कौन हैं वे लोग, जो कोरोना के 80 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार हैं?

कौन हैं वे लोग, जो कोरोना के 80 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार हैं?
कुछ ही लोग होते हैं जो सुपर स्प्रेडर का काम करते हैं-सांकेतिक फोटो (Photo-pixabay)

स्टडी में चौंकाने वाली बात सामने आई है. इसके मुताबिक ज्यादातर मरीजों से कोरोना नहीं फैलता है, बल्कि बहुत थोड़े-से लोग इसके लिए जिम्मेदार (most infected people don’t pass on the coronavirus but very few are responsible) होते हैं. अब इनकी पहचान पर जोर दिया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 14, 2020, 11:31 AM IST
  • Share this:
कोरोना का ग्लोबल आंकड़ा 1 करोड़ 32 लाख से ऊपर जा चुका है. इस बीच ये बात सामने आ रही है कि कोरोना के हर मरीज से संक्रमण नहीं फैलता है, बल्कि कुछ ही लोग होते हैं जो सुपर स्प्रेडर का काम करते हैं. इनमें वायरल लोड इतना ज्यादा होता है कि इनमें एक-दो नहीं, बल्कि सैकड़ों लोगों तक कोरोना संक्रमण फैल सकता है. अधिकतर देशों में यही हुआ कि कुछ लोगों की वजह से वायरस तेजी से फैला. जानिए कैसे वही वायरस किसी एक में चुपचाप पड़ा रहता है, जबकि किसी के जरिए तेजी से फैलता है.

मई में अहमदाबाद में कई सुपर स्प्रेडर मिले. इसके बाद बंदी और सख्त हो गई. अधिकारियों ने डर जताया कि सुपर स्प्रेडर अगर बाहर निकले तो संपर्क में आए सभी लोगों को कोरोना हो सकता है. ऐसे में सवाल आता है कि आखिर ये सुपर स्प्रेडर क्या होता है? ये एक अंग्रेजी शब्द है, जिसका मतलब किसी चीज को तेजी से फैलाने वाला. कोरोना के मामले में भी महामारी के विस्फोट के लिए अनजाने में यही लोग जिम्मेदार हैं. आम कोरोना मरीज के जरिए वायरस 1 से 3 लोगों तक पहुंचता है. जबकि सुपर स्प्रेडर से ये बहुत से स्वस्थ लोगों में फैल जाता है.

किसी भी फैलने वाली बीमारी के 80 प्रतिशत मामलों के जिम्मेदार केवल यही लोग होते हैं (Photo-pixabay)




वैज्ञानिकों का अनुमान है कि किसी भी फैलने वाली बीमारी के 80 प्रतिशत मामलों के जिम्मेदार केवल यही लोग होते हैं. ऐसे में कैसे पक्का हो कि कोई मरीज कितना संक्रामक है? फिलहाल खुद एक्सपर्ट ही कोरोना के बारे में ज्यादा से ज्यादा समझने की कोशिश कर रहे हैं. हालांकि एक औसत निकालते हुए माना गया कि 2 या 3 लोगों को बीमार करने की जगह अगर किसी से लगभग 10 लोग संक्रमण की चपेट में आएं तो उसे सुपर स्प्रेडर माना जा सकता है.
ये भी पढ़ें: जानिए, नेपाल के PM ओली की संपत्ति में चीन का कितना योगदान है

इसपर लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन ने और भी विस्तार से बताया है. इसके इपिडेमियोलॉजिस्ट एडम कुर्चेस्की कहते हैं कि कोरोना के मामले में देखा जा रहा है कि 10 प्रतिशत मरीजों से ही 80 प्रतिशत संक्रमण फैलता है. इसका मतलब ये है कि बाकी मरीजों से संक्रमण फैलने का डर काफी कम रहता है. अभी इनकी रिपोर्ट पियर-ग्रुप रिव्यू के लिए गई हुई है.

ये भी पढ़ें: कितनी घातक है अमेरिकी असॉल्ट राइफल, जो अब दुश्मन के हौसले करेगी पस्त 

हालांकि इस बात की जानकारी नहीं मिल सकी है कि कुछ लोगों से बीमारी तेजी से क्यों फैलती है. इस बारे में वैज्ञानिकों का अनुमान है कि कुछ के शरीर में वायरस तेजी से बढ़ते हैं. इससे उनमें वायरल लोड काफी ज्यादा हो जाता है. तब ऐसा मुमकिन है कि उनके सांस लेने पर हर बार काफी ज्यादा वायरस फैलते हों. ऐसे में संपर्क में आने वालों के बीमार होने का डर ज्यादा रहता है. इसी तरह से अगर संपर्क में आने वाले लोगों की इम्युनिटी कमजोर है तो उनके तुरंत बीमार होने का खतरा रहता है.

संपर्क में आने वाले लोगों की इम्युनिटी कमजोर है तो उनके तुरंत बीमार होने का खतरा रहता है (Photo-pixabay)


बीते दिनों सुपर सप्रेडर्स के कई मामले सामने आए. जैसे दक्षिण कोरिया के एक चर्च में काम करने वाली कोरोना मरीज ने लगभग 5 हजार लोगों को संक्रमित किया है. मरीज की पहचान गुप्त रखने के लिए उसे पेशेंट 31 नाम दिया गया है. चर्च का नाम Shincheonji Church of Jesus है. 61 साल की महिला इसी चर्च की सदस्य थी. चर्च में लगे CCTV कैमरा से ये बात सामने आई. मामला सामने आने पर Seoul Metropolitan Government ने उस महिला के अलावा चर्च के खिलाफ हत्या की कोशिश की फॉर्मल शिकायत दर्ज करवाई. मामला अभी पेंडिंग है.

ये भी पढ़ें: कौन है वो शाही परिवार, जो बना देश के सबसे दौलतमंद मंदिर का रखवाला 

इसी तरह का मामला इटली में भी दिखा, जिसके मरीज का नाम गुप्त रखा गया है ताकि उसकी सुरक्षा को कोई खतरा न हो. माना जा रहा है कि उस अकेले शख्स से कोरोना का संक्रमण लगभग 200 लोगों तक फैला. भारत के तमिलनाडु सब्जी बाजार से भी ऐसे कई मामले सामने आए. अब भी उस राज्य की हालत बेहतर नहीं हो सकी है. माना जा रहा है कि कोयाम्बेदु मार्केट से ही संक्रमण तेजी से फैला.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading