Home /News /knowledge /

क्या गुरु ग्रह के चंद्रमा पर भी हैं शनि के एन्सेलाडस की तरह पानी के गुबार?

क्या गुरु ग्रह के चंद्रमा पर भी हैं शनि के एन्सेलाडस की तरह पानी के गुबार?

शनि और गुरु दोनों के चंद्रमाओं पर पानी के गुबार (Water Plume) मिलते हैं.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

शनि और गुरु दोनों के चंद्रमाओं पर पानी के गुबार (Water Plume) मिलते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

नासा (NASA) ऐसे पिंडों की खोज के लिए अंतरिक्ष अभियान भेजने की तैयारी में हैं जहां जीवन के संकेत मिलने की संभावना अधिक है. इसमें शनि के चंद्रमा एन्सेलाडस (Enceladus) भी है जहां बहुत सारे पानी की गुबार पाए गए है. लेकिन उससे पहले नासा गुरु ग्रह के चंद्रमा यूरोपा (Europa) पर अपना अभियान भेजेगा जाहां एन्सेलाडस की तरह पानी के गुबार होने की बहुत संभावना है.

अधिक पढ़ें ...

    नासा (NASA) के वैज्ञानिक गुरु ग्रह के चंद्रमा यूरोपा (Europa) के लिए एक अभियान भेजने की तैयारी कर रहे हैं. बर्फ से ढका महासागरों की इस दुनिया में उन्हें पानी के गुबार (Flumes) दिखाई दिए जाने की उम्मीद है. यह गुबार यूरोपा के महासागरों के अंदर से सतह की बर्फ को तोड़ कर निकलते हैं जिसमें भाप, पानी, बर्फ के टुकड़े, जैविक पदार्थ आदि का छिड़काव होता है. नासा का यूरोपा क्लिपर अंतरिक्ष यान इस उपग्रह की गहराई से लेकर उसकी सतह का अध्ययन कर यहा जानने की कोशिश करेगा कि क्या यहां जीवन संभव हो भी सकता है या नहीं.

    शनि के चंद्रमा पर भी हैं ऐसे गुबार
    वैज्ञानिकों को यूरोपा पर गुबार की उम्मीद यूं ही नहीं हो गई है. इससे पहले साल 2005 में शनि के के चंद्रमा एन्सेलाडस पर भी पानी के गुबारों की तस्वीरें देखी गई थीं. जो वहां के दक्षिणी ध्रुव इलाकों की थीं. इससे ऐसे संकेत मिले थे कि एनसेलाडस के बर्फिले खोल के नीचे तरल पानी के महासागर हैं. इससे यह भी पुष्टि हुई कि यह उपग्रह भूगर्भीय रूप से सक्रिय भी है.

    नासा के सूची
    नासा की सौरमंडल में जीवन के संकेत खोजने वाले पिंडों में नासा की सूची में एन्सेलाडस शीर्ष पर है. और उसकी वजह है कि वहां के गुबार हैं. इस तरह के पिंड जो सूर्य से दूर हों और जिनका वायुमंडल ना हो, नासा के लिए अहम होते हैं क्यों कि यहां जीवन के अनुकूल हालात होने की गुंजाइश ज्यादा होती है. क्योंकि भूगर्भीय सक्रियता भी जीवन के एक बहुत जरूरी अवस्था होती है.

    भूगर्भीय सक्रियता
    एन्सेलाडस की तरह यूरोपा भी भूगर्भीय तौर पर सक्रिय है यानि दोनों ही चंद्रमा अपनी ठोस परतों के अंदर गुरुत्वाकर्षण रस्साकशी के कारण ऊष्मा पैदा करते हैं यही वजह है कि सूर्य की गर्मी की जगह सतह के नीचे से आने वाली ऊष्मा से पानी जम नहीं पाता है और बर्फीली सतह के नीचे महासागर मिलते हैं.

    Jupiter, Europa, Saturn, Enceladus, Signs of life, Water Plumes, Oceans in Eupora,

    शनि के चंद्रमा एन्सेलाडलस (Enceladus) की सतह पर बहुत अधिक संख्या में गुबार देखते रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    जीवन की संभावना
    इस गर्मी की वजह से ही यहां की सागरों के तल में कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन, सल्फर जैसे जीवन के रासायनिक मूल तत्व मिलने की संभावना बहुत अधिक है. क्लिपर के यूरोपा इमेजिंग सिस्टम (EIS) कैमरा के पीछे की टीम के सदस्य लिनेय क्विक का कहना है कि बहुत से लोगों का मानना है कि यूरोपा एन्सेलाडस 2.0 हो सकता है जिसमें गुबार लगातार सतह से निकलते रहते हैं.

    Electric Propulsion इंजन बनाएंगे अंतरिक्ष यानों का सफर आसान, जानिए कैसे

    एन्सेलाडस से बहुत अलग
    क्विक का कहना है कि यूरोपा एन्सेलाडस से बहुत ही अलग पिंड हैं. यहां सतह के नीचे से आते हुए गुबार हैं जैसा कि एन्सेलाडस में मिलते हैं. अंतरिक्ष यानों और पृथ्वी सहित नासा के टेलीस्कोप से अवलोकन करने का बाद वहां धुंधल पानी के गुबार देखने को मिले हैं. लेकिन इनकी पुष्टि होने जरूरी है.

     Jupiter, Europa, Saturn, Enceladus, Signs of life, Water Plumes, Oceans in Eupora,

    वैज्ञानिकों को यूरोपा (Europa) से बहुत अधिक उम्मीदे हैं. (तस्वीर: NASA)

    संसार तक बनेगी पहुंच
    वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर यूरोपा पर भी ज्यादा गुबार मिलते हैं तो वे ज्वालामुखी के विपरीत ठंडे होंगे और उनका अध्ययन किया जा सकेगा. इसके अलावा गुबार में सतह के नीचे के बहुत सी चीजें मिलेंगी जो उस संसार के प्रमाण हो सकते हैं जिसकी हमें तलाश है. एक तरह से सतह के नीचे तक हमारी पहुंच बन जाएगी.

    चंद्रमा पर परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाएगा नासा, जानिए क्यों होगी यह बड़ी उपलब्धि

    प्रमाण बताते हैं यूरोपा की सतह के नीचे के महासागर ज्यादा व्यापक और विस्तृत हैं. यह एन्सेलाडस से बहुत ही बड़ा पिंड है जो पृथ्वी से चौथाई छोटा और हमारे चंद्रमा से बड़ा है. इसके महासागर बहुत गहरे हैं. यहां हाइड्रोथर्मल सुराखों के जरिए गर्म चट्टानों से पानी की प्रतिक्रिया होती है. पृथ्वी पर ऐसे स्थानों में बहुत सारे जीव पाए जाते हैं.

    Tags: Jupiter, Research, Science

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर