लोकसभा चुनाव 2019: जो बीजेपी के 39 साल के इतिहास में कभी नहीं हुआ, मोदी-शाह ने कर दिखाया वो करिश्मा

लोकसभा चुनाव रिजल्टः बीजेपी के 39 सालों के इतिहास जो नहीं हुआ, वो बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जोड़ी ने कर दिया है. इसके बारे में शायद किसी ने अंदाजा तक नहीं लगाया था.

News18Hindi
Updated: May 24, 2019, 1:56 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: जो बीजेपी के 39 साल के इतिहास में कभी नहीं हुआ, मोदी-शाह ने कर दिखाया वो करिश्मा
लोकसभा चुनाव रिजल्टः बीजेपी के 39 सालों के इतिहास जो नहीं हुआ, वो बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जोड़ी ने कर दिया है. इसके बारे में शायद किसी ने अंदाजा तक नहीं लगाया था.
News18Hindi
Updated: May 24, 2019, 1:56 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019 में भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने कमाल का प्रदर्शन किया है. चुनाव परिणामों से ये जाहिर हुआ है कि बीजेपी के 39 सालों के इतिहास में जो नहीं हुआ, वो बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जोड़ी ने कर दिया है. इसके बारे में शायद किसी ने अंदाजा तक नहीं लगाया था.

17 प्रदेशों में कांग्रेस का खाता नहीं खुला


देश की सबसे पुरानी और सालों तक सत्ता में रहने वाली भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) का भारत के कुल 29 राज्यों और सात केंद्र शासित प्रदशों में से 17 में खाता नहीं खुला. जबक‌ि देश के सबसे ज्यादा लोकसभा सीटों वाले प्रमुख प्रदेशों उत्तर प्रदेश और बिहार में कांग्रेस को महज एक-एक सीटें मिली. इसके अलावा गुजरात, हरियाणा, राजस्‍थान, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा, उत्तराखंड, आंध्र प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, दिल्ली, मणिपुर, नगालैंड, मिजोरम, सिक्किम, चंडीगढ़, दादर-नगर हवेली, दमन-दीव और लक्षद्वीप में कांग्रेस एक सीट भी नहीं जीत पाई.



लालू प्रसाद यादव की पार्टी नेस्तनाबूद होना
साल 2014 के आम चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (BSP) का खाता नहीं खुला था. तब यह माना गया था बीजेपी का यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है, जब मायावती जैसी खांटी जातिगत राजनीति की सबसे बड़ी धुरी को नेस्तनाबूद कर दिया गया. लेकिन उस लहर में भी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के बारे में ऐसी धारणा नहीं बनी थी. लोगों ने माना था कि कुछ भी हो जाए बिहार से लालू को साफ करना मुश्किल है. लेकिन 2019 के चुनाव परिणामों ने बिहार से लालू की पार्टी को उखाड़ दिया. आरजेडी को एक भी सीट नहीं मिली. इसमें अहम भूमिका बीजेपी ने निभाई.


Loading...

पूर्व पीएम देवगौड़ा, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और खड़गे हारे
2014 की बीजेपी की प्रचंड जीत में भी देश में कुछ ऐसे दिग्गज नेता रहे जो चुनाव नहीं हारे. इनमें देश के पूर्व प्रधानमंत्री का चुनाव हारना एक बड़ी बात रही. पूर्व पीएम व जनता दल (सेक्‍यूलर) के संरक्षक एचडी देवगौड़ा अपनी कर्नाटक की सीट हार गए. उनकी सीट तुमकुर पर उन्हें बीजेपी प्रत्याशी केजी बासवराज ने 13,339 वोटों से हरा दिया.

यह भी पढ़ें- सिक्किम: ऐसी सीट जहां साधु ही प्रत्याशी और साधु ही वोटर

इसी तरह 2014 की यूपी की 80 में 73 सीटें जीतने वाला राजग भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से उनकी सीट नहीं छीन पाया. जबकि वे कांग्रेस अध्यक्ष पद पर नहीं थे, फिर भी अमेठी जीत गए थे. लेकिन राहुल गांधी को चुनावी इतिहास में पहली बार हार का सामना करना पड़ा.



इसी तरह 16वीं लोकसभा के नेता प्रतिपक्ष पर दिग्गज कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे अपने चुनावी करियर में पहली बार हारे हैं. वह कर्नाटक के गुलबर्गा सीट से बीजेपी के प्रत्याशी उमेश जाधव से 95,452 वोटों से हार गए.

300 सीटों जीतने का रिकॉर्ड बीजेपी ने बनाया पहली बार
बीजेपी ने 2014 में प्रचंड बहुमत से जीत दर्ज की थी. तब यह कहा जा रहा था कि यह बीजेपी की ऐतिहासिक विजय है और सर्वोच्च प्रदर्शन है. लेकिन 2019 लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने इतिहास रचते हुए पहली बार बीजेपी को 300 सीटों के पार पहुंचा दिया. बीजेपी को इस बार कुल 303 सीटें मिली हैं.



लगातार दो बार बहुमत लाने वाली दूसरी पार्टी
भारत के 17 लोकसभा चुनावों के इतिहास में आजादी के बाद के शुरुआती तीन चुनावों को छोड़ दें तो लगातार दो बार बहुमत पाने वाले नरेंद्र मोदी दूसरे पीएम और बीजेपी दूसरी पार्टी बन गई है. शुरुआती तीन चुनावों में नेहरू की बहुमत वाली सरकारें थी. लेकिन इसके बाद देश में बहुमत वाली सरकारों का क्रम टूटा. इंदिरा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने 1967 और 1971 में बहुमत वाली सरकार बनाई. अब 48 साल बाद इस करतब को दोहराया जा रहा है. जब पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने दोबारा पूर्ण बहुमत हासिल कर लिया है.

यह भी पढ़ें- खुद को दोहरा रहा है इतिहास, 71 में इसी तरह जीती थीं इंदिरा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...