉन जिसकी बांहों में झूलती थी हसीनाएं, US में था खौफ

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 5:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...