NASA के खोजी सैटेलाइट ने ढूंढे 66 बाह्यग्रह और 2100 दावेदार, अब ये है प्लान

NASA के खोजी सैटेलाइट ने ढूंढे 66 बाह्यग्रह और 2100 दावेदार, अब ये है प्लान
TESS टेलीस्कोप ने दो साल में बहुत से कीमती आंकड़े दिए जिससे खगोलविद 66 बाह्यग्रह खोज सके. (प्रतीकात्मक तस्वीर/ NASA)

नासा (NASA) के TESS अंतरिक्ष टेलीस्कोप की मदद से खगोलविदों ने दो साल में 66 बाह्यग्रह (Exoplanet) खोज निकाले हैं और 2100 पिंडों की पड़ताल हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 14, 2020, 8:43 PM IST
  • Share this:
पृथ्वी (Earth) के बाहर जीवन की संभावनाओं की तलाश में बाह्यग्रहों (Exoplanet) से वैज्ञानिकों को बहुत उम्मीद है. ये इन बाह्यग्रहों की खोज पर भी हाल ही में काफी शोध हुए हैं. हमारे सौरमंडल के बाहर इन ग्रहों की खोज के लिए नासा का एक खास टेलीस्कोप अंतरिक्ष काम कर रहा है. इस टेलीस्कोप ने अब तक 66 ऐसे ग्रहों की खोज की है और 2100 उम्मीदवारों की पहचान की है.

दो साल से कर रहा है TESS ये काम
दो साल पहले नासा ने ट्रांजिटिंग एक्जोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (TESS) अंतरिक्ष में छोड़ा था. नासा के मुताबिक तब से यह अब तक 66 नए बाह्यग्रह खोज चुका है. बाकी 2100 की पुष्टि करने पर खगोलविद काम कर रहे हैं.

कब खत्म हुआ था यह काम
TESS ने अपने आरंभिक मिशन में अब तक अंतरिक्ष के 75 प्रतिशत हिस्से का अवलोकन किया. नासा ने जानकारी दी कि यह मिशन पिछले महीने 4 जुलाई को खत्म हो गया है. लेकिन अब यह सैटेलाइट अपने अगले मिशन में लग गया है.



कीमती आंकड़े जमा किए हैं TESS ने
मैरीलैंड के ग्रीनबेल्ट में स्थित नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में TESS की प्रोजेक्ट वैज्ञानिक पैट्रिका बॉयड ने बताया, “TESS ने बहुत सारे उच्च गुणवत्ता के अवलोकन कर कीमती आंकड़े जमा किए हैं जो विज्ञान की विभिन्न शाखाओं के बहुत काम के हैं. अपने अगले मिशन में भी TESS को काफी सफलता मिल रही है.”

Asteroid
अंतरिक्ष यान के टेलीस्कोप के लिए अवलोकन करना आसान होता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


कैसे अवलोकन करता है TESS
TESS एक महीने तक आकाश की 24X96 डिग्री की पट्टी, जिन्हें सैक्टर कहा जाता है, पर नजर रखता है और अपने चार कैमरे से उनकी तस्वीरें लेता है. TESS के पहले मिशन ने अपने पहले साल में दक्षिणी आकाश के 12 सेक्टर्स का अवलोकन किया था जिसके बाद दूसरे साल में उत्तरी आकाश का अवलोकन किया था. अब अपने विस्तारित मिशन में TESS ने फिर से दक्षिणी आकाश की ओर रुख किया है. यह विस्तारित मिशन सितंबर 2022 में पूरा होगा.

NASA के आंकड़ों ने खगोलीय पिंड में दिखाया महासागर, वैज्ञानिकों में जागा कौतूहल

अब क्या करेगा TESS
एक साल तक दक्षिणी आकाश की तस्वीरें लेने के बाद TESS फिर से 15 महीनों तक उत्तरी आकाश का अवलोकन करेगा जिसमें वह उन हिस्सों की तस्वीरें लेगा जो उसने अब तक नहीं ली हैं. इसमें पृथ्वी के सूर्य का चक्कर लागने वाले तल का क्षेत्र शामिल है.

कैसे ग्रहों की  खोज करता है TESS
इस अभियान में TESS ने पहले पृथ्वी के आकार का जो ग्रह खोजा था उसका नाम TOI 700d था. यह अपने तारे की वासयोग्य क्षेत्र (Habitable Zone) में स्थित है. वासयोग्य क्षेत्र एक तारे उतनी दूरी का इलाका है जहां ग्रह के पथरीले होने के साथ तरल पानी के पाए जाने की संभावना होती है. हमारे सौरमंडल में ऐसे ग्रह शुक्र, पृथ्वी और मंगल हैं.



ये काम भी किए हैं TESS ने
TESS ने एक युवा तारे एयू माइक्रोस्कोपी (AU Microscopii) के पास नवनिर्मित ग्रह खोजा है और दो सूर्य के चक्कर लगाते हे एक नेप्च्यून के आकार का ग्रह भी खोजा है. ग्रहों की खोज के अलावा TESS ने हमारे सौरमंडल से निकले एक धूमकेतू और की तारों के विस्फोटों का अवलोकन किया है. इसके अलावा TESS ने सुदूर गैलेक्सी में  एक ब्लैकहोल से सूर्य के सामान तारे को दूर जाते हुए भी देखा है.

वैज्ञानिकों ने खोजा शुक्र ग्रह पर दशकों से छाया विशाल जहरीला बादल

आने वाला समय खगोलविदों के लिए बहुत से आंकड़े लाने वाला है. पृथ्वी पर मौजूद कई विशाल वेधशालाएं खुलने जा रही हैं तो कई उन्नत होने वाली हैं. लेकिन शोधकर्ताओं के नासा के वेब्ब टेलीस्कोप के प्रक्षेपण का इंतजार है जो अंतरिक्ष में जाकर इंफ्रारेड टेलीस्कोपी से खगोलविदों को आंकड़े मुहैया कराएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading