• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • नासा के हबल टेलीस्कोप ने पकड़ा हमारे सबसे पास की गैलेक्सी में विशाल HALO

नासा के हबल टेलीस्कोप ने पकड़ा हमारे सबसे पास की गैलेक्सी में विशाल HALO

एंड्रेमीडा गैलेक्सी का यह हालो बहुत सारी जानकारी दे सकता है.  (फोटो: Twitter/ NASA)

एंड्रेमीडा गैलेक्सी का यह हालो बहुत सारी जानकारी दे सकता है. (फोटो: Twitter/ NASA)

नासा (NASA) के हबल टेलीस्कोप (Hubble Telescope) के जरिए वैज्ञानिकों ने एंड्रोमीडा गैलेक्सी (Andromeda Galaxy) के पास विशाल हालो (Halo) की विस्तृत जानकारी हासिल की है.

  • Share this:
    अंतरिक्ष के बेहतर अवलोकन के लिए हमारे वैज्ञानिकों को पिछले कुछ दशकों में उन्नत उपकरण मिले हैं. इसमें नासा (NASA) का हबल स्पेस टेलीस्कोप (Hubble Space Telescope) भी शामिल है, जो पिछले तीस सालों से अंतरिक्ष से ही खगोलविदों को अहम और नई जानकारियां दे रहे है. ताजा अध्ययन में वैज्ञानिकों ने हबल के जरिए हमारी गैलेक्सी (Galaxy) के सबसे पास स्थित एंड्रोमीडा गैलेक्सी (Andromeda galaxy) के आसपास एक विशाल हालो (Halo) खोजा है.

    क्या होता है यह हालो
    हालो (Halo) एक विशाल गैसीय आवरण को कहते हैं. एंड्रोमीडा गैलेक्सी का यह छोटा सा दिखाई न देने वाला हालो प्लाज्मा का बना है. यह अपनी गैलेक्सी से 13 लाख प्रकाशवर्ष की दूरी तक फैला है और कई दिशाओं में तो यह 20 लाख प्रकाशवर्ष की दूरी तक फैला है.

    हमारी गैलेक्सी को ओर
    यह हमारी गैलेक्सी की आधे रास्ते तक आ गया है. इसका मतलब यह है कि यह हमारी गैलेक्सी की ओर आ रहा है. एस्ट्रोफिजिकल जर्नल में प्रकाशित इस शोध में वैज्ञानिकों ने यह भी पाया है कि इस हालो की परतदार संरचना है, जिसमें दो स्पष्ट गैस के गोले हैं.

    कितने अहम होते हैं ये हालो
    अमेरिका के कनेक्टिकट, न्यू हेवल की येल यूनिवर्सिटी की सह अन्वेषणकर्ता समैन्था बेरेक ने बताया कि गैलेक्सियों के गैस के ये विशाल हालो को समझना बहुत जरूरी है. गैस के इस भंडार में भविष्य में गैलेक्सी में तारों के निर्माण और सुपरनोवा जैसी घटनाओं के लिए ईंधन होता है. बेरेक के अनुसार इनमें गैलेक्सी के इतिहास और भविष्य के बारे में जानकारी के बहुत सारे संकेत होते हैं.



    कौन से हैं ये संकेत
    इस बात का संकेत टीम की एंड्रोमीडा के गैसीय हालों में विशाल मात्रा में खोजे गए भारी तत्व (Elements) से मिलता है. भारी तत्व तारों के अंदर के हिस्से में बनते हैं  और तारों के मरने के बाद प्रचंडता से अंतरिक्ष में उत्सर्जित होते हैं. इसके बाद तारों के विस्फोट से पदार्थ इस हालो में मिल जाते हैं.

    NASA के Spitzer telescope ने मिल्की वे में पकड़ी तारों की जन्मस्थली

    क्या है यह गैलेक्सी
    एंड्रोमीडा गैलेक्सी जिसे M31 भी कहते हैं, हमारी गैलेक्सी के सबसे पास स्थित एक सर्पिल गैलेक्सी है जिसमें 10 खरब तारे होंगे और इसका आकार हमारी मिल्वी वे गैलेक्सी जितना ही माना जाता है. यह गैलेक्सी हमसे केवल 25 लाख प्रकाश वर्ष दूर है. यह हमारे इतने पास है कि यह शीत ऋतु के आकाश में सिगार के आकार के प्रकाशीय धुंधलके  की तरह दिखाई देती है.

    Star clustur
    इस हालो के अध्ययन से तारों के निर्माण के बारे में पता चलेगा.(प्रतीकात्मक तस्वीर)


    क्या खास है इस हालो में
    इस शोध के प्रमुख शोधकर्ता और अमेरिका में इंडियाना की नाट्रे डेम यूनिवर्सिटी से निकोलस  लेहनर ने बताया, “हमने इस हालो के अंदर के गोले को और ज्यादा जटिल और गतिमान पाया है. इसका आकार करीब पांच लाख प्रकाश वर्ष है. वहीं इसका बाहरी गोला जटिल नहीं है लेकिन ज्यादा गर्म है. गैलेक्सी की  डिस्क में सुपरनोवा की गतिविधि के कारण अंदर को हालो पर ज्यादा प्रभाव पड़ा होगा जिसकी वजह से ये अंतर आ गया होगा.

    Cosmic Rays से बच सकता है ये बैक्टीरिया पृथ्वी से मंगल तक के सफर में 

    लेहनर की टीम ने पहले ही साल 2015 में एंड्रोमीडा गैलेक्सी का अध्ययन किया है. उस समय भी उनकी टीम ने इसे एक विशाल और भारी हालो के तौर पर देखा था, लेकिन उस समय इसकी जटिलता के बारे में बहुत ही कम जानकारी थी. अब इसका का विस्तार से मैप बन रहा है जिससे उसके सटीक आकार और भार के बारे में पता चला है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन