• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • ब्रह्माण्ड की शुरुआत के समय में भी थी Dark Energy की मौजूदगी- शोध

ब्रह्माण्ड की शुरुआत के समय में भी थी Dark Energy की मौजूदगी- शोध

शोधकर्ताओं ने ऐसी विशिष्ट ऊर्जा के संकेत पाए हैं जिसके डार्क एनर्जी (Dark Energy) होने की प्रबल संभावना है.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

शोधकर्ताओं ने ऐसी विशिष्ट ऊर्जा के संकेत पाए हैं जिसके डार्क एनर्जी (Dark Energy) होने की प्रबल संभावना है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

ब्रह्माण्ड (Universe) के विस्तार (Expansion) के बारे में शोधकर्ताओं का एक नए प्रयोग से अप्रत्यशित जानकारी मिली है जो विस्तार को त्वरण देने के कारक माने जाने वाले डार्क ऊर्जा (Dark Energy)) की हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    खगोल विज्ञान और अंतरिक्ष विज्ञान (Cosmology) की उलझनों के बीच एक बड़ा सवाल है कि ब्रह्माण्ड (Universe) की शुरुआत कैसे हुई. हमारे वैज्ञानिक ग्रहों और पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के बारे में काफी कुछ जानते हैं, लेकिन ब्रह्माण्ड की शुरुआत के बारे में काफी कम जानकारी है. अंतरिक्ष विज्ञानियों ने एक नई परिघटना की जानकारी हासिल की है जो ब्रह्माण्ड के विस्तार (Expansion of Universe) के पीछे के कारक डार्क ऊर्जा के बारे में बता सकती है. डार्क ऊर्जा के बारे में वैज्ञानिकों को कई संकेत मिले हैं जिससे उसके अस्तित्व की पुष्टि हो सकती है.

    अंतरिक्ष विज्ञानियों का अनुमान है कि यह विशिष्ट प्रकार की ऊर्जा बिग बैंग की घटना के समय से ही मौजूद रही होगा. यह उस विस्फोट के 3 लाख साल के बाद का समय रहा होगा. प्रिप्रिंट में प्रकाशित अध्ययनों की शृंखला में शोधकर्ताओं ने चिली के आटाकामा कॉस्मोलॉजी टेलीस्कोप के आंकड़ों में इस विशिष्ठ ऊर्जा को डार्क एनर्जी के रूप में पहचाना है.

    शुरुआती ब्रह्माण्ड पर नजर
    ये आंकड़े साल 2013 से लेकर 2016 के  बीच जमा किए गए थे. ये शुरुआती ब्रह्माण्ड पर रोशनी डाल सकते है. शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है कि यह डार्क एनर्जी का निर्णायक प्रमाण नहीं हैं और इस बारे में और शोध की जरूरत है. शोधकर्ताओं का मानना है कि शुरुआती डार्क एनर्जी आज की डार्क एनर्जी की जितनी ताकतवर नहीं थी कि वह ब्रह्माण्ड को विस्तार को त्वरण दे सके.

    और भी पुराना हो सकता है ब्रह्माण्ड
    शोधकर्ता यह भी मानता है कि शुरुआती डार्क एनर्जी के कारण ही बिगबैंग के बाद बना प्लाज्मा तेजी से ठंडा हो पाया होगा. अंतरिक्ष विज्ञानियों को लगता है कि इन टेलिस्कोप के इन अवलोकनों को समझ कर शुरुआती डार्क एनर्जी वाले 12.4 अरब साल पुराने ब्रह्माण्ड की जानकारी हासिल की जा सकती है. यह ब्रह्माण्ड अभी 13. 8 अरब साल से 11 प्रतिशत पहले का हो सकता है.

    Space, Universe, Big Bang, Expansion of Universe, Dark Energy,

    माना जा रहा है कि डार्क एनर्जी एनर्जी (Dark Energy) ब्रह्माण्ड की शुरुआत में ही मौजूद थी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    विस्तार का त्वरण
    एसीटी शोधपत्र के सहलेखक कोलिन हिल ने नेचर को बताया कि यदि यह सच हुआ, यदि शुरुआती ब्रह्माण्ड में डार्क एनर्जी थी, तो हमें मजबूत संकेत दिखना चाहिए. ब्रह्माण्ड का वर्तमान विस्तार जितना मानव मॉडल अनुमान लगा रहे हैं उससे पांच प्रतिशत तेज हो सकता है जो आज के खगोलविद गणना कर रहे हैं.

    जानिए क्या होती हैं अतिविसरित गैलेक्सी, क्यों कठिन इनमें से ‘बुझी UDG’ खोजना

    क्या है डार्क एनर्जी
    शुरु में माना गया था कि ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है. लेकिन खगोलविदों ने सोचा था कि गुरुत्व इस विस्तार की गति को कम कर देगा. लेकिन हबल टेलीस्कोप के अवलोकनों ने बताया कि यह विस्तार गुरुत्व के कारण धीमा नहीं हो रहा है, बल्कि इस त्वरण मिल रहा है यानि इसके विस्तार की दर तेज हो रही है. शोधकर्ता जानते हैं कि एक रहस्यमयी बल इसके विस्तार दे रहा है जिसे बाद में डार्क एनर्जी कहा गया.

    Space, Universe, Big Bang, Expansion of Universe, Dark Energy,

    ब्रह्माण्ड के विस्तार को त्वरण देने में डार्क एनर्जी (Dark Energy) की ही भूमिका बताई जाती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    और अल्बर्ट आइंस्टीन
    अल्बर्ट आइंस्टीन पहले ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने इस बात को वैज्ञानिक रूप से माना था कि अंतरिक्ष खाली नहीं है और यह भी संभाव है कि और ज्यादा अंतरिक्ष का अस्तित्व आ सकता है.  उनके गुरुत्व के सिद्धांत ने प्रस्ताव दिया था कि अंतरिक्ष खुद भी अपनी ऊर्जा रखा रखता है. चूंकि यह ऊर्जा अंतरिक्ष का ही गुण है, इसलिए इसके विस्तार होने पर यह विरल नहीं होगा. और ज्यादा अंतरिक्ष आने पर और उसमें और ज्यादा ऊर्जा आती जाएगी.

    Black Hole डाल सकते हैं अपने वातावरण पर दबाव- शोध में हुआ बड़ा खुलासा

    नासा के मुताबिक हम यह जानते है कि डार्क एनर्जी कितनी है क्योंकि हमें यह जानते  हैं कि वह ब्रह्माण्ड के विस्तार पर कैसा असर डाल रही है. इसके अलावा यह पूरी तरह से रहस्य है. नासा का कहना है किब्रह्माण्ड का करीब 68 प्रतिशत हिस्सा डार्क एनर्जी है. डार्क मैटर करीब 27 प्रतिशत है उसके बाद बचा हुआ सबकुछ, पूरी पृथ्वी, सूर्य और ब्रह्माण्ड के दिखने वाले अन्य पिंड सामान्य पादर्थ से बने हैं. जो ब्रह्माण्ड का 5 प्रतिशत हिस्सा हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज