जानिए ब्रह्माण्ड के रहस्य जानने में कैसे मदद करेंगे नासा के 4 नए अभियान

नासा (NASA) के ये अभियान ब्रह्माण्ड (Uinverse) की अवधारणा अध्ययन के लिए अन्वेषण करेंगे.  (तस्वीर: Pixabay)

नासा (NASA) के ये अभियान ब्रह्माण्ड (Uinverse) की अवधारणा अध्ययन के लिए अन्वेषण करेंगे. (तस्वीर: Pixabay)

नासा (NASA) ने हाल ही में चार नए खगोलभौतिकी (Astrophysics) अभियानों को मंजूरी दी है जो ब्रह्माण्ड (Universe) के रहस्यों को खोजने में उसके दूसरे अभियानों में बहुत मददगार साबित होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 1:31 PM IST
  • Share this:
पिछले साल अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) का ध्यान मंगल और चंद्रमा से संबंधित अभियानों पर ज्यादा था. साल 2021 की शुरुआत नासा ने अन्य अंतरिक्ष अभियानों (Space Missions) पर ध्यान देने से की है. हाल ही में नासा ने सूर्य की गतिविधियों के अध्ययन के लिए दो अभियानों की स्वीकृति दी थी. अब नासा ने चार छोटे पैमाने वाले खगोलभौतिकी अभियानों (Astrophysics Missions) की स्वीकृत किया है. इन अभियानों से नए कार्यक्रम पायनियर्स (Pioneers) के तहत ब्रह्माण्ड के रहस्यों का अध्ययन किया जाएगा.

क्या करेंगे ये अभियान

इस कार्यक्रम के लिए नासा छोटे सैटेलाइट (SmallSat) और गुब्बारों (Balloon) का उपयोग करेगा. नासा ने अपने बयान में बताया कि इस चुनाव से खगोलीय प्रक्रियाओं जैसे गैलेक्सी, बाह्यग्रह, उच्च ऊर्जा वाले न्यूट्रीनो और न्यूट्रॉन तारों के विलय के विकास का अन्वेषण करने के लिए एक नया मंच मिलेगा.

नई सोच को परिलक्षित करेंगे ये अभियान
नासा के साइंस मिशन डायरेक्टोरेट के एसोसिएट प्रशासक थॉमस एच जुबरबुशेन का कहना है कि छोटे बजट में खगोलभौतिकी प्रयोगों करने के लिए इन अवधारणा अध्ययनों के प्रमुख अन्वेषणकर्ता समस्या सुलझाने के लिए नवाचार और परंपरा से हटकर सोच लाएंगे. हर प्रस्तावित प्रयोग नासा के अन्य टेलीस्कोप या मिशन से हटकर कुछ अलग नहीं करेंगे बल्कि उनकी कमी को दूर करेंगे जिसेस पूरे ब्रह्माण्ड को समझा जा सके.

गैलेक्सी के अध्ययन के लिए

एस्पेरा (Aspera) एक छोटा उपग्रह (SmallSat) है जो गैलेक्सी के विकास का अध्ययन करेगा. पराबैंगनी प्रकाश में अवलोकनों के द्वारा यह गैलेक्सी के बीच का स्थानों का अध्ययन करेगा जिसे अंतरआकाशगंगा (Intergalactic) माध्यम कहते हैं. इसके अलावा यह गैलेक्सी से अंदर आने और बाहर जाने वाली गैसों के प्रवाह का भी अध्ययन करेगा.



 Space, NASA, Astrophysics, Astrophysics Missions, Secrets of Universe, Galaxy, Galaxies, SmallSat, Pioneers
नासा (NASA) के पेंडोरा और एस्पेरा अभियान बाह्यग्रह, गैलेक्सी के विकास अध्ययन करेंगे. प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


बाह्यग्रहों का अध्ययन

पेंडोरा (Pandora) एक छोटा उपग्रह (SmallSat) है  जो दिखाई देने वाले और अधोरक्त (Infrared)प्रकाश में 20 तारों और 39 बाह्यग्रहों का अध्ययन करेगा. नासा ने बताया कि तारों का प्रकाश में बदलाव बाह्य ग्रहों के मापन में बदलाव लाता है, यह समझने से हमारे सौरमंडल के बाहर आवासयोग्य ग्रह को समझने में एक बड़ी बाधा है.

जानिए क्यों 2021 के अंतरिक्ष अभियानों का मंगल पर होगा ज्यादा ध्यान

न्यूट्रॉन तारों का विलय

स्टारबर्स्ट (StarBurst) नाम का छोटा उपग्रह (SmallSat) न्यूट्रॉन तारों के विलय जैसी घटनाओं से निकलने वाली उच्च ऊर्जा वाली गामा विकिरणों को पकड़ने का काम करेगा. न्यूट्रॉन तारे किसी तारे के मरने के बाद के घने अवशेष होते हैं. स्टारबर्स्ट ऐसे विलय और इस तरह की अन्य घटनाओं के बारे में ज्यादा जानकारी दे सकेगा जिन्हें पृथ्वी की वेधशालाएं गुरुत्व किरणों से भी पकड़ती हैं.



गुब्बारे का अभियान

इसके बाद प्यूइयो (PUEO) एक गुब्बारे का अभियान है जिसे अंटार्कटिका से प्रक्षेपित करने की योजना है. यह बहुत ही उच्च ऊर्जा वाले न्यूट्रीनों को पकड़ने का काम करेगा. ये बहुत ही महीन कण उच्च ऊर्जा वाली खगोलभौतिकीय प्रक्रियाओं की अहम जानकारी दे सकते हैं. इसमें ब्लैक होल का निर्माण और न्यूट्रॉन तारों का विलय भी शामिल हैं. नासा ने बताया कि न्यूट्रीनों ब्रह्माण्ड में  बिना किसी बाधा या दखल के यात्रा करते हैं.  वे अरबों प्रकाशवर्ष दूर की घटनाओं की जानकारी अपने पास रखते हैं. PUEO अब तक न्यूट्रीनो के अवलोकन के लिए किया गया सबसे संवेदनशील सर्वे होगा.

पृथ्वी की तरह सूर्य पर भी आते हैं ‘भूकंप’, रिसर्च ने डाली इन पर नई रोशनी

ये चार अवधारणा अध्ययन के लिए अभियान अतिरिक्त परिभाषण के बाद उड़ान के लिए स्वीकृत होने पहले समीक्षा से गुजरेंगे. इन अभियानों से नासा का उद्देश्य पेशेवर युवाओं को आकर्षित करना है. नासा का कहना है कि उसे पहले से ही यूनिवर्सिटी और शोध प्रयोगशालाओं से बहुत नए विचार मिल रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज