• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • मंगल पर 13 सफल उड़ानों के बाद नासा के हेलीकॉप्टर को क्या होगी परेशानी

मंगल पर 13 सफल उड़ानों के बाद नासा के हेलीकॉप्टर को क्या होगी परेशानी

इंजेन्युटी (Ingenuity) की इस समस्या की जानकारी खुद पर्सिवियरेंस की टीम ने दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: NASA_JPL-Caltech)

इंजेन्युटी (Ingenuity) की इस समस्या की जानकारी खुद पर्सिवियरेंस की टीम ने दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: NASA_JPL-Caltech)

नासा (NASA) ने खुद बताया है कि चूंकि मंगल (Mars) पर मौसम बदल रहा है, इससे वहां के वायुमंडल में बदलाव इंजेन्युटी (Ingenuity) हेलीकॉप्टर की उड़ान में बाधक हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नासा (NASA) के पर्सिवियरेंस रोवर के साथ मंगल (Mars) पर गए उसके इंजेन्युटी हेलीकॉप्टर (Ingenuity Helicopter) ने 13 उड़ाने पूरी कर ली है. अपने इंजेन्युटी 14वीं उड़ान की तैयारी में है, लेकिन उससे पहले उसके सामने एक नई चुनौती सामने आ गई है. इस बार मंगल का मौसम उसे परेशान करने वाला है. इसमें कोई तेज हवा या तूफान नहीं बल्कि कम होता वायुमंडलीय घनत्व समस्या खड़ी कर सकता है. नासा ने खुद इसकी जानकारी दी है. नासा की पर्सिवियरेंस रोवर टीम का कहना है कि मंगल पर ऐसा मौसम आ रहा है जब हवा का घनत्व कम हो रहा है जिससे इंजेन्युटी को उड़ान भरने में दिक्कत होगी.

    नासा के जेट प्रपल्शन लैब के इस हेलीकॉप्टर को अब तक उड़ने में ऐसी समस्या नहीं आई थी जैसी अब आ रही है. पिछले सप्ताह दिए गए बयान में कहा गया है कि मंगल पर छह महीने बाद अब ग्रह ऐसे मौसम में जा रहा है जब जजीरो क्रेटर में हवा का धनत्व बहुत ही ज्यादा नीचे गिर रहा है. नासा का अनुमान है कि आने वाले महीनों में मंगल की हवा का घनत्व 0.012 किलोग्राम प्रति वर्ग मीटर तक जा सकता है. पृथ्वी के घनत्व का 1प्रतिशत होता है.

    इन हालात के लिए नहीं किया था परीक्षण
    पर्सिवियरेंस इस साल फरवरी के महीने में मंगल पर उतरा था. इंजेन्युटी हेलीकॉप्टर उसी के साथ गया था जिसने अपनी पहली उड़ान अप्रैल महीने में भरी थी. नासा ने यह भी बताया कि मंगल के इस वायुमंडलीय घनत्व में बदलाव ऐसा जिस का परीक्षण इंजेन्युटी के लिए पृथ्वी पर नहीं किया गया था. गणनाओं के मुताबिक नासा ने मंगल पर पर्सिवियरेंस के उतरने के पहले कुछ महीनों में ही इंजेन्युटी की पांच उड़ान के अभियान की उम्मीद की थी.

    केवल इस घनत्व के लिए किया गया तैयार
    इसीलिए इंजेन्युटी को केवल 0.0145 से लेकर 0.0185 किलोग्राम प्रति वर्ग मीटर धनत्व में ही उड़ान के लिए तैयार किया गया था, जो पृथ्वी के 1.2-1.5 प्रतिशत घनत्व है. फिर भी हाल में हुए वायुमंडलीय दबाव इंजेन्युटी की 14वीं उड़ान पर असर करेंगे. वायुमंडल का यह बदलाव सीथे इंजेन्युटी की उड़ने की क्षमता को प्रभावित करेगा.

    इंजेन्युटी (Ingenuity) को नए वायुमडंलीय हालात के लिए तैयार ही नहीं किया गया था. (तस्वीर: NASA_JPL-Caltech)

    यह आएगी समस्या
    न्यूनतम घनत्व के लिए हेलिकॉप्ट की थ्रस्ट मार्जिन कम से कम 30 प्रतिशत है. थ्रस्ट मार्जिन वह वह अतिरिक्त बल है जो इंजेन्युटी उड़ने के लिए लगने वाले बल से ज्यादा लगा सकता है. यह उड़ान शुरु करने और चढ़ाई करने और कठिन भौगोलिक हालात में हेलीकॉप्टर  की उड़ान ऊपर नीचे करने में काम आता है. वर्तमान हालात में इंजेन्युटी की थ्रस्ट स्तर 8 प्रतिशत तक नीचे जा सकता है.

    मंगल पर होता बहुत सारा पानी अगर छोटा ना होता उसका आकार- अध्ययन

    एक संभव हल यह हो सकता है
    नासा का कहना है कि इन हालात में इंजेन्युटी में एरोडायनामिक स्टॉल की स्थिति आ सकती है जहां से वह ऊपर नहीं उठ सकेगा. लेकिन इसके लिए नासा ने एक हल भी निकाला है. कम वायुमंडलीय घनत्व में इंजेन्युटी को तेज घूमना होगा. नासा का कहना है कि आने वाले अभियानों में वह ज्यादा रोटोर गति का परीक्षण करेगा.

    Space, Mars, NASA, Perseverance Rover, Ingenuity, helicopter, Flight on mars,

    इंजेन्युटी नासा के पर्सिवियरेंस रोवर (Perseverance Rover) के साथ ही मंगल पर फरवरी 2021 को उतरा था. (तस्वीर: NASA_JPL-Caltech)

    एक प्रायोगिक अभियान था इंजेन्युटी
    गौरतलब है कि नासा का यह हेलीकॉप्टर मूल पर्सिवियरेंस अभियान का हिस्सा नहीं है. यह केवल परीक्षण के उद्देश्य से जोड़ा गया हिस्सा है, जो उम्मीद से अधिक ही सफल माना जाएगा क्योंकि यह निर्धारती पांच उड़ानों से 8 ज्यादा उड़ान भर चुका है.  इसकी सफलता के बाद ही नासा ने इसे ज्यादा गंभीरता से लेना शुरू किया है.

    मंगल से अधिक युवा है शुक्र, यहां आज भी पृथ्वी की तरह हैं सक्रिय ज्वालामुखी

    इंजेन्युटी की शुरुआती सफलता के बाद उसका फायदा पर्सिवियरेंस रोवर के विचरण को मिलने लगा. रोवर हर तरह की जमीन पर विचरण नहीं कर सकता है, इसलिए इंजेन्युटी जैसा हेलीकॉप्टर उसके लिए पथ प्रदर्शक के रूप में काम आया जिससे पर्सिवियरेंस को अपना रास्ता चुनने में आसानी हुई. लेकिन अब यह हेलीकॉप्टर रोवर की मदद शायद नहीं कर सकेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज