क्या वाकई 5-10 सालों में हो सकता है इंसान का एलियन्स से संपर्क?

पृथ्वी के बाहर जीवन खोजने की क्षमता बढ़ने से एलियन्स (Aliens)से संपर्क होने की संभावना कई गुना बढ़ जाएगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

पृथ्वी के बाहर जीवन खोजने की क्षमता बढ़ने से एलियन्स (Aliens)से संपर्क होने की संभावना कई गुना बढ़ जाएगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

नासा (NASA) के जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप (JWST) के इस साल में अंतरिक्ष में स्थापित होने से पृथ्वी के बाहर जीवन तलाशने में बहुत तेजी आ सकती है. भविष्य में एलियन्स (Aliens) से संपर्क भी हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 12:49 PM IST
  • Share this:
पृथ्वी के बाहर जीवन तलाशने ( का प्रयास हमारे वैज्ञानिक और खगोलविद हमेशा से ही कर रहे हैं. इसके लिए फिलहाल जो हमारे खगोलविदों के पास जो साधन उपलब्ध हैं वह बहुत सीमित हैं. इसका मतलब है कि वे अभी अंतरिक्ष में स्थिति हबल ऑप्टिकल टेलीस्कोप जैसे सीमित उपकरणों की मदद से सुदूर ग्रहों में जीवन की तलाश कर पा रहे हैं. इस साल नासा (NASA) का जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप (JWST) के लॉन्च होने से इस पड़ताल को बहुत ज्यादा गति मिलने की उम्मीद है. यहां तक कि यह भी संभव लगने लगा है कि 4-10 सालों में इंसान एलियन्स (Aliens) से संपर्क कर लेंगे.

खास टेलीस्कोप है नासा का जेम्स

नासा का जेडब्ल्यूएसटी यानी जेम्स टेलीस्कोप इस साल अक्टूबर में लॉन्च होगा. यह अंतरिक्ष में अब तक का सबसे शक्तिशाली टेलीस्कोप होगा. यह एक इंफ्रारेड टेलीस्कोप है जो केवल कुछ चक्करों में छह गैसीय बौने ग्रहों में अमोनिया की उपस्थिति का पता लगा सकेगा. इसका मतलब यह है कि वह दूसरे ग्रहों में केवल 60 घंटों में ही जीवन के पक्के संकेतों का पता लगा सकता है.

कितने विशेष होते हैं ये ग्रह
माना जाता है कि गैसीय बौने ग्रहों में जीवन के पनपने की बहुत अधिक संभावना होती है. ये ग्रह हमारे सौरमंडल में नहीं होते बल्कि उससे बहुत दूर स्थित तारों का चक्कर लगाने वाले बाह्यग्रह होते हैं जिन्हें सुपर अर्थ या फिर मिनी नेप्च्यून के नाम से जाना जाता है. अभी तक वैज्ञानिक इन्हें ढूंढ तो लेते थे, लेकिन यह पता नहीं चलता था कि वहां के वायुमंडल में अमोनिया और उसके जैसे जीवन के अन्य संकेत मौजूद हैं या नहीं.

NASA, Earth, JWSP, Aliens, Humans, Life beyond Earth, Exoplanets, Contact with Aliens
नासा के जेम्स वेब टेलीस्कोप (JWST) का खगोलविदों को बेसब्री से इंतजार है. (तस्वीर: Northrop Grumman)


5-10 सालों में



इस अध्ययन के प्राथमिक नतीजे ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी की ग्रेजूएट स्टूडेंट कैप्राइस फिलिप इस महीने एपीएस मीटिंग की प्रेस कॉन्फ्रेंस में रखेंगीं. उन्होंने बताया कि नतीजों में उन्हें सबसे चौंकाने वाली बात यह लगी कि हम अगले 5-10 सालों में  दूसरे ग्रहों पर जीवन के संकेत खोज सकते हैं.

जीवन के अनुकूल बाह्यग्रह खोजने में मददगार होंगे बारिश के संकेत

जीवन के संकेतों की तलाश

कैप्राइस और उनकी टीम ने इस बात का मॉडल बनाया कि जेम्स टेलीस्कोप उपकरण वायुमडंल के हालात और बादलों को प्रति कैसी प्रतिक्रिया करेगा और उसके बाद एक श्रेणीबद्ध सूची बनाई जिन हालातों में टेलीस्कोप को जीवन के संकेत मिल सकते हैं. फिलिप का कहना है कि मानवजाति इस तरह के प्रश्नों पर विचार कर रही है कि क्या हम अकेले हैं और क्या कहीं और भी हमारे जैसा जीवन है या नहीं.

NASA, Earth, JWSP, Aliens, Humans, Life beyond Earth, Exoplanets, Contact with Aliens
सौरमंडल के बाहर के जीवन की तलाश को जेम्स टेलीस्कोप (JWST) बहुत आसान कर देगा. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


जेम्स ने पास किए जरूरी टेस्ट

फिलिप ने कहा, “मेरा शोध सुझाता है कि पहली बार हम इन सवालों को जवाब की तलाश में वैज्ञानिक ज्ञान और तकनीकी क्षमताओं से लैस हुए हैं.” नासा के जेस्स वेब स्पेस टेलीस्कोप पिछले कुछ समय से प्रक्षेपण का इंतजार कर रहा है हाल ही में उसने कई परीक्षण पास किए हैं जिसमें रॉकेट के आवाज, तेज झटके और कंपन बर्दाश्त करना शामिल है.

जानिए कैसे आसपास के पदार्थ को अलग-अलग तरीकों से चट कर जाता है ब्लैक होल

जेम्स टेलीस्कोप अब तक का दुनिया का सबसे बड़ा, सबसे शक्तिशाली और जटिल टेलीस्कोप होगा. इसे खास इसी तरह से डिजाइन किया गया है कि वह हमारे सौरमंडल और उसके आसपास के तारों के रहस्यों को उजागर कर सके और हमारे ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति और संरचना के बारे में जानकारी दे सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज