लाइव टीवी

नासा ने पेश की अपनी खास योजना, चांद पर बेस कैम्प बनाने की है तैयारी

Vikas Sharma | News18Hindi
Updated: April 5, 2020, 8:38 PM IST
नासा ने पेश की अपनी खास योजना, चांद पर बेस कैम्प बनाने की है तैयारी
नासा ने अपने परंपरागत काम से हट कर यह काम किया है.

नासा (NASA) ने अमरीकी सरकार को अपनी योजना पेश की है जिसमें वह चांद (Moon) पर बेस बनाने की तैयारी करेगा. यह बेस उसके आगे के अंतरिक्ष अभियानों के लिए मददगार साबित होगा.

  • Share this:
नई दिल्ली:  इस समय कोरोना वायरस (Corona virus) ने दुनिया के 200 से ज्यादा देशों में तबाही मचा रखी है. इसमें अमेरिका सबसे ज्यादा नुकसान में हैं. वहां अब तक तीन लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 8 हजार से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. वहीं नासा (NASA) का कामकाज जारी है. हाल ही में नासा ने चांद पर अपने बेस कैंप (Base Camp) के लिए मानव भेजने के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा है.

क्या है नासा का यह प्रस्ताव
नासा अपने आर्टिमस (Artemis) कार्यक्रम पर काम कर रहा है जिसका लक्ष्य मनुष्य को 2024 तक चांद पर पहुंचाना है. नासा ने हाल ही में अमेरिका के नेशनल स्पेस काउंसिल को दो अप्रैल  को एक रिपोर्ट जमा की है. यह परिषद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के लिए सलाहकार समूह की तरह काम करती है जिसकी अध्यक्षता उप राष्ट्रपति माइक पेन्स करते हैं.

लंबे समय तक चांद पर रुकने की योजना



नासा ने यह रिपोर्ट प्लान फॉर सस्टेंड लूनार एक्सपोरेशन एंड डेवेलपमेंट के नाम से जमा की है. इस 13 पेज रिपोर्ट में नासा ने अपनी योजना का सार लिखा है कि वह कैसे अपने 2024 के चांद पर जाने के मिशन को पूरा करेगी. इस रिपोर्ट में यह जानकारी भी दी गई है कि अमेरिका चांद पर दीर्घकालिक उपस्थिति से क्या हासिल करेगा.



AStronauts
नासा चांद पर लंबे समय के लिए लोगों को भेजने की तैयारी कर रहा है.


नासा के मंगल अभियान के लिए मदद मिलेगी
नासा के प्रशासक जिम ब्रिडनस्टाइन ने रिपोर्ट के साथ जारी बयान में कहा, “आने वाले सालों में आर्टिमस हमारे लिए एक उत्तरी तारे की काम करेगा जब हम चांद के बारे और खोजबीन करेंगे, यह हमारे मंगल के पहले मानव अभियान के लिए मददगार साबित होगा.

चांद पर बेस कैम्प बनाने की है योजना
इस अभियान के तहत नासा की योजना चांद के साउथ पोल में आर्टिमस बेस कैम्प बनाने की है. नासा की योजना चांद और उसके आसपास कुछ शोध संबंधी गतिविधियां चलाने की हैं जहां लंबे समय तक लोग रह सकेंगे.

बेस कैम्प के लिए इन कामों की होगी प्राथमिकता
शुरुआती योजना में वैज्ञानिकों को वहां एक-दो महीने तक ठहराने की योजना है जिस दौरान वे चांद और ब्रह्माण्ड के बारे में अध्ययन करेंगे. नासा के मुताबिक दीर्घावधि में लैंडिंग पैड और रेडिएशन से बचाव की व्यवस्था के अतिरिक्त ऊर्जा, वेस्ट प्रबंधन, कम्यूनिकेशन जैसी जरूरतों पर काम होगा.

Moon
नासा की चांद पर बेस कैम्प बनाने की तैयारी है. (प्रतीकात्मक फोटो)


रिपोर्ट के मुताबिक यह बेस कैम्प अंतरिक्ष में अमेरिका के नेतृत्वकी बादशाहत का प्रतीक होगा जो आगे मानव को पहली बार मंगल पर ले जाने में मददगार साबित होगा.

क्या है नासा का मंगल के लिए अभियान
गौरतलब है नासा मंगल पर एक रोवर पहले ही भेज चुका है और अब मानव को वहां भेजने ले पहले  पर्सवियरेंस नाम दूसरा रोवर भेजने की तैयारी कर रहा है जो मंगल पर उसके मानव भेजने के अभियान की तैयारी के तहत भेजा जा रहा है. यह रोवर पूरी तरह से तैयार होने को है. उसके पहिए और पैराशूट उसमें लगाए जा चुके हैं और वह अपनी एक सेल्फी भी ले चुका है.

mars
मंगल ग्रह पर पर्सवियरेंस एक रोबोट वैज्ञानिक की तरह काम करेगा(तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है.)


कब तक तैयार करना है नासा को यह बेस
नासा की योजना 2028 चांद में अपना बेस इस तरह से तैयार करने की है जिससे वह मंगल पर जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के लिए पड़ाव की तरह काम करने लगे. हाल के दिनों में जहां पूरी दुनिया कोरोना वायरस से लड़ने में लगी है नासा के शोधकार्य जारी हैं. अमेरिका में अभी तक भारत की जैसा पूरी तरह से लॉकडाउन लागू नहीं किया गया है. जहां दुनिया में बाकी ज्यादातर आर्थिक और सामाजिक गतिविधियां ठप्प हैं वहीं  लोगों को नासा की गतिविधियों की जानकारी लगातार मिल रही है.

यह भी पढ़ें:

जानिए, सूरज की किरणें कोरोना वायरस पर क्या असर डालती हैं

पता नहीं लग पा रही है Covid-19 की मृत्यु दर, जानिए आखिर क्या है वजह

लोगों के साथ अलग-अलग बर्ताव कर रहा है कोरोना वायरस, जानिए क्यों हो रहा है ऐसा

अश्‍वेतों के अधिकार के लिए लड़ने वाले मार्टिन लूथर किंग की थीं 45 गर्लफ्रेंड

5 अप्रैल के वो 9 मिनट, नहीं हो सकती ग्रिड में गड़बड़ी, यह है वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2020, 8:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading