Explained: व्यापारी जहाज में चीन से आए चूहों ने मचाया Australia में आतंक, 18वीं सदी से चल रहा सिलसिला

दुनिया के बहुत से देशों में चूहे चीन से फैले माने जाते हैं- सांकेतिक फोटो (flickr)

दुनिया के बहुत से देशों में चूहे चीन से फैले माने जाते हैं- सांकेतिक फोटो (flickr)

ऑस्ट्रेलिया में तबाही मचा रहे चूहे (mice plague in Australia) सबसे पहले साल 1787 में देखे गए. जांच में आया कि ये कारोबारी जहाज के जरिए चीन (China) से होते हुए ब्रिटेन और फिर ऑस्ट्रेलिया पहुंच गए. वैसे यूरोपियन देशों में चीन से चूहे फैलने की शुरुआत 2 हजार साल पहले हो गई थी.

  • Share this:

ऑस्ट्रेलिया में इन दिनों चूहों का आतंक मचा हुआ है, जिसे कई दशकों में सबसे बड़ा माना जा रहा है. सोशल मीडिया से लेकर मुख्यधारा मीडिया में दनादन ऐसे वीडियो आ रहे हैं, जहां घर के फर्श से लेकर अनाज के ढेर तक चूहे ही दिख रहे हैं. अस्पतालों में ऐसे लोग आ रहे हैं, जिन्हें चूहों ने काटा. चूहों की संख्या में एकाएक हुई इस बढ़त से खुद सरकार सकते में है. वैसे उस देश में चूहों के कारण मची तबाही के मंजर कोई नए नहीं.

तब मचा था पहली बार आतंक

ये तो हैं ऑस्ट्रेलिया के ताजा हाल, लेकिन सोचने की बात है कि आखिर क्यों इस देश में चूहों का इतना आतंक मचा हुआ है. इसे समझने के लिए इतिहास में जाना होगा. ऑस्ट्रेलिया में पहले चूहे बिल्कुल नहीं थे. पहली बार ये साल 1787 में देखे गए. जांच करने पर पता चला कि ये चूहे ब्रिटेन से व्यापार के दौरान जहाज से होते हुए ऑस्ट्रेलिया पहुंच गए थे.

चीन की देन माने जाते हैं चूहे
दिलचस्प बात है कि दुनिया के लगभग सभी देशों में चूहे चीन से फैले माने जाते हैं. खासकर यूरोपियन देशों में चूहे चीन की ही देन हैं. इतिहासकारों के अनुसार लगभग 2 हजार साल पहले चीन की वजह से ही दूसरे देशों में प्लेग का एक खास प्रकार पहुंचने लगा.

mice hits Australia China connection
लगभग 2 हजार साल पहले चीन की वजह से ही दूसरे देशों में प्लेग का एक खास प्रकार पहुंचने लगा- सांकेतिक फोटो

अक्सर व्यापार के आने-जाने वाले जहाजों के जरिए ये फैलता था. इसका प्रमाण साल 1347 में मिला था, जब इटली में चीन से आए 12 जहाजों के कारण चूहे भी आए थे और फिर पूरी इटली प्लेग की चपेट में आ गई. अगले पांच सालों में उन्हीं जहाजों से आए बीमार चूहों ने 20 मिलियन से भी ज्यादा जानें ले लीं. बाद में इन जहाजों को डेथ शिप कहा गया, हालांकि चीन से व्यापार तब भी नहीं रुका.



अनाज का सबसे बड़ा नुकसान साल 1993 में दिखा

अब वापस लौटते हैं ऑस्ट्रेलिया में तो यहां 1787 ब्रिटेन के पोर्टमाउथ से आए जहाज जैसे ही बेड़े पर रुके, चूहे साथ आ गए. इसके बाद से यहां लगभग हर चार साल में चूहों का आतंक दिखता रहा है. खासतौर पर फसल पकने और उसके भंडारण के दौरान चूहे तेजी से बढ़ते हैं. वैसे तो ये हर सीजन में ही अनाज का भंडार खाते हैं लेकिन सबसे ज्यादा नुकसान साल 1993 में हुआ था, जब ऑस्ट्रेलिया के विभिन्न प्रांतों में 96 मिलियन ऑस्ट्रेलियन डॉलर का अनाज चूहों ने खराब कर दिया.

ये भी पढ़ें: कितना प्राचीन है Ayurveda, किस तरह हजारों साल पहले होती थी सर्जरी?

पशुओं और कारखानों पर भी हमला

अन्न का नुकसान ही नहीं, बल्कि चूहे यहां मुर्गियों और गाय-भैंसों पर भी हमला कर देते हैं और उन्हें बीमार कर देते हैं. नतीजा ये होता है कि चूहों से कारण संक्रमण फैलने के डर से पशुओं को मारना पड़ जाता है. लेकिन साल 1993 में तो चूहों ने काफी कुछ तहस-नहस किया था. उनके झुंड के झुंड रबर और इलेक्ट्रिकल कारखानों और स्टोर तक पहुंच गए और काफी नुकसान किया. कारों और इमारतों को भी उस साल चूहों के कारण काफी नुकसान हुआ था. आज तक ऑस्ट्रेलियाई सरकार उस बार हुए हमले की न तो वजह समझ सकी और न ही नुकसान का पूरा आकलन कर सकी.

mice hits Australia China connection
अन्न का नुकसान ही नहीं, बल्कि चूहे मुर्गियों और गाय-भैंसों पर भी हमला कर उन्हें बीमार कर देते हैं- सांकेतिक फोटो (pixabay)

साल 2020 से ही बढ़ने लगे थे

अगर ताजा हालातों की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया में पिछले साल के मध्य से ही चूहे बढ़ने लगे थे, जो वहां फसलों का समय था. हर बार की तरह उन्हें फंसाने और बाढ़ रोकने की कोशिश की गई लेकिन इस बार ये कोशिश नाकाम रही. चूहे साल 2020 से बढ़ने शुरू हुए तो अब तक उनकी तादाद बढ़ती ही जा रही है.

ये भी पढ़ें: क्या ज्यादा जिंक खाने से बढ़ा Black Fungus, क्यों उठ रहे हैं सवाल?

हर जगह दिख रहे चूहे

न्यू साउथ वेल्स और क्वींसलैंड जैसे शहरों में एकाएक लाखों की संख्या में हर तरफ चूहे दिख रहे हैं. वे खेतों या फिर खाली जगहों और कबाड़ तक ही सीमित नहीं, बल्कि घरों, खाने के सामान, अस्पतालों और यहां तक कि निजी और सार्वजनिक वाहनों तक में हड़कंप मचा रहे हैं. लोग खुद ही सोशल मीडिया पर वीडियो डाल रहे हैं कि उनके घर में कहां-कहां चूहे बस गए हैं. यहां तक कि घर के कई सदस्य लगातार चूहे पकड़ने का काम कर रहे हैं और इसकी वीडियो भी डाल रहे हैं.

mice hits Australia China connection
चूहों के कारण ऑस्ट्रेलिया में सबसे ज्यादा नुकसान साल 1993 में हुआ था- सांकेतिक फोटो (pixabay)

महामारी फैलने की आशंका

लोगों को केवल अनाज और दूसरे सामानों के नुकसान का ही डर नहीं, बल्कि चूहों के कारण महामारी का डर भी सता रहा है. ये वो समय है जबकि दुनिया कोरोना महामारी से ही जूझ रही है, ऐसे में चूहों का बढ़ना प्लेग ला सकता है. बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के कई प्रांतों में पानी की टंकियों में चूहे मरे मिले, इसके बाद से ये आशंका और बढ़ गई है.

क्या कर रही है सरकार

चूहों को खत्म करने की सारी कोशिशें फेल होती दिख रही हैं. ऐसे में ऑस्ट्रेलिया भारत से मदद ले रहा है. दरअसल हमारे यहां से उस देश में चूहामार दवा भेजी जा रही है. हिंदुस्तान टाइम्स में इस बारे में ऑस्ट्रेलियाई राज्य कृषि मंत्री एडम मार्शल के हवाले से आया है कि न्यू साउथ वेल्स की सरकार ने भारत से लगभग 5000 लीटर चूहामार दवा का ऑर्डर दिया. Bromadiolone नाम की ये दवा वैसे प्रतिबंधित है लेकिन चूहे मारने के लिए इसे दुनिया की सबसे पक्की दवा माना जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज