• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • वो दूसरा शख्स जो गोडसे के साथ गांधी की हत्या में फांसी पर चढ़ा था

वो दूसरा शख्स जो गोडसे के साथ गांधी की हत्या में फांसी पर चढ़ा था

नारायण दत्तात्रेय आप्टे (फाइल फोटो)

नारायण दत्तात्रेय आप्टे (फाइल फोटो)

अदालत ने जब गांधीजी की हत्या के मामले में सजा सुनाई तो नाथूराम गोडसे के अलावा एक और शख्स को फांसी की सजा हुई. ये था नारायण आप्टे, कोर्ट ने उसको इस हत्या में भागीदार माना था

  • Share this:
महात्मा गांधी के हत्यारे के रूप में नाथूराम गोडसे का नाम तो पूरी दुनिया जानती है लेकिन उस शख्स को शायद ही कोई जानने की कोशिश करता है, जिसे गोडसे के साथ गांधी की हत्या के लिए फांसी की सजा मिली थी, जो गोडसे के साथ ही अंबाला जेल में फांसी पर लटकाया गया था.

गोडसे और आप्टे को एक साथ ही 15 नवंबर 1949 को फांसी हुई थी. आप्टे के  बारे में बाद में ये बातें भी कही गईं कि वो शायद ब्रिटिश जासूस का काम भी करता था.

गांधीजी की हत्या के मामले में 10 फरवरी 1949 के दिन विशेष अदालत ने सजा सुनाई थी. नौ आरोपियों एक को बरी कर दिया. बरी होने वाले थे विनायक दामोदर सावरकर. बाकी आठ लोगों को गांधीजी की हत्या, साजिश रचने और हिंसा के मामलों में सजा सुनाई गई. दो लोगों नाथूराम गोडसे और हरि नारायण आप्टे को फांसी की सजा मिली. इसके अलावा अन्य छह लोगों को आजीवन कारावास, जिसमें नाथूराम गोडसे का भाई गोपाल गोडसे भी शामिल था. ]

 ये भी पढ़ें - नथ पहनने के चलते गोडसे का नाम पड़ा था नाथूराम, उसकी ये बातें जानते होंगे आप

क्या वो वाकई ब्रिटिश खुफिया एजेंट था
1966 में जब सरकार ने दोबारा गांधी हत्या मामले को खोला तो जस्टिस जेएल कपूर की अगुवाई में जांच कमीशन का गठन किया गया. उन्होंने अपनी रिपोर्ट में आप्टे के बारे में कहा कि वो ऐसा शख्स था, जिसकी सही पहचान को लेकर शक है. उन्होंने अपनी रिपोर्ट में उसे भारतीय वायुसेना का पूर्व कर्मी भी बताया.

ये भी पढ़ें - कौन लोग हैं जो गांधी के हत्यारे गोडसे की पूजा करना चाहते हैं?

इसी रिपोर्ट के बिना पर जब अभिनव भारत मुंबई नाम की संस्था ने तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोह15र पार्रिकर से जानकारी मांगी. तो उन्होंने कहा कि विभिन्न स्तरों पर की गई छानबीन के बाद रिकॉर्ड बताते हैं कि आप्टे कभी एयरफोर्स में नहीं रहा. बाद में अभिनव भारत के प्रमुख डॉक्टर पंकज फडनिस ने कहा कि उनकी रिसर्च कहती है कि आप्टे ब्रिटिश खुफिया एजेंसी फोर्स 136 का सदस्य था. गांधीजी पर तीन गोलियां तो गोडसे के रिवाल्वर से निकली थीं लेकिन चौथी गोली आप्टे ने चलाई थी.



नाथूराम गोडसे और सावरकर के साथ नारायण आप्टे (फाइल फोटो)पुणे के जाने माने विद्वान ब्राह्मण परिवार से था
विकीपीडिया के अनुसार आप्टे आकर्षक व्यक्तित्व का शख्स था, उसने बांबे यूनिवर्सिटी से साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद कई तरह के काम किए. इसमें टीचिंग भी शामिल थी. वो ऐसे परिवार से था, जिसकी पुणे में संस्कृत विद्वानों के ब्राह्मण परिवार के रूप में धाक थी.
विकीपीडिया कहती है कि जब दूसरे विश्व युद्ध के दौरान सावरकर ने हिंदू महासभा के लोगों से अंग्रेजों की मदद करने की अपील की तो वो वो पुणे क्षेत्र में सेना का रिक्रूटर बन गया. फिर वो अस्थायी तौर पर फ्लाइट लेफ्टिनेंट भी बना.

गांधीजी का पार्थिव शरीर (फोटो-गैटी इमेज)


ये भी पढ़ें - गोली मारने से पहले नाथूराम ने गांधीजी को क्यों किया था प्रणाम?

वैवाहिक जीवन अच्छा था
नारायण आप्टे ने 1939 में अहमदनगर में टीचर की नौकरी करने के दौरान हिंदू महासभा के साथ खुद को जोड़ा था. फिर अपनी पारिवारिक स्थितियों के काऱण उसे पुणे के अपने पुश्तैनी घर में संयुक्त परिवार की देखभाल के लौटना पड़ा. उसकी पत्नी भी पुणे के असरदार परिवार से थी. दोनों का वैवाहिक जीवन अच्छा बताया जाता है. उसका एक बेटा भी था, जिसकी तबीयत खराब ही रहती थी.

सावरकर करते थे आर्थिक मदद
बाद में उसने गोडसे के साथ मिलकर "अग्रणी" के नाम से अखबार निकालना शुरू किया. ये हिंदू विचारधारा को जगह देने वाला अखबार था. कांग्रेस आमतौर पर उसके निशाने पर होती थी.

सावरकर पुणे में नारायण आप्टे के अखबार के दफ्तर में. (फाइल फोटो)


विकीपीडिया का कहना है कि ये अखबार घाटे में था. बंद होने की कगार पर पहुंच गया, तब सावरकर की आर्थिक मदद से इसे ऑक्सीजन मिली. बाद में सावरकर इस अखबार को जारी रखने के लिए लगातार ठीक ठाक अार्थिक मदद करते रहे थे.

 ये भी पढ़ें - गणतंत्र दिवस पर ट्रंप की जगह यह गांधी भक्त होगा मोदी का मेहमान

जेल में किताब भी लिखी
आजादी के बाद जब सरकार ने उस अखबार को आपत्तिजनक पाते हुए बंद किया तो आप्टे ने "हिंदू राष्ट्र" के नाम से नया अखबार निकालना शुरू कर दिया. राबर्ट पेन की किताब "द लाइफ एंड डेथ ऑफ महात्मा गांधी" कहती है आप्टे जेल में आदर्श कैदी की तरह था. जेल में उसने भारतीय चिंतन पर एक किताब भी लिखी.
अंतिम दिन
15 नवंबर को जब अंबाला जेल में फांसी दी जाने वाली थी, तब आप्टे शांत और अपने आपमें मगन था. फांसी की ओर जाते हुए गोडसे तो अखंड भारत के नारे लगा रहा था तो आप्टे और मजबूत आवाज में अमर रहे कहकर उसका साथ दे रहा था. दोनों को साथ में फांसी दी गई. फांसी का फंदा खींचते ही आप्टे की तुरंत मौत हो गई

 ये भी पढ़ें - इस एक सवाल का जवाब दे देंगे तो मिल जाएगी बढ़िया नौकरी

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज