भले ही हो घूमने का मन, मानसून के मौसम में इन पहाड़ी इलाकों में जाने से बचें

उत्तर भारत में भूस्खलन (Landslide) की घटनाएं बारिश के मौसम में ज्यादा होती हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Mazur Travel / Shutterstock)

Monsoon Season में पहाड़ी इलाकों में बादल फटने से बाढ़, भूस्खलन (Landslide) की घटनाएं होती हैं इसलिए ऐसे समय में पर्यटकों (tourists) को उत्तराखंड, हिमाचल जैसे इलाकों में नहीं जाना चाहिए.

  • Share this:
    भारत (India) में मानसून (Monsoon) का सीजन बहुत सारी पर्यटन संभावनाएं पैदा करता है. इस समय बारिश में बहुत सारे इलाकों की खूबसूरती में चार चांद लग जाते हैं. लेकिन इन इलाकों में इस मौसम में घूमने जाना भी खतरे से खाली नहीं होता है. मानसून सीजन में खास तौर पर  ऊंचाई वाले इलाकों में बादल फटते हैं और पहाड़ी इलाकों में बारिश से तुरंत बाढ़ और भूस्खलन (Landslides) जैसी स्थितियां आ जाती हैं. ऐसे में कई लोगों के बीच रास्ते में ही फंसने की आशंका हो जाती है और हादसे भी हो जाते हैं. आइए जानते हैं ऐसे कौन से इलाके में जहां ऐसे मौसम में जाना परेशानी सबब बन जाता है.

    बाढ़ आती है और यह होता है हाल
    वैसे तो मानसून सीजन में भारत के बहुत सारे इलाके बाढ़ की चपेट में आ जा जाते हैं. इससे कई हिस्सों को अपने राज्य या देश के अन्य हिस्सों से सम्पर्क कट जाता है, और बीच रास्ते में फंसे लोग नदी के ऊफान के  बीच डूबी हुई पुलिया को पार करने की कोशिश में हादसे के शिकार हो जाते हैं. लेकिन पहाड़ी और पर्वतीय इलाकों में ऐसा ज्यादा होता है. इसीलिए मानसून सीजन में हिमालय के इलाकों में जाने की सलाह नहीं दी जाती है.

    पहाड़ी इलाकों में बड़ी मुसीबत
    जहां मैदानी इलाकों में केवल नदियों का उफान ही संकटकारी होता है. पहाड़ी इलाकों में तेज बारिश और बादल फटने से भूस्खलन जैसी घटनाएं आम हो जाती हैं. इनसे रास्ते में कहीं भी भूस्खलन से या तो सड़क धंस जाती है या फिर उस पर चट्टान गिरने से वह बंद हो जाती है और पर्यटक लंबे समय के लिए यहां फंस जाते हैं.

    India, Monsoon, Landslide, Rainfall, Rainy Season, Flood, Uttarakhand, Himachal, North East,
    उत्तराखंड (Uttarakhand) और हिमाचल में बादल फटने की घटनाएं बहुत होती हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)


    इन इलाकों में ज्यादा खतरा
    भारतीय पहाड़ियों इलाकों में सबसे ज्यादा चर्चित उत्तराखंड का इलाका ऐसा हैं जहां बारिश के मौसम में भूस्खलननकी घटानाएं ज्यादा होती हैं. इनके अलावा हिमाचल, सिक्किम और उत्तर पूर्व के कई राज्यों में बारिश के दौरान बाढ़ और भूस्खलन की घटनाएं होती रहती हैं. इनमें उत्तराखंड और हिमाचल का क्षेत्र अहम है. संयोग यह है कि ये इलाके बारिश के मौसम में पर्यटन के लिए लिहाज से अलग महत्व रखते हैं.

    Global Warming कम करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं रूसी जंगल- शोध

    बहुत सी दुर्घटनाएं
    जहां उत्तर पूर्व में भारी बारिश लोगों का एक जगह से दूसरी जगह पर आना जाना मुहाल कर देती हैं. हिमाचल और विशेषकर उत्तराखंड में बादल फटने से भूस्खलन की घटनाएं ज्यादा हो जाती है. हाल ही में हिमाचल की मांझी नदी में ऐसा ही हुआ है. तो वहीं उत्तराखंड में भी एकगांव में भूस्खलन के कारण एक घर ढहने से तीन लोग मारे गए. इसके अवाला बिजली गिरने की घटना से भी कई जगहों पर लोगों के मारे जाने की खबरें हैं.

    India, Monsoon, Landslide, Rainfall, Rainy Season, Flood, Uttarakhand, Himachal, North East,
    मानसून (Monsoon) में बाढ़ (Flood) से देश भर में कई जगह रास्ते बाधित होते हैं. (तस्वीर: Shutterstock)


    क्या ऐसी घटनाओं की वजह
    दरअसल जब दक्षिण पश्चिम से मानसूनी हवाएं राजस्थान से होकर बिना बरसे उत्तर की ओर जाती हैं तो उन्हें उत्तराखंड और उसके आसपास के हिमालय का क्षेत्र रोक लेता है. ये मानसून हवाएं यहां ऊपर उठती हैं जिससे इनकी वाष्प ठंडी होकर बारिश के रूप बदलते है जिससे बहुत ही तेज बारिश होती है जिसे बादल फटना कहते हैं. इस तेजी से गिरने वाली बारिश से पहाड़ी इलाके में कई जगहों पर भूस्खलन की घटनाएं हो जाती है. कहीं घर ढह जाते हैं तो कहीं कहीं सड़कों पर पत्थर और चट्टानें गिर जाती है. इसमें कई वाहन भी दब जाते हैं और लोग मर जाते हैं.

    Climate change: ठंडी होकर सिकुड़ रही है वायुमंडल की ऊपरी परत- शोध

    इन हालातों में प्रशासन तक रेड अलर्ड घोषित कर देता है और लोगों को उस इलाके में यात्रा करने से बचने की सलाह दी जाती है. हिमाचल प्रशासन ने दो दिन पहले ऐसी ही घोषणा धर्मशाला क्षेत्र के लिए की थी. अच्छी बात यह है कि अधिकांश इलाके ऐसे हैं जो पर्यटन के लिहाज से दूसरे मौसम में भी अच्छे रहते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.