Home /News /knowledge /

चंद्रमा पर परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाएगा नासा, जानिए क्यों होगी यह बड़ी उपलब्धि

चंद्रमा पर परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाएगा नासा, जानिए क्यों होगी यह बड़ी उपलब्धि

चंद्रमा (Moon) पर लंबी उपस्थिति के लिए ऊर्जा की बहुत अधिक जरूरत होगी जो परमाणु ऊर्जा संयंत्र आसानी से पूरी कर सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

चंद्रमा (Moon) पर लंबी उपस्थिति के लिए ऊर्जा की बहुत अधिक जरूरत होगी जो परमाणु ऊर्जा संयंत्र आसानी से पूरी कर सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

चंद्रमा (Moon) पर दशकों से इंसान ने कदम नहीं रखा रहा है. 1972 में आखिरी बार इंसान के कदम अमेरिका के अपोलो अभियान में पड़े थे. अब इस बार नासा (NASA) फिर से चंद्रमा पर इंसान भेजने की तैयारी कर रहा है. लेकिन इस बार उसे लंबी मानवीय उपस्थिति के लिए भी बहुत सी जरूरतों पर काम करना है. इनसभी के लिए ऊर्जा स्रोत की जरूरत होगी. नासा ने इसके लिए परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाने का फैसला किया है और उसकी कार्ययोजना भी बना ली है. नासा का यह एक और महत्वाकांक्षी कदम माना जा रहा है जो अगले दशक में मंगल ग्रह पर भी उपयोगी हो सकता है.

अधिक पढ़ें ...

    अमेरिका चंद्रमा (Moon) पर एक बार फिर इंसान को भेजने की तैयारी कर रहा है. लेकिन इस बार चंद्रयात्रियों को कुछ घंटों के लिए नहीं भेजा जाएगा बल्कि नासा (NASA) का इरादा को वहां लंबी उपस्थिति बनाने का है.चंद्रमा पर अस्थायी रूप से रहने के लिए भी कई समस्याओं का सामना करना होगा. इसके लिए ऊर्जा की जरूरत भी होगी जो चंद्रमा पर सूर्य की रोशनी से पर्याप्त रूप से नहीं मिलेगी. इसीलिए नासा ने एक खास योजना पर काम करने का ऐलान किया है. नासा अगले 10 सालों में चंद्रमा पर एक परमाणु ऊर्जा संयंत्र (Nuclear Power Plant) स्थापित करने की योजना बना चुका है.

    पहले कुछ देर के लिए ही गए थे चंद्रमा पर
    गौरतलब है कि इससे पहले जो नासा के अपोलो अभियान के जरिए लोग चंद्रमा पर गए थे वे लंबे समय के लिए वहां पर नहीं ठहरे थे. लेकिन अब जबकि इरादा चंद्रमा पर रहने और काम करने का है खगोलविदों को स्थाई ऊर्जा स्रोत की होगी जिससे प्रचुर मात्रा में ऊर्जा की आवश्यकता की पूर्ति हो सके.

    नाभकीय विखंडन सबसे आशाजनक विकल्प
    ऊर्जा के लिए जहां बहुत सारे विकल्पों पर विचार हो रहा है, वही नासा का बरसों से मानना रहा है कि नाभकीय विखंडन भविष्य के चंद्रमायात्रियों की कॉलोनी के लिए सबसे व्यवहारिक ऊर्जा विकल्प हो सकता है. और अब नासा ने इस अमली जामा पहनाने के लिए काम भी शुरू कर दिया है. नासा के स्पेस टेक्नोलॉजी मिशन डायरेक्टरेट (STMD) के एसोसिएट एडमिनिस्ट्रेटर जिम रायटर का कहना है कि प्रचुर ऊर्जा भविष्य के अंतरिक्ष अभियानों में प्रमुख भूमिका निभाएगी.

    क्या अंतरिक्ष पर्यटन से पृथ्वी पर आ सकते हैं ‘एलियन रोगाणु’

    प्रस्ताव मांगे गए हैं इस तंत्र के लिए
    नासा पिछले कई सालों से चंद्रमा पर नाभिकीय विखंडन की संभावनाओं का आंकलकन कर रहा है. किलोपॉवर कहे जाने वाले इस प्रोजेक्ट में नासा अमेरिका के ऊर्जा विभाग (DOE) के साथ मिल कर शोध कर रहा है. दोनों ने ही अमेरिका के उद्योग सहयोगियों से परमाणु विखंडन ऊर्जा तंत्र के लिए डिजाइन प्रस्ताव देने को कहा है जो चंद्रम पर चल सके और उसे प्रक्षेपित कर चंद्रमा तक पहुंचाया भी जा सके.

    Research, Space, NASA, Moon, Nuclear Power Plant, Artemis, Artemis mission,

    अभी तक इंसान चंद्रमा (moon) पर लंबे समय के लिए नहीं गया है. (तस्वीर: Pixabay)

    कैसी होनी चाहिए इसकी क्षमताएं
    नासा के मुताबिक एक छोटा, हल्का विखंडन तंत्र जो एक चंद्रमा के लैंडर या रोवर की सतह पर कार्य कर सके ऐसा होना जाहिए जो 10 किलोवाट की बिजली की ऊर्जा प्रदान कर सके जो वाहां के औसत घरेलू ऊर्जा की आवश्यकताओं की पूर्ती कर सकेगा. इसमें चंद्रमा पर जीवन समर्थन तंत्र चालने के साथ चंद्रमा के रोवर को आवेशित करने और वहां की वैज्ञानिक प्रयोगों की आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए काम आएगा.

    Electric Propulsion इंजन बनाएंगे अंतरिक्ष यानों का सफर आसान, जानिए कैसे

    कितनी ऊर्जा की जरूरत
    नासा और डीओए के मुताबिक भविष्य के इन सिस्टम को 40 किलोवाट की ऊर्जा की आपूर्ति करना होगा जो 30 घरों को 10 साल के लिए ऊर्जा प्रदान करेंगे. इसके साथ ही चंद्रमा पर उतनी ऊर्जा भी होनी जाहे जो वहां मानव उपस्थिति को संभव बना सके. यह तंत्र भविषय में मंगल पर भी काम कर सके जो नासा का अगला लक्ष्य है जिसपर अभी से काफी काम चल रहा है.

    Research, Space, NASA, Moon, Nuclear Power Plant, Artemis, Artemis mission,

    यह तकनीक भविष्य में मंगल ग्रह (Mars) पर काम आ सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    भविष्य में रॉकेट प्रक्षेपण को भी मिल सकती है ऊर्जा
    इतना ही नहीं नासा के ये ऊर्जा संयंत्र भविष्य में नाभकीय प्रणोदय तंत्र तक विकसित करने में मददगार हो सकता है जो भविष्य में मंगल ग्रह पर तेजी से अभियानों को पहुंचा सकेंगे. अभी तक पिछले प्रयोगों में नासा और डिओए को कुछ सफलता जरूर मिली है, लेकिन इसका चंद्रमा पर ही परीक्षण करना एक बड़ी चुनौती होगी.

    अगले साल फरवरी तक नासा के इस परियोजना  के प्रस्ताव मिल सकते हैं. इसके बाद इस तंत्र की डिजाइन को अंतिम रूप दिया जाएगा. और उम्मीद की जा रही है कि एक दशक इसे प्रक्षेपित भी कर दिया जाए. वैज्ञानिकों का मानना है कि ऊर्जा आने से चंद्रमा पर बहुत सी समस्याएं सुलझाना संभव हो सकेगा जो अभी नामुमकिन लगती हैं

    Tags: Moon, Nasa, Research, Science, Space

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर