लाइव टीवी

मोबाइल फोन यूजर्स के लिए इन देशों की ट्रैफिक पुलिस ने बनाए हैं अजब-गजब नियम

News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 3:20 PM IST
मोबाइल फोन यूजर्स के लिए इन देशों की ट्रैफिक पुलिस ने बनाए हैं अजब-गजब नियम
मोबाइल फोन यूजर्स के लिए कई देशों ने अजीबोगरीब नियम बना रखे हैं

नए मोटर व्हीकल एक्ट (Motor Vehicle Act) में मोबाइल फोन पर बात करते हुए ड्राइव करने पर 5 हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान है. दुनिया के कई देशों की ट्रैफिक पुलिस ने मोबाइल फोन यूजर्स के लिए अजग गजब नियम बना रखे हैं..

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2019, 3:20 PM IST
  • Share this:
1 सितंबर से नया मोटर व्हीकल एक्ट (Motor Vehicle Act) लागू है. इस एक्ट के लागू होने के बाद ट्रैफिक के नियम (traffic rules) काफी कड़े कर दिए गए हैं. ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर भारीभरकम जुर्माना (fine) वसूला जा रहा है. नए मोटर व्हीकल एक्ट में मोबाइल पर बात करते हुए ड्राइव करने पर भी जुर्माना बढ़ाया गया है. मोबाइल पर बात करते हुए ड्राइव करते हुए पकड़े जाने पर 5 हजार का चालान हो सकता है.

मोबाइल के चलन में आने के बाद ये सबसे बड़ी समस्या बन गई है. लोग ड्राइव करते हुए मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं जबकि उससे ध्यान बंटता है और एक्सीडेंट का खतरा रहता है. पुराने मोटर व्हीकल एक्ट में मोबाइल फोन पर बात करते हुए ड्राइव करने पर एक हजार रुपए का जुर्माना था, जो अब 5गुना बढ़ाकर 5 हजार रुपए कर दिया गया है.

यहां तक की हैंड्सफ्री और ब्लूटूथ का इस्तेमाल कर फोन पर बात करते हुए पकड़े जाने पर भी जुर्माना देना होगा. नए एक्ट में पहले से ज्यादा सख्ती बरती गई है.

ड्राइविंग के वक्त मोबाइल फोन का इस्तेमाल करना बड़ी समस्या बन चुकी है. दुनिया के कोने-कोने में ट्रैफिक पुलिस को इस समस्या से निपटना पड़ता है. इसको लेकर कई देशों ने अजब-गजब कानून तक बना रखे हैं.

सिंगापुर का उदाहरण ही ले लीजिए. सिंगापुर में लोगों को पैदल चलते वक्त स्मार्टफोन से दूर रखने के लिए सड़कों पर जगह-जगह पीले कलर की स्टीकर लगाई गई है. पीले स्टीकर पर लिखा है 'लुक अप' ( Look Up ) और स्मार्टफोन की तस्वीर को क्रॉस किया गया है. आमतौर पर लोग अपने स्मार्टफोन को झुक कर देखते रहते हैं. ऐसे में सड़क पर लगा स्टीकर दिख जाता है. सिंगापुर में पैदल चलते वक्त कम से कम स्मार्टफोन का इस्तेमाल न करने के प्रति जागरुक किया जा रहा है.

ट्रैफिक सिग्नल पर भी पोस्टर लगाए गए हैं, जिनपर रोड क्रॉस करते वक्त स्मार्टफोन का इस्तेमाल न करने की सलाह लिखी होती है. सिंगापुर पुलिस की मदद से इस मूवमेंट को अंजाम दिया जा रहा है. सिंगापुर की तरह कई और देश भी हैं, जहां स्मार्टफोन में घुसे रहने की लोगों की बुरी आदत छुड़ाई जा रही है.

strange rule for smartphone users ledger beam throwing alert mobile phone addiction smartphone zombies problems in different countries
स्मार्टफोन यूजर्स को अलर्ट करने वाली लाइट्स

Loading...

साउथ कोरिया में लेजर बीम फेंककर दी जाती है चेतावनी
साउथ कोरिया में, जहां के लोग सबसे ज्यादा स्मार्टफोन में घुसे रहते हैं. वहां सड़कों पर जलने-बुझने वाली लाइट्स लगाई गई. ताकि लोग लाइट्स को देखकर रोड क्रॉस करते वक्त सावधान हो जाएं और अपनी नजरें स्मार्टफोन से हटाकर सड़क पर रखें. यहां फुटपाथ पर लाल-पीले और ब्लू एलईडी लाइट्स लगाए गए हैं. सड़क के किनारे लगे खंभों पर लेजर लाइट्स लगाई गई है. जिसके जरिए चलते वक्त स्मार्टफोन यूज़ करने वालों को अलर्ट किया जाता है. एक ऐप के जरिए भी अलर्ट किया जाता है कि आप ट्रैफिक वाले एरिया में हैं, फोन जेब में रखें. ड्राइवर्स को फ्लैशिंग लाइट्स के जरिए अलर्ट किया जाता है.

सिंगापुर की तरह तेल अवीव में भी सड़कों किनारे फुटपाथ पर स्पेशल एलईडी लाइट्स लगाई गई है. ये लाइट्स लोगों को स्मार्टफोन से उनका ध्यान भंग करते हैं. मार्च में यहां इस तरह का पायलट प्रोजेक्ट शुरू हुआ है.

नीदरलैंड में सड़कों पर ट्रैफिक लाइट्स लगाए गए हैं. ताकि लोग चलते वक्त स्मार्टफोन से आंखें हटाकर सड़क पर ध्यान दें. ये लाइट्स ट्रैफिक के हिसाब से ग्रीन या रेड होते रहते हैं.

जर्मनी में सड़कों के किनारे ग्राउंड ट्रैफिक लाइट्स लगाए गए हैं. इस तरह की लाइट्स रेलवे स्टेशन के आसपास भी लगाए गए हैं. यहां नियम तोड़ने वालों को भारी जुर्माना भी चुकाना पड़ता है.

strange rule for smartphone users ledger beam throwing alert mobile phone addiction smartphone zombies problems in different countries
स्मार्टफोन यूजर्स को अलर्ट करने वाली लाइट्स


बैंकॉक में बना है पहला मोबाइल फोन लेन
बैंकॉक के एक इलाके में बाकायदा पहला मोबाइल फोन लेन बनाया गया है. इस फुटपाथ को खासतौर से चलते वक्त मोबाइल फोन यूज़ करने वालों के लिए बनाया गया है. इस फुटपाथ को आराम से स्मार्टफोन पर नजरे गड़ाए रखकर पार किया जा सकता है. इसे खासतौर पर स्टूडेंट्स के लिए बनाया गया है, ताकि वो अपने स्कूल-कॉलेज जाते वक्त रास्ते में स्मार्टफोन पर स्टडी मैटेरियल भी पढ़ते जाएं.

500 मीटर लंबा फुटपाथ एक तरफ नॉन फोन यूजर्स के लिए दूसरा फोन यूजर्स के लिए. चीन में भी इसी तरह का एक फुटपाथ बनाया गया है. जहां पर स्मार्टफोन चलाते हुए पैदल चला जा सकता है.

ये भी पढ़ें: एक हजार के ट्रैफिक चालान से रोज बच सकती हैं इतनी जानें

सुप्रीम कोर्ट में SC-ST एक्ट पर कानूनी जंग अब भी क्यों जारी है?

ऑड-ईवन स्कीम से कितना कम होता है प्रदूषण, जानें क्या कहती है स्टडी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 14, 2019, 3:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...