नए तरीकों से हुए अध्ययन ने खोले मिल्की वे गैलेक्सी के खास रहस्य

इस अध्ययन से हमारी गैलेक्सी मिल्की (Milky Way) के बारे में बहुत सी नई भी बातें पता चली हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

इस अध्ययन से हमारी गैलेक्सी मिल्की (Milky Way) के बारे में बहुत सी नई भी बातें पता चली हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

मिल्की वे (Milky Way) गैलेक्सी (Galaxy) को लेकर नए अध्ययन से पता चला है कि खगोलविद (Astronomers) जितना समझा जा रहा थे, वह उससे कहीं ज्यादा तेजी से विकसित हुई है.

  • Share this:

जैसे जैसे हमारे वैज्ञानिकों के पास उन्नत उपकरण और तकनीकें आ रही हैं, वैसे ही उनकी ब्रह्माण्ड के बारे में जानकारी भी बेहतर होती जा रही है. इसी कड़ी में नई पद्धतियों से किए गए अध्ययन में हमारी गैलेक्सी (Galaxy) मिल्की वे (Milky Way) के बनने के समय को लेकर नए प्रमाण पाए हैं. इसमें मिल्की वे के एक प्रमुख उप गैलेक्सी (Satellite Galaxy) से विलय की घटना की जानकारी भी शामिल है.

लगा सके सटीक उम्र का अनुमान

शोधकर्ताओं ने तुलनात्मक रूप से नई खगोलीय पद्धितियों का उपयोग किया जिसे वे हमारी गैलेक्सी में मौजूद सौ से भी ज्यादा तारों की अब तक की सबसे सटीक उम्र का अनुमान लगा सके. इस नए और उसके साथ दूसरे आकड़ों के आधार पर शोधकर्ताओं ने दर्शाया कि क्या हुआ था जब मिल्की वे गैलैक्सी उसका चक्कर लगाने वाली उप गैलेक्सी  से विलय हुआ था.

कब हुआ था विलय
इस गैलेक्सी का नाम गीगा एनक्लॉडस है और यह विलय 10 अरब साल पहले हुआ था. ये नतीजे हाल ही में नेचर जर्नल में प्रकाशित हुए हैं. ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर कॉस्मोलॉजी एंड एस्ट्रोपार्टिकल फिजिक्स में फेलो और इस अध्ययन के सहलेखक फियोरेन्जो निसेन्जो ने बताया कि उनके प्रमाण सुझाते है कि जब यह विलय हुआ था तब मिल्की वे ने पहले ही बड़ी तादात में तारों का निर्माण कर लिया था.

मिल्की वे को दिया नया आकार

हमारी गैलेक्सी के बहुत सारे तारे मोटी तश्तरी के बीच में आ गए हैं जबकि ज्यादातर गीगा एनसेलॉडस से पकड़े गए तारे गैलेक्सी के बाहरी हालो में पाए जाते हैं. इस अध्ययन की अगुआई करने वाली और यूके की बर्मिंघम यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ फिजिक्स एंड एस्ट्रोलॉजी की जोसेफीना मोटाल्बेन का कहना है कि इससे पहले माना जाता था कि मिल्की वे के इतिहास में गीगा एनसेलॉडस का बहुत अहम स्थान है. इसका हमारी गैलेक्सी को आकार देने में अहम योगदान माना जाता है.



Space, Galaxy, Milky Way, Astronomers, Satellite Galaxy, Galaxy merger, astronomical Evidence, Milky Way history,
नई पद्धति ने तारों (Stars) के साथ मिल्की वे के इतिहास की भी जानकारी दे दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: NASA/ESA)

तारों की उम्र और उनका असर

तारों की उम्र की गणना कर शोधकर्ता पहली बार यह पता कर सके कि गीगा एनसेलॉडस से आए तारों और मिल्की वे के अधिकांश तारों की उम्र या तो एक सी है या वे मिल्की वे के तारों से थोड़े युवा हैं. अध्ययन से पता चला कि इस प्रचंड विलय के कारण गैलेक्सी में पहले से मौजूद तारों की कक्षा में बदलाव आया उनकी कक्षा ज्यादा असामान्य हो गई.

कहां से आया है वैज्ञानिकों को पृथ्वी पर मिला सौरमंडल से भी पुराना प्लूटोनियम

तारों की गतिविधियों में अंतर

शोधकर्ताओं ने तारों की गतिविधियों की तुलना गीगा एनसॉलिडस के उनकी तारों की गतिविधि से की जो मिल्की से अलग पैदा हुए थे. ये तारे उनसे बहुत अलग थे जो मिल्की वे में पैदा हुए थे. इसकी रासायनिक संरचना भी बहुत अलग थी. इसके लिए उन्होंने अलग तरीके और स्रोत वाले आंकड़ों का उपयोग किया.

Space, Galaxy, Milky Way, Astronomers, Satellite Galaxy, Galaxy merger, astronomical Evidence, Milky Way history,
शोधकर्ताओं ने तारों (Stars) की उम्र के साथ उनकी कक्षा के बारे में भी जानकारी निकाली. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

तारों के अंदर से ध्वनि तरंगें

तारों की सटीक उम्र का  पता लगाने के लिए शोधकर्ताओं ने एस्ट्रोसीज्मोलॉजी का उपयोग किया. यह एक नया क्षेत्र है जहां तारों की आंतरिक संरचना का अध्ययन होता है. इसमें तारों के स्पंदन या कंपन का अध्ययन किया जाता है. ये स्पंदन या कंपन वे ध्वनि तरंगे हैं जो तारों के अंदर से आती हैं. शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे वे तारों की सटीक उम्र का अनुमान लगा सके.

जानिए क्या कहती है सौरमंडल के बाहर तारों के बीच मिले नए संकेतों की जानकारी

तारों ने एपोजी नामके स्पैक्ट्रोस्कोपिक सर्वे का भी उपयोग किया जो तारों की उम्र बताने एक अन्य तरीका है. शोधकर्ताओं को लगता है कि ये दोनों तकनीकों का मिश्रण तारों की सटीक उम्र पता करने की लिए बहुत कारगर है. अब शोधकर्ता इस पद्धति का और व्यापक पैमाने पर अध्ययन करने के लिए प्रयोग करेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज