Home /News /knowledge /

हेलमेट नहीं पहनने की वजह से रोज हो रही हैं इतनी मौतें

हेलमेट नहीं पहनने की वजह से रोज हो रही हैं इतनी मौतें

नए एक्ट में हेलमेट नहीं पहनने पर एक हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान है

नए एक्ट में हेलमेट नहीं पहनने पर एक हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान है

नया मोटर व्हीकल एक्ट (Motor Vehicle Act) लागू होने के बाद हेलमेट (helmet) नहीं पहनने की वजह से एक हजार रुपए के चालान (challan) का प्रावधान है. जुर्माना तो बढ़ा दिया गया है लेकिन लोगों को ये भी सोचना चाहिए कि सिर्फ हेलमेट नहीं पहनने की वजह से रोज एक्सीडेंट में कई लोग मारे जा रहे हैं..

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नया मोटर व्हीकल एक्ट (Motor Vehicle Act) लागू होने के बाद ट्रैफिक नियमों (traffic rules) के उल्लंघन पर मोटा जुर्माना (fine) वसूला जा रहा है. इसकी वजह से नए एक्ट की आलोचना भी हो रही है. कई राज्यों ने इसे अपने यहां लागू करने से इनकार तक दिया है. नए एक्ट में बाइक सवार के हेलमेट (helmet) नहीं पहनने पर एक हजार रुपए जुर्माना का प्रावधान है. इसके साथ ही तीन महीने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस भी कैंसिल किया जा सकता है.

    लोगों को इस बात को समझना चाहिए कि ट्रैफिक नियमों का पालन उनके लिए ही अच्छा है. ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन की वजह से रोज कई लोगों की जान जाती है. सिर्फ हेलमेट नहीं पहनने की वजह से कई लोगों की रोज मौत होती है. अगर हजार रुपए के चालान से बचने के लिए भी अगर लोग हेलमेट पहनना शुरू कर देते हैं तो कई जानें बच सकती हैं. हेलमेट नहीं पहनने की वजह से होने वाली मौतों का आंकड़ा हैरान करने वाला है.

    हेलमेट नहीं पहनने की वजह से रोज होती हैं 98 मौतें

    2017 के एक आंकड़े के मुताबिक भारत में हेलमेट नहीं पहनने की वजह से रोज 98 लोगों की मौत होती है. ये आंकड़ा हैरान करने वाला है. आप सोच सकते हैं कि हेलमेट लगाना कितना जरूरी है. सिर्फ हेलमेट की वजह से 98 लोगों की रोज रोड एक्सीडेंट में मौत हो रही है.

    इसी तरह का आंकड़ा सीट बेल्ट नहीं बांधने वाले लोगों का है. 2017 के आंकड़े के मुताबिक सीट बेल्ट नहीं बांधने की वजह से रोज 79 लोगों की जान जा रही है. कार चलाते वक्त सीट बेल्ट बांधना बहुत ही मामूली सी बात लगती है. लेकिन सोचिए छोटी सी लापरवाही रोज 79 लोगों की जान ले रही है.

    helmet death data new motor vehicle act 2019
    हेलमेट नहीं पहनने से रोज होती हैं कई मौैतें


    इसी तरह का आंकड़ा बाइक चलाते वक्त मोबाइल फोन पर बात करने वाले लोगों का है. 2017 के आंकड़े के मुताबिक मोबाइल फोन पर बात करते हुए ड्राइव करने की वजह से रोज 9 लोगों की जान जाती है. ये आंकड़ा कई राज्यों की पुलिस से जुटाए गए डाटा पर आधारित है.

    2016 में सिर्फ रोड एक्सीडेंट में 1.51 लाख लोगों की मौत

    एक आंकड़े के मुताबिक 2016 में रोड एक्सीडेंट की वजह से कुल 1.51 लाख लोग मारे गए. 2017 में इसमें मामूली सुधार हुआ. 2017 में रोड एक्सीडेंट में कुल 1.48 लाख लोग मारे गए. हालांकि इस दौरान सिर्फ सेफ्टी वजहों से मारे जाने वालों लोगों की संख्या बढ़ी.

    2017 में सिर्फ हेलमेट नहीं पहनने की वजह से कुल 35,975 लोग मारे गए जबकि 36,678 लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए. इसी तरह से सीट बेल्ट नहीं बांधने की वजह से कुल 28,896 लोगों की मौत हुई जबकि 33,264 लोग गंभीर तौर पर जख्मी हुए. मोबाइल फोन पर बात करते हुए ड्राइव करने की वजह से कुल 3,172 लोगों की जान गई जबकि 3,668 लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए.

    2016 की तुलना में 2017 में हेलमेट नहीं पहनने की वजह से हुई मौतों में बहुत ज्यादा इजाफा देखा गया. 2016 में हेलमेट नहीं पहनने की वजह से 10,135 लोगों की मौत दर्ज की गई. वहीं 2017 में ये आंकड़ा बढ़कर 36,000 हो गया. तमिलनाडु में सबसे ज्यादा मौतें दर्ज की गई. यहां हेलमेट नहीं पहनने की वजह से 5,211 लोगों की जान गई. यूपी दूसरे स्थान पर रहा और यहां 4,406 मौतें दर्ज की गई. 3,183 मौतों के साथ मध्य प्रदेश तीसरे स्थान पर रहा.

    helmet death data new motor vehicle act 2019
    हेलमेट नहीं पहनने पर सबसे ज्यादा तमिलनाडु में मौतें होती हैं


    42 फीसदी मामलों में बाइक पर पीछे बैठने वाले की मौत हुई

    इस मामले में तमिलनाडु का हाल सबसे बुरा है. इस साल सिर्फ पहले तीन महीनों में ही तमिलनाडु में रोड एक्सीडेंट में 978 बाइकर्स की मौत हुई. इसमें 508 मौतें हेलमेट नहीं पहनने की वजह से हुई. यानी बाइक एक्सीडेंट में होने वाली मौतों के 52 फीसदी मामले में हेलमेट न पहनना वजह बना. तमिलनाडु के कांचीपुरम में सबसे ज्यादा 44 मौतें हुईं.

    2018 में तमिलनाडु में टू व्हीलर के एक्सीडेंट के 26,470 मामले सामने आए, इसमें 3,965 लोगों की मौत दर्ज की गई. 50 फीसदी मौतें हेलमेट न पहनने की वजह से हुईं.

    बिहार में सिर्फ 38 फीसदी बाइक चलाने वाले पहनते हैं हेलमेट

    हेलमेट को लेकर बिहार से एक दिलचस्प आंकड़ा सामने आया. बिहार में सिर्फ 38 फीसदी बाइक चलाने वाले हेलमेट पहनते हैं. नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद अब ट्रैफिक पुलिस इस बारे में सख्ती दिखा रही है. ट्रैफिक पुलिस इस आंकड़े को सुधारने के प्रयास कर रही है.

    पुणे से भी ऐसा ही परेशान करने वाला आंकड़ा सामने आया. पुणे में पिछले 5 साल में एक हजार बाइकर्स की मौत रोड एक्सीडेंट में हुई. इनमें से सिर्फ 3 बाइक सवार ने हेलमेट लगा रखी थी. 2018 में रोड एक्सीडेंट में 182 बाइकर्स की मौत हुई. इसमें सिर्फ एक ने हेलमेट लगा रखी थी. 2017 में कुल 212 बाइक सवार रोड एक्सीडेंट में मारे गए. इनमें से किसी ने हेलमेट नहीं पहनी थी. इसी तरह से 2016 में 185 टू व्हीलर पर सवार लोगों की मौत हुई, किसी ने हेलमेट नहीं लगा रखी थी.

    चेन्नई पुलिस ने इसी तरह का आंकड़ा जारी किया है. 2018 में चेन्नई में हुए रोड एक्सीडेंट में कुल 792 बाइक सवार की मौत हुई. इसमें 769 यानी 98 फीसदी मोटरसाइकिल सवार ने हेलमेट नहीं लगा रखी थी. अगर उन्होंने हेलमेट लगा रखी होती तो उनकी जान बच सकती थी.

    ये भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट में SC-ST एक्ट पर कानूनी जंग अब भी क्यों जारी है?

    ऑड-ईवन स्कीम से कितना कम होता है प्रदूषण, जानें क्या कहती है स्टडी

    यौन शोषण के आरोप में घिरे स्वामी चिन्मयानंद का पुराना रिकॉर्ड भी दागदार

    ट्रैफिक पुलिस इस हिसाब से काट रही है 2 लाख रुपए तक के चालान

    हिंदू-मुस्लिम जोड़े की शादी क्यों नहीं स्वीकार कर पाते लोग?

    Tags: Driver's negligence, Motor vehicles act, Police, Road accident, Traffic Department

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर