गुमशुदगी के उन 15 दिनों में क्या हुआ था चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग के साथ

गुमशुदगी के उन 15 दिनों में क्या हुआ था चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग के साथ
चीन के प्रेसिडेंट शी जिनपिंग (Xi Jinping) एकाएक 2 हफ्तों के लिए गायब हो गए थे

चीन के प्रेसिडेंट शी जिनपिंग एकाएक 2 हफ्तों के लिए गायब (China President Xi Jinping disappearance) हो गए थे. उनके साथ के लोगों और मीडिया तक को पूरी कोशिश के बाद भी पता नहीं चल सका कि वे कहां गायब रहे.  

  • Share this:
भारत-चीन की लद्दाख सीमा (Indo-China Ladakh Border) पर तनाव गहरा चुका है. सोमवार की रात को भारत और चीनी सैनिकों के बीच गलवान घाटी के पास हिंसक झड़प (India-China Clash) हुई. इस घटना में भारत के कुल 20 जवान शहीद हो गए. कहा जा रहा है कि दूसरे देश के सैनिक भी मारे गए हैं लेकिन चीन की ओर से इस तरह की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है. ये पहला मौका नहीं है. चीन कई दूसरे कम्युनिस्ट देशों (communist countries) की तरह अपना रहस्य बनाए रखता है. जैसे आज से लगभग 8 साल पहले तत्कालीन उप-राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) दो हफ्तों के लिए गायब हो गए. किसी को कोई खबर नहीं थी और पार्टी के लोग भी कुछ कहने को तैयार नहीं थे.

चीन के सोशल मीडिया पर बात यहां तक बढ़ गई कि जिनपिंग की हत्या हो चुकी है या वे अगवा किए जा चुके हैं. कुछ कयास ये भी थे कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा है. तब दुनिया के दूसरे देशों में भी बड़ा तहलका मचा था क्योंकि जिनपिंग तब चीन के काफी महत्वपूर्ण व्यक्ति माने जाने लगे थे.

गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से हुई झड़प में भारत के कमांडिंग अफसर समेत 20 जवान शहीद हो चुके हैं (Photo- PTI)




ये 31 अगस्त 2012 की बात है. इसके शुरुआती हफ्ते में जिनपिंग ने एक मीटिंग रखी. ये मीटिंग red second generation के लिए थी. यानी वे लोग जिनके माता-पिता या परिवार के किसी वरिष्ठ सदस्य की पार्टी में अहम भूमिका रह चुकी हो. उस मीटिंग में लगभग सारे ही लोग 30 से ऊपर की उम्र के थे जो पार्टी के प्रति अपनी वफादारी साबित करना चाहते थे और पार्टी में जगह बनाना चाहते थे. इन्हें एक तरह से खुद को फ्यूचर लीडर की तरह तैयार होना था. पार्टी में जगह बनाने के लिए इन्हीं लोगों के साथ जिनपिंग की मीटिंग चल रही थी.
अचानक मीटिंग में लोग एक-दूसरे का विरोध करने लगे. बात बहस से झड़प में बदली और बढ़ते-बढ़ते लोग हिंसक हो गए. कुर्सियां और गिलास फेंके जाने लगे. जिनपिंग इस बीच लोगों को शांत करने की कोशिश करते रहे. जब माहौल ज्यादा गरमाने लगा तो वो किसी तरह वे बाहर निकले. इसके बाद से वे गायब हो गए.

इस बीच अफवाहें तैरने लगीं. किसी ने कहा कि मीटिंग में उनपर भी कुर्सी से चोट आई और वे घायल हो गए. किसी ने कहा कि चीन में ही उनके विरोधियों ने उनकी हत्या कर दी है. जो भी था, मामला गंभीर माना जा रहा था क्योंकि तब 59 साल के जिनपिंग में काफी अहम मीटिंगों में भी हिस्सा नहीं लिया था. Secretary of State हिलेरी क्लिंटन और सिंगापुर के पीएम से भी मीटिंग अचानक टालनी पड़ी क्योंकि जिनपिंग का कहीं पता नहीं था. इस बीच कई सारी कंस्पिरेसी थ्योरीज आईं.

दूसरे देशों में भी बड़ा तहलका मचा था क्योंकि जिनपिंग तब चीन के काफी महत्वपूर्ण व्यक्ति माने जाने लगे थे


यूनिवर्सिटी ऑफ नॉटिंघम में China Police Research Institute के प्रोफेसर स्टीव सैंग मानते रहे कि उन्हें कोई गंभीर बीमारी थी, जिसके बारे में वे किसी को पता नहीं चलने देना चाहते थे और इसलिए गायब रहे. हालांकि इंटरनेशनल जर्नलिस्ट भी काफी कयास लगाते रहे. जैसे बीबीसी के पत्रकार डेमियन ग्रामेटिकस ने कहा- क्या जिनपिंग बीमार हैं? क्या उन्हें दिल का दौरा पड़ा है? क्या वो खेलते हुए घायल हो गए हैं? क्या वो बहुत ज्यादा व्यस्त हैं. या फिर चीन में राजनेताओं के बीच कोई गंदा पावर गेम चल रहा है. बता दें कि पत्रकार की कही ये सारी बातें चीन के सोशल मीडिया पर चल रही थीं.

एनपीआर की रिपोर्ट के मुताबिक रॉयटर्स ने अंदाजा लगाया कि तैरते हुए जिनपिंग की पीठ में कोई चोट लगी होगी. टाइम ने कहा कि शायद किसी दुश्मन ने उनपर हमला कर दिया होगा. ये सारी अंदाजे-अनुमान चलते रहे. चीन के सोशल मीडिया पर सबसे बड़ी अफवाह ये थी कि जिनपिंग को कोई ऐसी बीमारी हो गई है, जिसके कारण वे टीवी पर या लोगों के सामने नहीं आ सकते.

हालांकि ठीक 14 दिनों बाद जिनपिंग दोबारा सामने आ गए. इतने सालों बाद भी ये रहस्य है कि वे कहां और क्यों गायब रहे.

ये भी पढ़ें:

इस दवा से लगभग 3350 रुपयों में कोरोना के गंभीर मरीज की बचाई जा सकेगी जान

इस श्रेणी के कोरोना मरीजों में जान का खतरा 12 गुना तक बढ़ा

एक राष्ट्रपति ऐसा भी जो कोरोना में मौत को नियति मानता है

क्या है वो न्यूक्लिक टेस्ट जो अब चीन में हो रहा है

ब्रिटेन की वो लाइब्रेरी, जहां 6000 से ज्यादा जानलेवा बैक्टीरिया जिंदा रखे हुए हैं

जानिए, ताकत की दवा के लिए चीन किस बेरहमी से मार रहा है गधों को

कौन थे सफेद मास्क पहने वे लोग, जो रात में घूमकर अश्वेतों का रेप और कत्ल करते?

किस खुफिया जगह पर खुलती है वाइट हाउस की सीक्रेट सुरंग 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading