इस नदी में बहता है 5 रंग का पानी, दुनियाभर से देखने आते हैं लोग

इस नदी में बहता है 5 रंग का पानी, दुनियाभर से देखने आते हैं लोग
इस नदी को लिक्विड रेनबो के नाम से भी जाना जाता है.

पांच चटख रंगों पीले, हरे, नीले, काले और सुर्ख लाल रंग नदी के पानी में बिखरे होने की वजह से संसार की खूबसूरत नदी का खिताब कैनो क्रिस्टेल्स के मिला है. इसे लिक्विड रेनबो (The liquid rainbow) के नाम से भी जाना जाता है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नहीं, नहीं आप बिल्कुल नशे में नहीं हैं, कोलंबिया की पांच रंगों वाली कैनो क्रिस्टेल्स (Caño Cristales)नदी कोई भ्रम नहीं बल्कि एक खूबसूरत सच्चाई है. नेशनल जियोग्राफी ने इसे गार्डन ऑफ ईडन (Garden of Eden) यानी देवता का बागीचा नाम से नवाजा है. कोलंबिया (Colombia)के एकांत में मौजूद शेरेनिया डे ला मैकरिना पर्वत श्रंखला (Serranía de la Macarena) के बीच में कैनो क्रिस्टेल्स नाम की एक नदी बहती है. यह नदी केवल कोलंबिया वासियों को ही नहीं बल्कि दुनिया भर के लोगों को हैरान कर देती है.

जुलाई से लेकर नवंबर तक यहां पर्यटकों का मेला लगा रहता है. वजह इन महीनों में इस नदी में उभर आने वाले पांच रंग हैं. यह नदी किसी खूबसूरत पेंटिंग की तरह अपने पांच रंगों में बहती है. पांच चटख रंगों पीले, हरे, नीले, काले और सुर्ख लाल रंग नदी के पानी में बिखरे होने की वजह से संसार की खूबसूरत नदी का खिताब कैनो क्रिस्टेल्स के मिला है. इसे लिक्विड रेनबो (The liquid rainbow) के नाम से भी जाना जाता है.

इस नदी को लिक्विड रेनबो के नाम से भी जाना जाता है.



इस नदी के आसपास पर्वत श्रृंखला में 420 प्रजातियों के पक्षी, 10 प्रकार के स्तनधारी, 43 प्रकार के सरीसृप वर्ग के जीव और 8 प्रकार के प्राइमेंट्स पाए जाते हैं. पक्षियों की चहचाहट जगह के माहौल को और सुकून दायक बनाती है.



क्या है रंगों का राज
इस नदी में सबसे ज्यादा दिखाई देने वाला रंग लाल है. इसकी वजह यहां मैकेरिनिया क्लेविगेरा नाम के एक खास किस्म के पौधे का नदी की सतह में होना है. जैसे ही इस पौधे पर सूरज का प्रकाश पड़ता है इसके ऊपर की धारा सूर्ख लाल हो उठती है. धीमी और तेज रोशनी के आधार पर इस पौधे का रग नदी के पानी पर झलकता है. बैंगनी से लेकर चटख लाल रंग के बीच आने वाले सभी मिलावटी रंग दिन के अलग-अलग समय दिखाई पड़ते हैं.

इसके अलावा अन्य चार रंग भी ऐसे ही अलग-अलग प्रभाव की वजह से दिखाई पड़ते हैं. जैसे नदी का पानी स्वाभाविक रूप से नीला है. पानी के नीचे काली चट्टानें हैं तो हरी बालू और पीले शैवालों (एक तरह के सजीव पौधे हैं) की वजह से नदी सूरज की किरणों के साथ मिलकर अलग-अलग रंगों में दिखाई देती है. उस पर ऊंचाई पर मौजूद अलग-अलग आकार के झरनों का नदी में गिरना खूबसूरती कई गुना बढ़ा देता है. यकीन मानिए नदी देखकर कुछ सेकेंड तो आपकी सांस थम जाएगी.



नदी की गहराई नाप सकते हैं आप!
नदी को देखने आने वाले लोग इस खूबसूरती को केवल दूर से एहसास नहीं करना चाहते लिहाजा इसमें स्वीमिंग करने की भी व्यवस्था है. इस नदी के तल तक जाने के लिए भी यहां की सरकार ने व्यवस्था की है. इस नदी की एक दूसरी खासियत यह है कि इसमें कोई भी जंगली जीव-जंतु नहीं है.

इसकी वजह नदी के निचले हिस्से में ठोस चट्टानों का होना है. दरअसल जंगली जीव-जंतुओं के लिए इन्हीं चट्टानों की वजह से यहां जीवन संभव नहीं है. 62 मील लंबी और 65 मील चौड़ी यह नदी फोटोग्राफर्स के लिए सबसे पसंददीदा जगह है. हफ्ताभर भी नदी के किनारे गुजारने के बाद आपका मन बार-बार यहां रुकने को करेगा.

ये भी पढ़ें :-

इम्यूनिटी, सोशल डिस्टेंसिंग और आत्मनिर्भर भारत : सबका जवाब है 'साइकिल'

हमेशा हमारा रहा है अक्साई चीन! दुर्लभ नक्शे कहते हैं भारत चीन सीमा
First published: June 4, 2020, 8:06 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading